Thu. Jun 13th, 2024
    हजरत निजाम्मुद्दीन रालिव्या स्टेशन का पुनर्विकास

    भारत के विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों का अनुभा अच्छा बनाने के लिए और रेलवे स्टेशनों का नवीनीकरण करने के लिए भारतीय रेलवे विभाग द्वारा पिछले वर्ष से एक पहल चलाई जा रही है जिसके अंतर्गत विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर नयी और उन्नत सुविधाएं प्रदान करके उनका नवानीकरण किया जा रहा है।

    इसी पहल के अंतर्गत हाल ही में भारतीय रेलवे द्वारा दिल्ली के सबसे अहम् स्टेशन हज़रत निज़ामुद्दीन का नवीनीकरण किया गया है जिसके अंतर्गत इस स्टेशन के पुनर्विकास अभियान के साथ, रेलवे पुलों पर बेहतर फुट निर्माण कर रहा है, एस्केलेटर और लिफ्ट स्थापित कर रहा है, एलसीडी डिस्प्ले पैनल आदि सर्कुलेटिंग एरिया, पार्किंग, वेटिंग रूम, बुकिंग हॉल और शौचालय को भी उन्नत बनाया जा रहा है। रेलवे जल्द ही सभी स्टेशनों पर हवाई अड्डे की मानक रोशनी के लिए भी काम कर रहा है।

    हज़रत निज़ामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर हुए ये बदलाव :

    इस पुर्नविकास पहल के अंतर्गत इस रेलवे स्टेशन पर बाहर से अंदर तक, इसे बेहतर बनाने के लिए बुनियादी ढांचे को बदला जा रहा है। हरे रंग के पैच और फव्वारे के साथ परिसंचारी और पार्किंग क्षेत्र को सुशोभित किया गया है। यात्रियों को बाहर निकलने के रास्ते में एक हरे रंग का पैच दिखाई देगा। रोशनी में भी सुधार किया जा रहा है। वेटिंग हॉल और रिटायरिंग रूम को चमकीले रंगों और आधुनिक सुविधाओं के साथ अपग्रेड किया जा रहा है।

    बुनियादी ढाँचे के विकास के साथ साथ परिसर में सुंदरता बढ़ाने पर भी ध्यान दिया जा रहा है। इसी के लिए स्टेशन परिसर में ओखला छोर 1 से प्लेटफार्म तक बेहद सुन्दर कलाकृतियाँ लगाई गयी हैं, इसके साथ ही बरामदे और वेटिंग हॉल में विभिन्न पेंटिंग लगाई गयी है और इससे पूरा परिसर बेहद सुन्दर हो गया है।

    हज़रत निजामुदीन रेलवे स्टेशन की कुछ फोटो:

    हज़रत निजामुदीन रेलवे स्टेशन का पुनर्विकास

    रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास पहल की पूरी जानकारी :

    रेलवे विभाग की इस पहल के अंतर्गत जयपुर जंक्शन सहित भारतीय रेलवे के नेटवर्क पर कुल 35 स्टेशनों में 28 फरवरी 2019 तक सुधार किया जाना था। हालांकि, जयपुर रेलवे डिवीजन ने निर्धारित समय सीमा से काफी पहले यह लक्ष्य हासिल कर लिया।

    35 रेलवे स्टेशनों में से, जयपुर जंक्शन और अजमेर रेलवे स्टेशनों को उत्तर पश्चिम रेलवे क्षेत्र से चुना गया था। इस पहल के लिए रेलवे बोर्ड द्वारा कंसर्ट हॉल, स्टेशन प्लेटफॉर्म, सर्कुलेटिंग एरिया, वेटिंग रूम, रिजर्वेशन काउंटर, इंक्वायरी काउंटर, फुट ओवर ब्रिज (एफओबी), सीढ़ियाँ, पार्किंग एरिया, एस्केलेटर की प्रकाश व्यवस्था की स्थिति में सुधार के लिए एक योजना भी बनाई गई थी।

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *