सोमवार, अक्टूबर 14, 2019

सीरिया में हमने आईएसआईएस को खदेड़ दिया, सेना को वापस बुलाने की तैयारी: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प

Must Read

त्रिपुरा : महिला सांसद के खिलाफ आक्रामक टिप्पणी करने वाला गिरफ्तार

अगरतला, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। त्रिपुरा के एक व्यक्ति को राज्य की पुलिस ने लोकसभा सदस्य प्रतिमा भौमिक के खिलाफ...

7 साल बाद फिर क्यों सुर्खियों में आया निर्भया गैंगरेप का केस

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर(आईएएनएस)। साल 2012 के दिसंबर में हुई निर्भया गैंगरेप की घटना ने देश को हिला कर...

शरद रंगोत्सव में कवियों ने बांधा समां

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश भर से यहां आए एक दर्जन से अधिक कवियों-कवित्रियों की उपस्थिति में यहां...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

सीरिया में दशकों से अमेरिका और रूस के मध्य संघर्ष जारी है। सीरिया में अमेरिकी सरकार कुर्दिश विद्रोहियों का समर्थन करती है और राष्ट्रपति असद को सत्ता से बेदखल करने की मांग करती है, वही रूस की सरकार कुर्दिश विद्रोहियों के खिलाफ असद सरकार का सहयोग करती है।

2000 सैनिकों की अमेरिका वापसी का आदेश

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सीरिया से सेना को वापस आने के आदेश दिए है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि इस जंगी सरजमीं पर हमने आईएसआईएस को खदेड़ दिया है। अधिकारीयों के मुताबिक अमेरिकी सेना इस आदेश का जल्द पालन कर रही है।

डोनाल्ड ट्रम्प ने ट्वीटर के जरिये जनता को पैगाम दिया कि हैं सीरिया में आईएसआईएस को शिकस्त दे दी है, मेरे राष्ट्रपति कार्यकाल के दौरान सेना की वहां तैनाती का यही कारण था। प्रशासन का पिछले सप्ताह आईएसआईएस को मात देने पर संशय था और अमेरिका का इस जंग में सहयोग जारी रखने की सलाह दी थी।

सीरियाई गठबंधन की राय

आईएसआईएस को मात देने वाले वैश्विक गठबंधन के राजदूत ब्रेट म्क्गुर्क ने कहा कि इतने सालों में हम एक बात आचे से सीख चुके हैं, आप आईएसआईएस जैसे समूहों के स्थल को बर्बाद करके उनकी सरजमीं को नहीं छोड़ सकते हो। उन्होंने कहा कि आपको आंतरिक सुरक्षा बलों को सुनिश्चित करना होगा कि उनकी जड़ खत्म हुई या नहीं, इसके लिए थोड़ा वक्त लगता है।

पेंटागन ने इस सूचना की सार्वजनिक पुष्टि नहीं की है और कहा कि हम अपने क्षेत्रीय सहयोगियों के माध्य और उनके साथ मिलकर कार्य कर रहे हैं। 6 दिसम्बर को रक्षा सचिव जिम मैटिस ने कहा था कि अभी इस मसले पर काफी कार्य करना शेष है।

चीन और रूस के कारण पलायन ?

रक्षा अधिकारियों ने कहा कि सीरिया से अमेरिका का पलायन रूस और ईरान के प्रभुत्व के कारण हो रहा है, जबकि ट्रम्प प्रशासन वैश्विक स्तर पर ईरान के प्रभुत्व का अंत करने के लिए काम कर रहा है। अमेरिका का पलायन तुर्की के राष्ट्रपति रिच्चप तैय्यप एर्दोगन की जीत को दर्शाता है, जो एक लम्बे अंतराल से अमेरिका पर सिरिया से अपनी सेना को वापस बुलाने के लिए दबाव बना रहा था।

रायटर्स के मुताबिक अमेरिकी राज्य विभाग ने मंगलवार को संकेत दिया था कि वह अमेरिकी मिसाइल को तुर्की को बेचने का समर्थन करेगी, ताकि तुर्की रूस की रक्षा प्रणाली खरीदने का निर्णय न कर ले।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

त्रिपुरा : महिला सांसद के खिलाफ आक्रामक टिप्पणी करने वाला गिरफ्तार

अगरतला, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। त्रिपुरा के एक व्यक्ति को राज्य की पुलिस ने लोकसभा सदस्य प्रतिमा भौमिक के खिलाफ...

7 साल बाद फिर क्यों सुर्खियों में आया निर्भया गैंगरेप का केस

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर(आईएएनएस)। साल 2012 के दिसंबर में हुई निर्भया गैंगरेप की घटना ने देश को हिला कर रख दिया था। अब सात...

शरद रंगोत्सव में कवियों ने बांधा समां

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश भर से यहां आए एक दर्जन से अधिक कवियों-कवित्रियों की उपस्थिति में यहां रविवार को नटरंग शरद रंगोत्सव...

विजय हजारे ट्रॉफी : महाराष्ट्र 3 विकेट से जीता

वडोदरा, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। अजीम काजी के शानदार 84 रनों की मदद से महाराष्ट्र ने यहां खेले गए विजय हजारे ट्रॉफी के मैच में...

चीन-नेपाल मैत्री की जड़ मजबूत

बीजिंग, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शनिवार को काठमांडू में नेपाली राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के साथ मुलाकात की। दोनों ने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -