सोमवार, अक्टूबर 14, 2019

सूडान प्रदर्शनकारियो के लिए एमनेस्टी न्याय चाहता है

Must Read

पाकिस्तान उच्चायोग हवाला से कश्मीर में आतंकवाद को कर रहा आर्थिक मदद : एनआईए (लीड-1)

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस) राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद...

बिहार, महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक में जेएमबी सक्रिय : एनआईए

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश (जेएमबी) भारत के...

एनएसए का पाकिस्तान को संदेश : युद्ध कभी फायदेमंद नहीं होता

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि कोई...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

दक्षिणपंथी समूह एमनेस्टी इंटरनेशनल ने शुक्रवार को सूडान में प्रदर्शन के दौरान मृत प्रदर्शनकारियो के लिए न्याय की मांग की है। प्रदर्शनकारियो ने असंगत और गैर जरुरी हिंसा का सामना किया है। सूडान में बीते दिसम्बर से प्रदर्शन का दौर जारी है।

सूडान में पहले राष्ट्रपति ओमार अल बशीर के खिलाफ प्रदर्शन हुआ था जिसे सेना ने सत्ता से उखाड़ फेंका था। प्रदर्शन आन्दोलन ने कहा कि “250 से अधिक प्रदर्शनकारियो की हिंसा से मौत हुई है इसमें करीब 127 जून में सैन्य मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन पर बैठे लोगो पर कार्रवाई में मरे थे।”

एमनेस्टी के सेक्रेटरी जनरल कुमि नायडू ने पत्रकारों से खारर्तूम की यात्रा के दौरान कहा कि एमनेस्टी इंटरनेशनल ने सूडान की जनता द्वारा साहस, लचीलता और अन्याय व मानव अधिकारियो के उल्लंघन के विरोध प्रदर्शित करने के लिए शुक्रिया कहा है।

उन्होंने कहा कि “प्रदर्शनकारियो को बिषम हिंसा, हिंसा की गीत जरुरत और हिंसा के भड़काऊ इस्तेमाल कीसे जूओझ्ना पड़ा था। सुदानी जनता कि नई सरकार के गठन की मांग को एमनेस्टी इंटरनेशनल समर्थन करता है ताकि मृतकों के परिवारों को न्याय मिल सके।”

सूडान में प्रदर्शन दिसम्बर में शुरू हुआ था जब सरकार ने रोटी की कीमतों को तीन गुना करने का निर्णय लिया था। बशीर के खिलाफ समस्त राष्ट्र में अभियान शुरू हो गया था ताकि तीन दशको की तानाशाही को खत्म किया जा सके। सडको पर निरंतर प्रदर्शन के बाद 11 अप्रैल को बशीर को सत्ता से बाहर फेंक दिया था।

अगस्त में सूडान में प्रदर्शनकारी नेताओं और सेना के जनरलो के बीच सत्ता साझा करने का समझौता हुआ था। इसके बाद संयुक्त नागरिक-सैन्य सत्ताधारी सरकार ने शपथ ली थी। रविवार को कैबिनेट के पहले 18 सदस्यों ने शपथ ली थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

पाकिस्तान उच्चायोग हवाला से कश्मीर में आतंकवाद को कर रहा आर्थिक मदद : एनआईए (लीड-1)

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस) राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद...

बिहार, महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक में जेएमबी सक्रिय : एनआईए

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश (जेएमबी) भारत के विभिन्न राज्यों जैसे बिहार, महाराष्ट्र,...

एनएसए का पाकिस्तान को संदेश : युद्ध कभी फायदेमंद नहीं होता

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि कोई भी युद्ध की मार सहन...

जम्मू एवं कश्मीर में आतंक को पाकिस्तान से आर्थिक मदद : एनआईए

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद को पाकिस्तान द्वारा सीधे आर्थिक...

जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद को पाकिस्तान कर रहा आर्थिक मदद : एनआईए (संशोधित)

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस) राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद को पाकिस्तान द्वारा सीधे आर्थिक...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -