Wed. Apr 24th, 2024
    DIGVIJAY SINGH

    कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने रविवार को भाजपा नेताओं से “जाति और पंथ” की राजनीति में भगवान हनुमान को “घसीटने” के लिए माफी की मांग की। सिंह ने यह भी कहा कि विहिप और अखाड़ा परिषद जैसे हिंदू निकायों को भगवान शिव के अवतार के रूप में पूजे जाने वाले हिंदू देवता को लेकर भाजपा नेताओं द्वारा दिए गए बयानों की निंदा करनी चाहिए।

    उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा “आदित्यनाथ जी ने कहा कि भगवान हनुमान दलित थे। भाजपा के एमएलसी नवाब बुक्कल ने देवता को इस आधार पर मुस्लिम करार दिया कि उनका नाम रहमान, फरहान, रमजान आदि इस्लामिक नामों के साथ है। भाजपा के एक अन्य मंत्री ने कहा कि हनुमान एक  जाट थे“।

    सिंह ने कहा कि “हिंदू, भगवान हनुमान को भगवान शिव का अवतार मानते हैं। आप हनुमान जी को जाति और पंथ की राजनीति में घसीट रहे हैं, आप किस धर्म का अनुसरण कर रहे हैं? मुझे इस पर कड़ी आपत्ति है। आप इस तरह की बात करने वाले कौन हैं, आपको (भाजपा नेताओं को) माफी मांगनी चाहिए।”

    कांग्रेस के दिग्गज ने मांग की कि अखाड़ा परिषद, 13 प्रमुख अखाड़ों, विश्व हिंदू परिषद (VHP) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) जैसे संगठनों को भाजपा नेताओं द्वारा दिए गए बयानों की निंदा करनी चाहिए लेकिन उन्होंने चुप्पी साध रखी है।”

    हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों के प्रचार के दौरान एक जनसभा को संबोधित करते हुए, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महाकाव्य रामायण के केन्द्रीय पात्रों में से एक भगवान हनुमान को दलित कहा था। उसके बाद से एक एक कर कई भाजपा नेताओं ने हनुमान को अलग अलग जाती का बता दिया। बुक्कल नवाब ने मुसलमान कहा तो योगी सरकार में धार्मिक मामलों के मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने हनुमान को जाट बताया।

    ये भी पढ़ें: अब भाजपा नेता लक्ष्मी नारायण चौधरी ने बताया हनुमान जी को जाट

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *