रविवार, दिसम्बर 8, 2019

स्पेक्ट्रम नीलामी प्रक्रिया की तैयारी में दूरसंचार मंत्रालय : सूत्र

Must Read

अमेरिकी राजनयिकों पर चीन ने उठाया जवाबी कदम

अमेरिका द्वारा चीनी राजनयिकों पर लगाए गए प्रतिबंध के मद्देनजर चीन ने जवाबी कदम उठाते हुए अमेरिकी राजनयिकों पर...

जीएसटी परामर्श दिवस पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सुझाव मांगे

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लिए रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए...

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

नई दिल्ली, 29 मई (आईएएनएस)| दूरसंचार मंत्रालय स्पेक्ट्रम नीलामी के लिए निविदा आमंत्रित करने की प्रक्रिया में जुटा है और निविदा संबंधित नोटिस सितंबर में जारी किया जाता सकता है। जबकि स्पेक्ट्रम की नीलामी नवंबर में हो सकती है। यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों ने दी।

सूत्रों ने बताया कि 5जी स्पेक्ट्रम ट्रॉयल आवंटन समेत मंत्रालय के प्रमुख कार्यक्रमों के साथ-साथ निविदा आमंत्रण सूचना की तैयारी चल रही है।

मंत्रालय की समय-सारणी के अनुसार, निविदा आमंत्रण सूचना सितंबर में जारी की जाएगी और स्पेक्ट्रम की नीलामी नवंबर में होगी।

भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने करीब 8,644 मेगाहट्र्ज आवृत्ति के बैंड के स्पेक्ट्रम नीलामी की अनुशंसा की है, जिसका अनुमानित आधार मूल्य (बेस प्राइस) पांच लाख रुपये है। इसमें 5जी सेवा के लिए रेडियो तरंगें भी शामिल हैं।

दुनियाभर में दूरसंचार कंपनियों द्वारा हाई स्पीड की सेवा आरंभ किए जाने के साथ-साथ भारत भी 2020 तक 5जी सेवा शुरू करना चाहता है।

दक्षिण कोरिया का उदाहरण देते हुए उद्योग द्वारा की जा रही मांग को लेकर 5जी स्पेक्ट्रम की कीमतों में किसी प्रकार के संशोधन को लेकर पूछे गए सवाल पर सूत्रों ने बताया कि दूरसंचार कंपनियां पब्लिक और राइट इश्यू के जरिए अपने नेटवर्क का विस्तार करने व अपग्रेड करने के लिए वित्तपोषण करती हैं और उन्हें 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी कोष के लिए इसी तरह का बजट बनाना होगा।

उद्योग ने इतनी ऊंची कीमत पर एयरवेव खरीदने में अपनी अक्षमता जाहिर की है।

ट्राई ने 3300-3600 मेगाहट्र्ज बैंड के 5जी स्पेक्ट्रम के लिए 492 करोड़ रुपये प्रति मेगाहट्र्ज की सुरक्षित कीमत की सिफारिश की है, जोकि पूरे भारत में कम से कम 20 मेगाहट्र्ज के लिए है। इस प्रकार एक ऑपरेटर को 9,840 करोड़ रुपये चुकाने होंगे, जिसे वे काफी ज्यादा मानते हैं।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

अमेरिकी राजनयिकों पर चीन ने उठाया जवाबी कदम

अमेरिका द्वारा चीनी राजनयिकों पर लगाए गए प्रतिबंध के मद्देनजर चीन ने जवाबी कदम उठाते हुए अमेरिकी राजनयिकों पर...

जीएसटी परामर्श दिवस पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सुझाव मांगे

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लिए रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए सुझाव आमंत्रित किए हैं। केंद्र...

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए शनिवार को न्यूजीलैंड को...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है। एंडरसन एशेज सीरीज के पहले...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के खिलाफ मोर्चेबंदी की। सपा, कांग्रेस...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -