Tue. Jun 18th, 2024
    शिरडी रेलवे स्टेशन विकसित

    भारत में विभिन रेलवे स्टेशनों को तेजी से विकसित किया जा रहा है। हम देख चुके हैं कैसे वाराणसी और जयपुर रेलवे स्टेशनों को रैलवय विभाग द्वारा पूरी तरह बदल दिया गया और उन्हें एअरपोर्ट के सामान बना दिया गया है। इसके साथ ही यहाँ उपलब्ध सुविधाओं को भी बढ़ा दिया गया है।

    इन रेलवे स्टेशनों पर विकास कार्य के अंतर्गत सुविधाओं का स्तर बढ़ाया जा रहा है जैसे बेहतर लाइटिंग, मॉडर्न वाशरूम, एस्केलेटर्स, एसी लाउन्ज और एअरपोर्ट जैसा लुक आदि। निम्न सुविधाएं प्रदान कर इन रेलवे स्टेशनों को भी एयरपोर्ट जैसा बनाया जा रहा है। इसी पहल के अंतर्गत हाल ही में शिरडी रेलवे स्टेशन पर भी विकास कार्य किया गया है और इसे अब बिलकुल अन्तर्रष्ट्रीय स्तर का रेलवे स्टेशन बना दिया गया है।

    पीयूष गोयल ने ट्वीट कर दी जानकारी :

    इस स्टेशन के निर्माण कार्य ख़त्म होने की जानकारी रेलमंत्री पियूष गोयल ने ट्विटर पर दी। उन्होंने ट्विटर पर कहा की साई नगर शिरडी और सोलापुर स्टेशनों को विकसित किया गया है और लिफ्ट, फुट ओवर ब्रिज, फूड प्लाजा, सीसीटीवी और वाईफाई सुविधा से लैस किया गया है। इन सुविधाओं ने स्टेशन को एक नया रूप दिया है, यात्री इन सुविधाओं का पूरा लाभ उठा रहे हैं।

    देखें शिरडी रेलवे स्टेशन की फोटो :

     पहल की पूरी जानकारी :

    रेलवे की इस पहल के बारे में पूरी जानकारी :

    रेलवे विभाग की इस पहल के अंतर्गत जयपुर जंक्शन सहित भारतीय रेलवे के नेटवर्क पर कुल 35 स्टेशनों में 28 फरवरी 2019 तक सुधार किया जाना था। हालांकि, जयपुर रेलवे डिवीजन ने निर्धारित समय सीमा से काफी पहले यह लक्ष्य हासिल कर लिया।

    35 रेलवे स्टेशनों में से, जयपुर जंक्शन और अजमेर रेलवे स्टेशनों को उत्तर पश्चिम रेलवे क्षेत्र से चुना गया था। इस पहल के लिए रेलवे बोर्ड द्वारा कंसर्ट हॉल, स्टेशन प्लेटफॉर्म, सर्कुलेटिंग एरिया, वेटिंग रूम, रिजर्वेशन काउंटर, इंक्वायरी काउंटर, फुट ओवर ब्रिज (एफओबी), सीढ़ियाँ, पार्किंग एरिया, एस्केलेटर की प्रकाश व्यवस्था की स्थिति में सुधार के लिए एक योजना भी बनाई गई थी।

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *