सोमवार, अक्टूबर 14, 2019

ईरान: 2015 परमाणु संधि को बचाने का आखिरी मौका विएना मुलाकात है

Must Read

त्रिपुरा : महिला सांसद के खिलाफ आक्रामक टिप्पणी करने वाला गिरफ्तार

अगरतला, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। त्रिपुरा के एक व्यक्ति को राज्य की पुलिस ने लोकसभा सदस्य प्रतिमा भौमिक के खिलाफ...

7 साल बाद फिर क्यों सुर्खियों में आया निर्भया गैंगरेप का केस

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर(आईएएनएस)। साल 2012 के दिसंबर में हुई निर्भया गैंगरेप की घटना ने देश को हिला कर...

शरद रंगोत्सव में कवियों ने बांधा समां

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश भर से यहां आए एक दर्जन से अधिक कवियों-कवित्रियों की उपस्थिति में यहां...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

ईरान ने शुक्रवार को चेतावनी दी कि वियना में आयोजित 2015 परमाणु संधि के दस्तखत करने वाले देशों की मुलाकात इस संधि को बचाने का आखिरी मौका है। इस संधि के शेष सदस्य चीन, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, ईरान और यूरोपीय संघ ऑस्ट्रियन की राजधानी में मुलाकात करेंगे। शुक्रवार को तेहरान ने चेतावनी दी थी कि वह इस संधि की कुछ प्रतिबद्धताओं से पीछे हट सकता है और यूरेनियम के उत्पादन के स्तर को बढ़ा सकता है।

ईरान के उप विदेश मंत्री और वरिष्ठ परमाणु वार्ताकार अब्बास अरकची ने पत्रकारो से कहा कि यह एक कदम आगे की तरफ है लेकिन यह अभी भी पर्याप्त नही हैऔर ईरान की उम्मीदों के माफिक मुलाकात नही है। मेरे ख्याल से आज की प्रगति हमारी प्रक्रिया को रोकने में नाकाम साबित होगी लेकिन इसका निर्णय तेहरान ही करेगा।”

अमेरिका ने बीते वर्ष इस संधि से खुद को अलग कर लिया था और ईरान पर सभी प्रतिबंधों को वापस थोप दिया था। इन संधि के तहत ईरान की परमाणु गतिविधियों को सीमित रखा गया था।

अमेरिका ने ईरान को नई डील पर रज़ामंदी के लिए और वार्ता की टेबल पर लाने के लिए दबाव को बढ़ा दिया था। ईरान के तेल के निर्यात को शून्य कर दिया है और सभी देआहों को दी गयी रियायत को खत्म कर दिया है जिसके कारण तेहरान ने यूरेनियम के उत्पादन को बढ़ाने की धमकी दी है।

ईरान ने कहा था कि वह जुलाई के शुरुआत में यूरेनियम की क्षमता को 3.67 प्रतिशत से अधिक बढ़ा देगा। ईयू ने शुक्रवार को बयान में कहा कि जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन ईरान के साथ एक ट्रेड चैनल बढ़ाएंगे।

जिसका मकसद इस्लामिक गणराज्य पर अमेरिका के प्रतिबंधों को कम करना होगा। वार्ता में चीन के प्रतिनिधि फु कोंग ने कहा कि बीजिंग अमेरिका के प्रतिबंधों के बावजूद ईरानी तवल का आयात करना जारी रखेगा। हम एकतरफा  प्रतिबंधों को खारिज करते है। हमारे लौए ऊर्जा सुरक्षा महत्वपूर्ण है। ईरानी तेल का आयात चीन की ऊर्जा सुरक्षा और लोगो के जीवन के लिए बेहद अहम है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

त्रिपुरा : महिला सांसद के खिलाफ आक्रामक टिप्पणी करने वाला गिरफ्तार

अगरतला, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। त्रिपुरा के एक व्यक्ति को राज्य की पुलिस ने लोकसभा सदस्य प्रतिमा भौमिक के खिलाफ...

7 साल बाद फिर क्यों सुर्खियों में आया निर्भया गैंगरेप का केस

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर(आईएएनएस)। साल 2012 के दिसंबर में हुई निर्भया गैंगरेप की घटना ने देश को हिला कर रख दिया था। अब सात...

शरद रंगोत्सव में कवियों ने बांधा समां

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश भर से यहां आए एक दर्जन से अधिक कवियों-कवित्रियों की उपस्थिति में यहां रविवार को नटरंग शरद रंगोत्सव...

विजय हजारे ट्रॉफी : महाराष्ट्र 3 विकेट से जीता

वडोदरा, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। अजीम काजी के शानदार 84 रनों की मदद से महाराष्ट्र ने यहां खेले गए विजय हजारे ट्रॉफी के मैच में...

चीन-नेपाल मैत्री की जड़ मजबूत

बीजिंग, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शनिवार को काठमांडू में नेपाली राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के साथ मुलाकात की। दोनों ने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -