Sat. Apr 20th, 2024

    गुरुवार को आयोजित 13वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन ने अफगानिस्तान में स्थिरता के लिए “समावेशी इंट्रा-अफगान वार्ता” का आह्वान किया। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में वर्चुअल शिखर सम्मेलन पर अफगानिस्तान के घटनाक्रम की चर्चा हावी रही और इसके साथ ब्रिक्स आतंकवाद विरोधी कार्य योजना को भी अपनाया गया।

    प्रधान मंत्री मोदी ने शिखर सम्मेलन के एजेंडे के प्रमुख विषयों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि, “हमने ब्रिक्स काउंटर टेररिज्म एक्शन प्लान को भी अपनाया है। हमारी अंतरिक्ष एजेंसियों के बीच रिमोट सेंसिंग सैटेलाइट पर समझौते के साथ सहयोग का एक नया अध्याय शुरू हो गया है।”

    भारत, रूस, चीन, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका के नेताओं द्वारा आयोजित कार्यक्रम में अफगानिस्तान पर चर्चा काबुल में एक अंतरिम सरकार की घोषणा करने वाले तालिबान की पृष्ठभूमि के खिलाफ आयोजित की गई थी। ब्रिक्स नेताओं ने “शांतिपूर्ण तरीकों से स्थिति को निपटाने” का आह्वान किया, और हामिद करजई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आतंकवादी हमलों की निंदा की, जिसमें कई अमेरिकी सैन्य कर्मियों सहित कम से कम 100 लोग मारे गए थे।

    शिखर सम्मेलन के अंत में जारी एक संयुक्त बयान की घोषणा में कहा कि, “हम एक समावेशी अंतर-अफगान संवाद को बढ़ावा देने में योगदान करने की आवश्यकता पर बल देते हैं ताकि देश में स्थिरता, नागरिक शांति, कानून और व्यवस्था सुनिश्चित हो सके। हम आतंकवाद से लड़ने की प्राथमिकता को रेखांकित करते हैं, जिसमें आतंकवादी संगठनों द्वारा अफगान क्षेत्र को आतंकवादी पनाहगाह के रूप में इस्तेमाल करने और अन्य देशों के खिलाफ हमले करने के प्रयासों को रोकना शामिल है।”

    नई दिल्ली घोषणा शीर्षक वाले दस्तावेज़ ने अफगानिस्तान में मानवीय स्थिति को संबोधित करने का भी आह्वान किया, और महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों के अधिकारों को बनाए रखने की आवश्यकता का आग्रह किया।

    बैठक ने ब्रिक्स देशों को अफगानिस्तान की स्थिति पर चर्चा करने का अवसर दिया। पांच सदस्यों में से दो – रूस और चीन – की काबुल में एक राजनयिक उपस्थिति जारी है जहां एक अंतरिम तालिबान सरकार के कुछ दिनों में औपचारिक प्रभार लेने की उम्मीद है।

    रूस और चीन से अलग अन्य ब्रिक्स देश स्पष्ट रूप से तालिबान के साथ इस मुद्दे पर सक्रिय नीति अपनाने के लिए विभाजित हैं। एक रूसी मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि तालिबान ने शपथ ग्रहण समारोह के लिए तुर्की, कतर, चीन और ईरान को आमंत्रित किया है।

    By आदित्य सिंह

    दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *