दा इंडियन वायर » स्वास्थ्य » सेप्सिस (रक्त संक्रमण): लक्षण, कारण और उपचार
स्वास्थ्य

सेप्सिस (रक्त संक्रमण): लक्षण, कारण और उपचार

सेप्सिस sepsis in hindi

आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली हमेशा आपको संक्रमण और बीमारियों से बचाती है। लेकिन ऐसे कई उदाहरण हो सकते हैं जहां यह आपके शरीर पर हमला कर सकता है। इससे सेप्सिस अर्थात रक्त संक्रमण होता है।

चिकित्सकीय रूप से सेप्टिसिमीया के रूप में जाना जाता है, सेप्सिस एक ऐसी जटिलता है जो आपके शरीर के संक्रमण के प्रति प्रतिक्रिया का कारण होती है। यद्यपि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपको संक्रमण से बचाने के लिए माना जाता है, फिर भी यह संक्रमण के जवाब में कभी-कभी अधिक आगे जा सकता है।

सेप्सिस विकसित होता है जब संक्रमण से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा छोड़े गए रसायनों से आपके शरीर में सूजन हो जाती है।

सेप्सिस के लक्षण (sepsis symptoms in hindi)

  • त्वचा मलिनकिरण
  • पेशाब घट जाना
  • सोचने की क्षमता में परिवर्तन
  • प्लेटलेट गिनती में गिरावट
  • साँस की परेशानी
  • दिल की असामान्य कार्यप्रणाली
  • ठंड लगना
  • कमजोरी और चक्कर आना

सेप्सिस के कारण (causes of sepsis disease in hindi)

  • पेट में संक्रमण
  • निमोनिया
  • गुर्दे में संक्रमण
  • रक्त प्रवाह में संक्रमण

सेप्सिस का इलाज (sepsis treatment in hindi)

1. हल्दी

हल्दी में एक यौगिक होता है जिसे कर्क्यूमिन कहा जाता है जिसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो सेप्सिस संक्रमण से निपटने में मदद करते हैं।

सामग्री:

  • 1 चम्मच पीसी हुई हल्दी
  • 1 गिलास गर्म दूध
  • शहद(ऐच्छिक)

कैसे इस्तेमाल करें?

  • हल्दी को दूध में मिला लें।
  • इसे मिला लें और ठंडा होने दें।
  • इसका स्वाद बढाने के लिए इसमें थोडा शहद डाल लें।
  • तुरंत पी लें।

इसे प्रतिदिन एक बार पीयें, कोशिश करें कि रात में।

2. लहसुन

लहसुन (एसएमएफएम) में एक प्राकृतिक यौगिक सेप्सिस (2) के खिलाफ चिकित्सीय प्रभाव प्रदर्शित करता है। यह इसके एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी माइक्रोबियल गुणों के कारण हो सकता है।

सामग्री:

  • बारीक कटी हुई लहसुन की कलियाँ

कैसे इस्तेमाल करें?

  • कटे हुए लहसुन को अपने आहार में डालें।
  • कच्चा लहसुन आप चबाकर भी खा सकते हैं।

इसका प्रतिदिन सेवन करें।

3. शहद

शहद सेप्सिस को अपनी इम्मुनोमोडूलेट्री गुण और एंटी माइक्रोबियल और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के साथ इलाज में मदद कर सकते हैं।

सामग्री:

  • 2 बड़े चम्मच शहद

कैसे इस्तेमाल करें?

  • प्रतिदिन 2 बड़े चम्मच शहद खा लें।

सेप्सिस से लड़ने के लिए प्रतिदिन शहद का सेवन करें।

4. विटामिन सी

सेप्सिस से प्रभावित व्यक्तियों में विटामिन सी का संचलन स्तर कम होता है। इसलिए, विटामिन सी की खुराक लेना इस असंतुलन को बहाल करने में मदद कर सकता है।

सामग्री:

  • 500 मिलीग्राम विटामिन सी सप्लीमेंट

कैसे इस्तेमाल करें?

  • 500 मिलीग्राम विटामिन सी के सप्लीमेंट प्रतिदिन लें।
  • आप विटामिन सी की आवश्यकता को पूरा करने के लिए खट्टे फलों का सेवन भी कर सकते हैं।

इसे प्रतिदिन 1-2 बार लें।

5. मूंग बीन्स

मुंग बीन्स का व्यापक रूप से चीन में उनके पोषण और एंटी इंफ्लेमेटरी लाभ के लिए उपयोग किया जाता है। मूंग बीन्स का चिकित्सीय प्रभाव उनके कोट में एक जलीय एक्सट्रेक्ट की उपस्थिति के कारण होता है जो सेप्सिस के खिलाफ आपकी जीवित रहने की दर को बढ़ा सकता है।

सामग्री:

  • 1/2 कप पकी हुई मूंग बीन्स

कैसे इस्तेमाल करें?

  • आधा कप पकी हुई मूंग बीन्स का सेवन कर लें।
  • इसे आप ऐसे ही खा सकते हैं या फिर अपने प्रिय व्यंजन में डालकर।

इसका प्रतिदिन सेवन करें।

6. जीरे का आवश्यक तेल

जीरा आवश्यक तेल में शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो लिवर की चोट की तरह सेप्टिक से संबंधित ऑक्सीडेटिव चोटों को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। इसलिए, इस तेल का नियमित उपयोग सेप्सिस के इलाज में मदद कर सकता है।

सामग्री:

  • 1-2 बूँद जीरा आवश्यक तेल
  • 1 गिलास गर्म पानी

कैसे इस्तेमाल करें?

  • एक गिलास गर्म पानी के लिए एक या दो बूँद खाद्य जीरा आवश्यक तेल जोड़ें।
  • इसे प्रतिदिन पीयें।

इसका प्रतिदिन सेवन करें।

इस विषय से सम्बंधित यदि आपका कोई सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

About the author

दिव्या

4 Comments

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!