Sat. Feb 24th, 2024
    नॉर्वे

    नॉर्वे के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि “उनका मुल्क तुर्की के लिए हथियारों के लिए निर्यात लाइसेंस की नए आवेदनों को जारी नहीं करेगा और मौजूदा आवेदनों पर दोबारा समीक्षा करेगा।” तुर्की की थल सेना ने सीरिया से सटी सीमाओं पर अभियान शुरू किया है।

    तुर्की के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि “राष्ट्र के सैनिक उत्तरी सीरिया में आक्रमक अभियान के शुरू होने के बाद आगे बढ़ते रहेंगे। ऑपरेशन पीस स्प्रिंग को पीकेके/वाईपीजी अमुहो को हटाने के लिए शुरू किया गया है जो उत्तरी सीरिया पर नियंत्रण रखता है।”

    विदेश मंत्री इने एरिक्सन सोरेइड़े ने कहा कि “अभी स्थित अस्पष्ट है और तीव्रता से बदल रही है। विदेश मंत्रालय सैन्य हथियारों के निर्यात के लिए नए वीजा आवेदनों को जारी नहीं करेगा और न ही तुर्की के लिए सैन्य उत्पादों को निर्यात करेगा।”

    उन्होंने कहा कि “तुर्की के सभी वैध लाइसेंस की नॉर्वे समीक्षा करेगा। सीरिया में स्थिति बेहद गंभीर चिंता का विषय है और ओस्लो की स्पष्ट मांग को दोहराया कि सीरिया में अपनी अंकारा अपनी सैन्य आक्रमकता पर अंकुश लगाये और अंतरराष्ट्रीय कानून का सम्मान करे।”

    विदेश मंत्रालय ने नॉर्वे में तुर्की के राजदूत के साथ शुक्रवार को मुलाकात के दौरा गहन चिंता व्यक्त की थी। विदेशी मामले की समिति के अध्यक्ष लेबर पार्टी के अनिकेन हित्फेद्ल्ट ने कहा कि “नाटो की प्रतिबद्धताओं के ढांचे के अंतर्गत तुर्की को एक स्पष्ट सन्देश देना चाहिए।”

    उन्होंने कहा कि “क्रोनर और पैसे शायद जयादा न हो लेकिन नॉर्वे के एअक्षा पदार्थो को बचाना सबसे ज्यादा जरुरी है जो जंग के लिए इस्तेमाल किया जाता है।” रेड्स चीफ बजोर्नर मोक्स्नेस ने सुझाव दिया कि विभागों को तुर्की में सभी हथियारों के निर्यात को रोक देना चाहिए ताकि उनके सीरिया अभियान में योगदान से बचा जा सके।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *