दा इंडियन वायर » शिक्षा » सोशल मीडिया का बच्चों पर प्रभाव
टैकनोलजी शिक्षा

सोशल मीडिया का बच्चों पर प्रभाव

क्या आपने कभी सोचा है कि एक दिन में आप फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर कितना समय बिताते हैं?

हम सभी जानते हैं कि सोशल मीडिया का विस्तार तेजी से हो रहा है। हर दिन अपने मोबाइल पर आने वाले सभी रोमांचक अपडेट का पता लगाने के लिए हमारे युवा एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं। लेकिन हम सभी जानते हैं कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं।

इस लेख में हम सोशल मीडिया के प्रभाव जानने की कोशिश करेंगे।

सोशल मीडिया का बच्चों पर प्रभाव (effect of social media on youth in hindi)

सोशल मीडिया के फायदे हैं तो इसके नुकसान भी हैं। आइए उनमें से कुछ पर प्रकाश डालें।

सोशल मीडिया पर व्यतीत समय

हाल के सर्वेक्षणों में पता चला है कि हर व्यक्ति औसतन प्रति दिन कम से कम 1.8 घंटे सोशल मीडिया पर खर्च करता है। यह भी संभव है कि हम में से अधिकांश लोग सोने में जितना समय बिताते हैं, उससे अधिक समय गूगल पर सर्फ करने में बिताते हैं। कम्प्यूटर के इस युग में, सब कुछ डिजिटल हो गया है। इसलिए इंटरनेट इस्तेमाल से बचना लगभग असंभव है।

सोशल मीडिया के फायदे (positive impact of social media on youth in hindi)

सोशल मीडिया का उपयोग कई ऐसे तरीकों से किया जा सकता है जो समाज में सकारात्मक और उत्पादक विचारों को बढ़ावा देते हैं। ये सकारात्मक व्यवहार सोशल मीडिया को युवा लोगों के लिए एक अमूल्य उपकरण बनाते हैं अगर सही तरीके से उपयोग किया जाए।

नीचे कुछ ऐसे तरीके बताए गए हैं जिनसे सोशल मीडिया का इस्तेमाल युवाओं को फायदा पहुंचाने के लिए किया जा सकता है:

1. युवा लोगों को शिक्षित करने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग किया जा सकता है। सोशल मीडिया पर एक ही समय में आप अधिक से अधिक लोगों तक पहुँच सकते हैं। लोग विभिन्न विषयों पर अपनी राय व्यक्त करने के लिए YouTube का उपयोग करना पसंद करते हैं। इस प्रक्रिया में, वे लाखों लोगों तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं।

2. सोशल मीडिया ने अधिक युवा लोगों को रचनात्मक बनने में सक्षम बनाया है। सोशल मीडिया साइट्स ज्यादातर सक्रिय भागीदारी पर निर्भर रहती हैं। इससे ऐसा होता है कि युवा अधिक सोचते हैं और जानकारी साझा करते समय नई सामग्री के साथ आते हैं। इससे वे रचनात्मक बनते हैं।

3. सोशल मीडिया बच्चों को अधिक आत्मविश्वास और स्वतंत्र बनने के लिए कौशल देता है। सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर जुड़ना युवाओं के लिए एक नयी हॉबी हो सकती है। यह एक नई जगह की खोज करने जैसा है जहां विभिन्न कौशल की आवश्यकता होती है। युवा लोग अपने चरित्र को अधिक आत्मविश्वास और स्वतंत्र रूप से ढालना सीखते हैं ताकि उन्हें सुना जा सके। यह अंततः उनके दैनिक जीवन में भी अच्छा असर डालता है।

4. सोशल मीडिया के माध्यम से पेशेवर लोगों से ज्ञान प्राप्त करना बहुत आसान हो गया है। अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए आप आसानी से किसी को भी फॉलो कर सकते हैं।

5. सोशल मीडिया की मदद से शिक्षा बहुत सुविधाजनक हो गई है। छात्र आसानी से कक्षा के काम या असाइनमेंट के लिए महत्वपूर्ण डेटा साझा कर सकते हैं। यह प्रोजेक्ट रिपोर्ट और अन्य शैक्षिक उद्देश्यों को तैयार करने के लिए जानकारी एकत्र करने के लिए भी प्रभावी है।

6. लिंक्डइन, Naukri.com इत्यादि जैसी सोशल साइट्स, रोजगार प्रक्रिया को आसान बनाती है। यह उन उम्मीदवारों को अवसर देती है जो विशेष रूप से किसी जॉब प्रोफ़ाइल की तलाश कर रहे हैं।

7. किसी भी चीज़ का विज्ञापन करने का सबसे तेज़ तरीका उसे सोशल साइट्स पर अपलोड करना है। किसी अन्य मीडिया जैसे रेडियो, टेलीविजन या समाचार पत्रों की तुलना में सोशल मीडिया समाचारों या सूचनाओं को पहुंचाने में तेज है।

8. कई वर्षों के दौरान, सोशल मीडिया ने लोगों को अपने दूर के दोस्तों, रिश्तेदारों और अन्य प्रभावशाली लोगों के संपर्क में रहने में मदद की है, जो अन्यथा असंभव था। इसलिए सोशल मीडिया असंख्य चीजों को बढ़ावा देने और उन्हें सुविधाजनक बनाने के लिए एक उत्कृष्ट मंच साबित हुआ है।

सोशल मीडिया के नुकसान (negative effect of social media on youth in hindi)

कोई भी अच्छी चीज बिना नुकसान के नहीं आती है। सोशल मीडिया जितना प्रभावी है, उतनी ही संभावना है कि आप इसे गलत उद्देश्यों के लिए उपयोग कर रहे हैं। लोग सोशल साइट्स पर घंटों तक समय बर्बाद कर रहे हैं।

  1. अधिकांश साइटों पर पहले एक आयु सीमा हुआ करती थी, लेकिन अब उसके जाने के साथ, युवा बढ़ती दर पर गलत वेबसाइट पर जा रहे हैं। और उनकी कम आयु के कारण, वे आमतौर पर साइबर क्राइम के शिकार होते हैं। इससे युवाओं के मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव पड़ता है।
  2. फेसबुक डिप्रेशन एक भावनात्मक समस्या है जो सोशल मीडिया के उपयोग से जुड़ी है। जब एक युवा को अपने सोशल मीडिया दोस्तों से हीनता महसूस होती है, तो वे अक्सर अवसाद में पड़ जाते हैं जिसे आमतौर पर फेसबुक अवसाद कहा जाता है।
  3. नींद का अभाव: सोशल मीडिया, आज किशोरावस्था में नींद न आने के प्रमुख कारणों में से एक है। बच्चे लगातार इस बात को लेकर चिंतित रहते हैं कि उनके दोस्त क्या पोस्ट कर रहे हैं और साझा कर रहे हैं। अगर सोने के समय या सोने से ठीक पहले वे ऐसा करते हैं, तो उनकी नींद बाधित होने की बहुत अधिक संभावना है।
  4. आज छात्रों पर सोशल मीडिया के नकारात्मक प्रभाव आसानी से देखे जा सकते हैं। विभिन्न कार्यों, जैसे कि स्कूलवर्क, क्लासवर्क या होमवर्क, आदि को पूरा करने के लिए अधिक एकाग्रता की आवश्यकता होती है, लेकिन अब किशोरों को सोशल मीडिया का उपयोग करने की आदत है। उनमें से ज्यादातर इसे मल्टीटास्किंग मानते हैं लेकिन ऐसा नहीं है। शोध बताते हैं कि बार-बार ब्रेक लेने का ध्यान पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है और यह सीखने और प्रदर्शन को कम करता है।
  5. किशोरों के बीच अनियंत्रित सोशल मीडिया के उपयोग से इंटरनेट की लत लग सकती है। बच्चे जितना अधिक समय सोशल मीडिया पर बिताते हैं, वे उतनी ही नई कहानियों और विचारों के संपर्क में आते हैं जो वे तलाशना चाहते हैं। यह आदत अंततः एक लत में बदल जाती है जिसे अगर जल्द संभाला नहीं गया तो उनके स्कूल के प्रदर्शन, मानसिक स्वास्थ्य और यहां तक ​​कि व्यक्तिगत विकास भी प्रभावित हो सकता है।

हम इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकते हैं कि सोशल मीडिया न केवल हमारे जीवन का हिस्सा बन गया है, बल्कि हमारा जीवन इसके चारों ओर घूमने लगा है। बहुत कम लोग सोशल मीडिया से दूर रह सकते हैं।

सोशल नेटवर्किंग सूचना और संचार का एक बहुत व्यापक स्रोत है लेकिन साथ ही साथ यह नुकसानदायक भी हो सकता है। अंत में विकल्प हमारे सामने है कि हम कौन सा रास्ता लेना चाहते हैं?

इस लेख से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

About the author

पंकज सिंह चौहान

पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!