दा इंडियन वायर » समाचार » सुवेन्दु अधिकारी को पश्चिम बंगाल विधानसभा में निर्विरोध नेता चुना गया
राजनीति समाचार

सुवेन्दु अधिकारी को पश्चिम बंगाल विधानसभा में निर्विरोध नेता चुना गया

भाजपा ने सोमवार को नंदीग्राम विधानसभा क्षेत्र में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पराजित करने वाले सुवेंदु अधिकारी को राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में चुना गया है।राष्ट्रीय पर्यवेक्षकों, कानून और आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद और पार्टी महासचिव भूपेंद्र यादव के साथ विचार-विमश के बाद पार्टी के 77 नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में राज्य भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष और पार्टी के अन्य नेता भी शामिल हुए थे।

राज्य के एक वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा की, “सुवेन्दु को चुनना एक सर्वसम्मत निर्णय था क्योंकि वह इस बात को याद दिलाते  रहेंगे की पश्चिम बंगाल  की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपनी पार्टी के लिए निर्णायक जीत हासिल करने के बावजूद नंदीग्राम से अपनी सीट कैसे गंवा दी”। 

सुवेन्दु अधिकारी की बनर्जी पर अपनी जीत के बाद  उन्हें एक प्रमुख दावेदार माना जा रहा है, लेकिन कृष्णा नगर उत्तर के विधायक मुकुल रॉय भी उनमें से एक नाम है, जिन्हें 2017 में पार्टी छोड़ने पर तृणमूल कांग्रेस को तोड़ने का श्रेय दिया जाता है। आरएसएस का एक वर्ग भी उम्मीदवारों के लिए जोर दे रहा था। संगठनात्मक मामलों को संभालने में रॉय की विशेषज्ञता को मान्यता दी गई है और उन्हें पहले ही राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बना दिया गया है।

“सुवेन्दु अधिकारी में, पार्टी के पास “विपक्ष का एक गतिशील, राजनीतिक रूप से आश्चर्यजनक नेता होगा जो शासन के मामलों में तृणमूल कांग्रेस को जवाबदेह ठहरा सकता है और यह सुनिश्चित करेगा कि नीति निर्माण एक आकांक्षात्मक बंगाल की जरूरतों को पहचान सके” – भूपेंद्र यादव ने कहा

विपक्षी नेता के रूप में अपने चयन के बाद पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए, सुवेन्दु अधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नंदीग्राम की हार के बारे में याद दिलाना महत्वपूर्ण है।

अधिकारी के तृणमूल कांग्रेस छोड़ने और पिछले साल दिसंबर में  भाजपा में शामिल होने के बाद  दीदी की पार्टी और बीजेपी के बीच बंगाल की लड़ाई ने तीखे मोड़ ले लिए थे। उनके दल बदल से टीएमसी के लगभग 15 नेता भाजपा में शामिल हो गए, जिसके बाद वे पार्टी के प्रमुख प्रचारकों में से एक बनकर उभरे।

नंदीग्राम प्रतियोगिता विशेष रूप से देखने लायक थी क्योंकि चुनाव से चार दिन पहले बनर्जी ने वहाँ  अपना राज बताया था लेकिन फिर भी अधिकारी ने 1,959 मतों के अंतर से चुनाव जीत लिया था।

About the author

दीक्षा शर्मा

गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!