रविवार, दिसम्बर 8, 2019

सीरिया: रूस ने इदलिब में एकतरफा संघर्षविराम किया घोषित

Must Read

अमेरिकी राजनयिकों पर चीन ने उठाया जवाबी कदम

अमेरिका द्वारा चीनी राजनयिकों पर लगाए गए प्रतिबंध के मद्देनजर चीन ने जवाबी कदम उठाते हुए अमेरिकी राजनयिकों पर...

जीएसटी परामर्श दिवस पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सुझाव मांगे

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लिए रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए...

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

रुस द्वारा समर्थित सीरिया की सरकार ने उत्तर पश्चिमी इदलिब प्रान्त में एकतरफा सैन्य संघर्षविराम का ऐलान कर दिया है। यह प्रमुख विद्रोहियों का आखिरी गढ़ है। यह जानकारी मॉस्को के रक्षा मंत्रालय ने जारी की थी। सीरिया से सम्बंधित रक्षा मंत्रालय के विभाग ने कहा कि “सरकारी बलों ने मध्यरात्रि से संघर्षविराम की योजना तय की है।”

रक्षा मंत्रालय ने कहा कि “यह कदम एकतरफा है हालाँकि उन्होंने इसके बाबत अधिक जानकारी नहीं दी है।” विपक्षी कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि रविवार को भी घेरेबंदी और गोलीबारी जारी थी। सीरिया के इदलिब में बीते माह संघर्षविराम समझौते को तोडा गया था। यह साल 2018 में तुर्की और रूस के बीच में हुआ था।

सीरिया की सरकार ने इदलिब में नागरिकों पर हमला करने का आरोप लगाया है। संयुक्त राष्ट्र ने भी मानवीय तबाही की चेतावनी दी है। सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद आखिरी चरमपंथियों के गढ़ पर नियंत्रण स्थापित करने की कोशिश में जुटे हैं।

सीरिया में सैन्य संघर्ष साल 2011 से जारी है। इसमें रूस, तुर्की और ईरान संघर्षविराम सरकार के गारंटर के तौर पर है। अब इस क्षेत्र में दो गुट बनते दिख रहे हैं इसमें एक सीरिया और रूस है जबकि दूसरा ईरान और तुर्की है। सीरिया में संघर्ष की शुरुआत से 400000 से अधिक लोगो की हत्या हुए है और लाखो लोग विस्थापित हुए हैं।

इदलिब में करीब तीस लाख लोग रहते हैं और उनका इस कथित असैन्य क्षेत्र सुरक्षित क्षेत्र में संरक्षण होना चाहिए। बीते वर्ष सितम्बर में रूस और तुर्की के बीच इस क्षेत्र में कार्रवाई न करने के लिए एक समझौता हुआ था। मॉस्को साल 2015  से असद की सेना का समर्थन करता है जबकि अंकारा साल 2011 से जंग की शुरुआत से ही सीरिया के विद्रोहियों का समर्थन करता है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

अमेरिकी राजनयिकों पर चीन ने उठाया जवाबी कदम

अमेरिका द्वारा चीनी राजनयिकों पर लगाए गए प्रतिबंध के मद्देनजर चीन ने जवाबी कदम उठाते हुए अमेरिकी राजनयिकों पर...

जीएसटी परामर्श दिवस पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सुझाव मांगे

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लिए रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए सुझाव आमंत्रित किए हैं। केंद्र...

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए शनिवार को न्यूजीलैंड को...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है। एंडरसन एशेज सीरीज के पहले...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के खिलाफ मोर्चेबंदी की। सपा, कांग्रेस...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -