शनिवार, जनवरी 25, 2020

सेंट स्टीफेंस कॉलेज में ईसाइयों के लिए कटऑफ संबंधी याचिका खारिज

Must Read

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 : भाजपा को बड़ा झटका, पूर्व विधायक हरशरण सिंह बल्ली आप में शामिल

दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले यहां नेताओं के दल बदलने का सिलसिला जारी है। नवीनतम घटनाक्रम में भारतीय जनता...

दिल्ली : राष्ट्रपति भवन में हुआ ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारोका रस्मी स्वागत

राष्ट्रपति भवन में शनिवार को ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो का रस्मी स्वागत किया गया, जिसके बाद उन्होंने कहा...

यूएई : भारत के गणतंत्र दिवस का जश्न शुरू

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में रह रहे भारतीय प्रवासी रविवार के दिन यहां अपने देश भारत का गणतंत्र दिवस...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

नई दिल्ली, 17 जुलाई (आईएएनएस)| दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें सेंट स्टीफेंस कॉलेज के स्नातक कोर्स में दाखिले के लिए आवेदकों के ईसाई अनुसूचित जनजाति (सीएसटी), ईसाई अन्य (सीओटीएच) व ईसाई शारीरिक विकलांग (सीपीएच) श्रेणी के लिए कटऑफ मार्क में कथित तौर पर व्यापक विसंगतियां पाई जाने की बात कही गई थी। मुख्य न्यायाधीश डी.एन.पटेल की अध्यक्षता वाली पीठ ने नंदिता नारायण द्वारा दायर याचिका को खारिज कर दिया। नंदिता नारायण, कॉलेज में प्राध्यापक हैं।

इस पीठ में न्यायमूर्ति सी. हरिशंकर भी शामिल हैं।

नारायण ने अपनी याचिका में दलील दी है कि ईसाई आरक्षण श्रेणी में उम्मीदवारों के लिए शैक्षिक वर्ष 2019-20 में विभिन्न कोर्स में दाखिले के लिए कटऑफ मार्क ‘कृत्रिम रूप से ज्यादा व अवैध हैं।’

याचिका में कहा गया, “सीएसटी, सीपीएच गैर ईसाई एससी/एसटी/पीएच उम्मीदवारों को निर्धारित संख्या में साक्षात्कार व लिखित परीक्षा के लिए नहीं बुलाकर कटऑफ बहुत उच्च स्तर पर रखा गया था। ये उम्मीदवार सामान्य तौर पर विचार क्षेत्र के तहत आते हैं, क्योंकि ये अनुच्छेद 11 में निर्दिष्ट हैं। ”

याचिका में कहा गया, “इन दिशा-निर्देशों के अनुच्छेद 11 में निर्दिष्ट किया गया है कि उम्मीदवारों को साक्षात्कार और लिखित परीक्षा के लिए उपलब्ध सीटों की संख्या के एक निश्चित अनुपात में बुलाया जाना चाहिए। अनुच्छेद 11 का प्रभाव यह है कि विचार क्षेत्र में सबसे कम अंक पाने वाला उम्मीदवार कटऑफ मार्क निर्धारित करता है। इस तरह से अगर साक्षात्कार व लिखित परीक्षा के लिए बुलाए गए उम्मीदवार निर्धारित अनुपात से कम है तो कटऑफ मार्क ज्यादा होगा।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 : भाजपा को बड़ा झटका, पूर्व विधायक हरशरण सिंह बल्ली आप में शामिल

दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले यहां नेताओं के दल बदलने का सिलसिला जारी है। नवीनतम घटनाक्रम में भारतीय जनता...

दिल्ली : राष्ट्रपति भवन में हुआ ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारोका रस्मी स्वागत

राष्ट्रपति भवन में शनिवार को ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो का रस्मी स्वागत किया गया, जिसके बाद उन्होंने कहा कि वह इस यात्रा का...

यूएई : भारत के गणतंत्र दिवस का जश्न शुरू

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में रह रहे भारतीय प्रवासी रविवार के दिन यहां अपने देश भारत का गणतंत्र दिवस मनाने के लिए पूरी तरह...

चीन : कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 41 पहुंची, 1287 संक्रमित

चीन में कोरोनावायरस के प्रकोप के कारण मरने वालों की संख्या 41 हो गई है, जबकि संक्रमित लोगों की संख्या 1,287 हो गई है।...

फैन के खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग करने पर बेन स्टोक्स ने माफी मांगी

इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी बेन स्टोक्स ने फैन के खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग करने पर उनसे माफी मांग ली है। स्टोक्स ने यहां...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -