गुरूवार, अक्टूबर 24, 2019

सीरिया पर चर्चा के लिए व्लादिमीर पुतिन ने मर्केल और मैक्रॉन को लगाया फ़ोन

Must Read

बैडमिंटन : सायना की संघर्षपूर्ण जीत, कश्यप, श्रीकांत और समीर पहले दौर में बाहर (लीड-1)

पेरिस, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। सायना नेहवाल ने यहां जारी फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर में मिली संघर्षपूर्ण...

उत्तराखंड पंचायत चुनाव में रावत व योगी के गृह जनपद में भाजपा पर भारी पड़ी कांग्रेस

देहरादून 23 अक्टूबर, (आईएएनएस)। उत्तराखंड में हुए पंचायत चुनाव में सबसे चौंकाने वाला नतीजा पौड़ी जिले का रहा है।...

गैर-तेल क्षेत्र की कंपनियों के लिए भी खुला पेट्रोल, डीजल की बिक्री का द्वार

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल की खुदरा बिक्री के नियमों को सरल बनाते...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को सीरिया के मसले पर चर्चा के लिए जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल और फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मानुएल मैक्रॉन को से फोन किया था। तीनो नेताओं की फ़ोन पर बातचीत के बाद क्रेमलिन ने कहा कि “तीनो पक्षों ने सीरिया के मामले पर अपनी राय साझा की थी। इसमें उग्र हथिरबंद समूहों द्वारा इदलिब में संघर्षविराम संधि का उल्लंघन बभी शामिल है।”

क्रेमलिन के मुताबिक, रुसी राष्ट्रपति ने अपने सहयोगियों को सीरिया के उत्तर पश्चिम में तुर्की द्वारा स्थिरता कायम करने के प्रयासों के बाबत जानकारी दी। साथ ही नागरिकों की रक्षा और आतंकी खतरों से निपटने के तुर्की के अंदाज़ के बारे में सूचित किया था।

उनका विशेष ध्यान संवैधानिक समिति के गठन और उद्धघाटन के पहलुओं ने आकर्षित किया था। चार पक्षों तुर्की, रूस, जर्मनी, फ्रांस अक्टूबर 2018 में समझौते पर पंहुचे थे। सभी पक्ष यूएन सिक्योरिटी कॉउन्सिल रसोलूशन 2254 के तहत सीरिया के संकट के राजनीतिक समाधान के जारी समन्वय प्रयासों पर राज़ी हो गए थे और यह सीरिया की सम्प्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के सिद्धांतों पर आधारित है।”

सीरिया के हमा प्रान्त में हाल ही में रुस समर्थित सीरिया की सेना और विद्रोहियों के बीच हिंसक झड़प हो गयी जिसमे जिसमे 40 लड़ाकों की मौत हो गयी थी। रूस की इदलिब में सोमवार को हवाई हमले से पांच बच्चों सहित 10 नागरिकों की मौत हो गयी थी। इदलिब चरमपंथियों के नियंत्रण का सबसे बड़ा भाग है।

इदलिब में संघर्ष की शुरुआत विगत महीने हुई और साल 2018 में तुर्की और रूस के बीच हुए समझौते का उल्लंघन किया गया था। 25 अप्रैल से इदलिब में 167 नागरिकों ने अपनी जान गंवाई है और यह प्रान्त 30 लाख लोगो का निवास स्थान है। सीरिया की जंग में 370000 लोगो से अधिक की मौत हो चुकी है और लाखों लोग जंग की शुरुआत से ही गायब है।

तीनो पक्षों ने इसके आलावा यूक्रेन के मसले पर भी चर्चा की थी। यूक्रेन में प्योतर पोरोशेंको के शासन की दिवालिया नीतियों से यूक्रेन में संकट और वहां नेतृत्व में बदलाव के बाबत भी चर्चा की गयी थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बैडमिंटन : सायना की संघर्षपूर्ण जीत, कश्यप, श्रीकांत और समीर पहले दौर में बाहर (लीड-1)

पेरिस, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। सायना नेहवाल ने यहां जारी फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर में मिली संघर्षपूर्ण...

उत्तराखंड पंचायत चुनाव में रावत व योगी के गृह जनपद में भाजपा पर भारी पड़ी कांग्रेस

देहरादून 23 अक्टूबर, (आईएएनएस)। उत्तराखंड में हुए पंचायत चुनाव में सबसे चौंकाने वाला नतीजा पौड़ी जिले का रहा है। यहां जिला पंचायत सीटों के...

गैर-तेल क्षेत्र की कंपनियों के लिए भी खुला पेट्रोल, डीजल की बिक्री का द्वार

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल की खुदरा बिक्री के नियमों को सरल बनाते हुए बुधवार को सभी कंपनियों...

रविदास मंदिर पर ओछी राजनीति कर रही कांग्रेस और आप : भाजपा

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर,(आईएएनएस)। दिल्ली के तुगलकाबाद में रविदास मंदिर के मुद्दे पर भाजपा ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर ओछी राजनीति करने...

रविदास मंदिर पर ओछी राजनीति कर रही कांग्रेस और आप : भाजपा

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर,(आईएएनएस)। दिल्ली के तुगलकाबाद में रविदास मंदिर के मुद्दे पर भाजपा ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर ओछी राजनीति करने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -