शनिवार, जनवरी 18, 2020

सूडानी नेताओं ने सेना के साथ सत्ता साझा करने के समझौते पर किये दस्तखत

Must Read

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिए निर्देश, संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में ले फैसला

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने और प्राइमरी स्कूल के पाठ्यक्रम में भारतीय संविधान को शामिल...

पाकिस्तान : कट्टरपंथी संगठन के 86 सदस्यों को आतंकवादी रोधी अदालत ने सुनाई 55-55 साल कैद की सजा

पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 86 सदस्यों व समर्थकों...

राजकोट वनडे : भारतीय बल्लेबाजों की दमदार वापसी, आस्ट्रेलिया को दिया 341 रनों का लक्ष्य

मुंबई में मिली बुरी हार से आहत भारतीय बल्लेबाजों ने शुक्रवार को यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

सूडान के मुख्य विपक्षी गठबंधन और सत्ताधारी सैन्य परिषद् ने अधिकारी तौर पर सत्ता साझा करने के समझौते पर शनिवार को हस्ताक्षर कर दिए हैं। इस समझौते के साथ ही सत्ता को नागरिक सरकार के सुपुर्द कर दिया जायेगा। सत्ता से बेदखल राष्ट्रपति ओमर अल बशीर के खिलाफ महीनो के प्रदर्शन के नाद नागरिक सरकार को सत्ता सौंपी गयी है।

पॉवर शेयरिंग डील एक संयुक्त सेना और नागरिक संप्रभु परिषद का गठन करेगी जो तीन सालो तक हुकूमत करेगा जाब तक चुनावो का आयोजन नहीं किया जाता है। इस समझौते के तहत एक सैन्य नेता 11 सदस्यों की परिषद् का नेतृत्व 21 महीनो तक करेगा और फिर अगले 18 महीनो तक नागरिक सरकार की हुकूमत होगी।

कार्यकर्ताओं और संसदीय संस्था एक कैबिनेट का भी गठन करेगा। इस समझौते पर हस्ताक्षर सैन्य परिषद् के उप प्रमुख मोहमद हमदान डगालो और आज़ादी व बदलाव के अम्ब्रेला समूह ने किये थे। इस दस्तखत के समारोह में राज्य के प्रमुखों, प्रधानमंत्रियों और कई देशों के प्रतिनिधियों ने शिरकत की थी।

इसमें इथोपिया के प्रधानमन्त्री अबिय अहमद और दक्षिण सूडान के राष्ट्रपति सलवा कीर भी शामिल है। इस समझौते से सूडान में शांतिपूर्ण हस्तांतरण की उम्मीदे बढ़ गयी है। बशीर के शासन के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन हुए थे और इसके बाद सेना ने शासन की कमान संभल ली थी।

अमेरिका के राज्य विभाग के प्रवक्ता मॉर्गन ओर्टागुस ने कहा कि “सैन्य परिषद् और गठबंधन के बीच समझौते पर हस्ताक्षर के लिए अमेरिद्चा सूडान की जनता को बधाई देता है। नागरिको के नेतृत्व में सरकार के गठन के शुरूआती दौर से अमेरिका इसके प्रोत्साहित करता रहा है।”

अशांति सूडान दिसम्बर 2018 सूडान वापस शान्ति की पटरी पर वापस आ सकता था, जब राष्ट्रपति ओमर का तख्तापलट सेना ने किया था। महीनो के प्रदर्शन के बाद सेना ने राष्ट्रपति को पद से बर्खास्त कर दिया था और हुकूमत की बागडोर संभाली थी।

प्रदर्शनकारियों ने सेना से सत्ता की डोर को नागरिक प्रशासन को सौंपने के लिए प्रदर्शन किये थे। 3 जून को सैन्य मुख्यालय के बाहर बैठे प्रदर्शनकारियों को तितर बितर करने के लिए सेना ने हिंसक हमला कर दिया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिए निर्देश, संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में ले फैसला

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने और प्राइमरी स्कूल के पाठ्यक्रम में भारतीय संविधान को शामिल...

पाकिस्तान : कट्टरपंथी संगठन के 86 सदस्यों को आतंकवादी रोधी अदालत ने सुनाई 55-55 साल कैद की सजा

पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 86 सदस्यों व समर्थकों को कुल मिलाकर 4738 साल...

राजकोट वनडे : भारतीय बल्लेबाजों की दमदार वापसी, आस्ट्रेलिया को दिया 341 रनों का लक्ष्य

मुंबई में मिली बुरी हार से आहत भारतीय बल्लेबाजों ने शुक्रवार को यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले जा रहे दूसरे वनडे मैच...

छत्तीसगढ़ : बस्तर में कुपोषण के खिलाफ ‘गुड़’ को हथियार बनाएगी भूपेश सरकार

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कुपोषण को नक्सलवाद से बड़ी चुनौती मानते हैं और यही कारण है कि इसके खात्मे के लिए कई अभियान...

सुप्रीम कोेर्ट ने महात्मा गांधी को भारत रत्न दिए जाने की याचिका खारिज की

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को महात्मा गांधी को भारतरत्न से सम्मानित करने की मांग वाली जनहित याचिका पर केंद्र को कोई भी निर्देश जारी...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -