दा इंडियन वायर » समाचार » सुप्रीम कोर्ट ने एनसीएलटी और एनसीएलएटी से इन्सॉल्वेंसी मामलों को तेज़ी से निपटाने के लिए कहा
समाचार

सुप्रीम कोर्ट ने एनसीएलटी और एनसीएलएटी से इन्सॉल्वेंसी मामलों को तेज़ी से निपटाने के लिए कहा

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा कि न्यायिक देरी को दिवाला और दिवालियापन संहिता (आईबीसी) शासन की विफलता का कारण नहीं होना चाहिए जैसा कि संहिता के अस्तित्व में आने से पहले के दिनों में हुआ था।

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और एमआर शाह की बेंच ने अपील करते हुए कहा कि, “हम नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) और नेशनल कंपनी अपीलेट लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलएटी) से इन्सॉल्वेंसी रिजॉल्यूशन प्रोसेस पर इस तरह की देरी के प्रभाव के प्रति संवेदनशील होने और इस बात से अवगत होने का आग्रह करते हैं कि स्थगन न्यायिक प्रक्रिया की प्रभावकारिता में बाधा डालते हैं।”

यह निर्णय महत्वपूर्ण है क्योंकि एनसीएलटी और एनसीएलएटी उन प्रमुख न्यायाधिकरणों में से हैं जो एक बढ़ते बैकलॉग के साथ संघर्ष कर रहे हैं और केवल उनकी बढ़ती रिक्तियों से मेल खाते हैं। एनसीएलटी और एनसीएलएटी को आईबीसी के तहत निर्धारित समयसीमा का सख्ती से पालन करने का प्रयास करना चाहिए।

न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि, “न्यायिक देरी आईबीसी से पहले प्रभावी दिवाला शासन की विफलता के प्रमुख कारणों में से एक थी। हम वर्तमान दिवाला शासन को उसी भाग्य से नहीं मिलने दे सकते।” इस पीठ ने पाया कि एनसीएलटी द्वारा आईबीसी के तहत समाधान योजनाओं को मंजूरी देने में ‘लंबी देरी’ उनके कार्यान्वयन को प्रभावित करती है। यह कोड ऋणधारक कंपनियों और व्यक्तियों दोनों पर लागू होता है। साथ ही यह कोड इंसाॅल्वेंसी के लिये एक समयबद्ध प्रक्रिया का निर्धारण करता है।

बेंच ने कहा कि, “ये देरी यदि लगातार होती है तो वाणिज्यिक मूल्यांकन पर एक निर्विवाद प्रभाव पड़ेगा जो पार्टियां बातचीत के दौरान करती हैं।” अदालत ने आईबीसी के कार्यान्वयन पर वित्त पर कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय की स्थायी समिति द्वारा दायर एक रिपोर्ट पर ध्यान आकर्षित किया।

रिपोर्ट में कहा गया है कि समाधान प्रक्रिया में देरी 71 फीसदी से अधिक मामलों में 180 दिनों से अधिक समय से लंबित आईबीसी द्वारा परिकल्पित कॉर्पोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया के मूल उद्देश्य और समय सीमा से विचलन था।

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!