Mon. Jun 17th, 2024

    केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के दो मंत्रियों सहित विधायकों की गिरफ्तारी ने सोमवार को एक विवाद रूपी मोड़ ले लिया है। राज्य विधानसभा के अध्यक्ष ने राज्यपाल की सहमति पर जांच एजेंसी की कार्रवाई को अवैध और अनैतिक करार दिया है। केंद्रीय एजेंसी ने 2014 के नारद स्टिंग मामले में तृणमूल कांग्रेस के मंत्रियों फिरहाद हकीम और सुब्रत मुखर्जी के साथ-साथ विधायक मदन मित्रा और तृणमूल के पूर्व नेता सोवन चटर्जी को गिरफ्तार किया है। 

    विधानसभा अध्यक्ष बिमान बनर्जी ने कहा, “हाल ही में मामला कलकत्ता उच्च न्यायालय में सुनवाई के लिए गया था और न्यायाधीश ने सीबीआई से पूछा कि क्या उन्होंने राज्य विधानसभा अध्यक्ष की सहमति ली है कि इन विधायक पर मुकदमा चलाया जाए जिन्हें आज गिरफ्तार किया गया था? हमने उन्हें सूचित किया कि हमारी तरफ से ऐसी कोई सहमति नहीं दी गई है और सीबीआई ने हमें इस मामले में कोई पत्र या संचार  भी नहीं भेजा है”।

    “सीबीआई ने मुझे क्यों टाला” – बिमान बनर्जी

    बिमान बनर्जी ने यह भी कहा कि कलकत्ता उच्च न्यायालय ने सीबीआई को स्पीकर से सहमति लेने का स्पष्ट निर्देश दिया है। “इस बीच, सीबीआई ने राज्य विधानसभा अध्यक्ष से संपर्क करने के बजाय राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात की और उन्होंने नेताओं के खिलाफ अभियोजन की मंजूरी दे दी। मुझे नहीं पता कि सीबीआई ने मुझे क्यों टाला और सीधे राज्यपाल से इस मामले में सहमति ले ली। मैं अपने कार्यालय में बहुत उपस्थित था, जब वे राज्यपाल से उनकी सहमति के लिए मिलने गए थे। 

    “इस मामले में राज्यपाल का हस्तक्षेप कानून के खिलाफ है। मुझे लगता है कि राज्यपाल की सहमति अवैध है और इस अवैध सहमति के आधार पर किसी को गिरफ्तार करना अनैतिक, असंवैधानिक और अलोकतांत्रिक है”।

    एक अलग बातचीत में, विधानसभा अध्यक्ष ने अपना विचार दोहराया और कुछ गड़बड़ी का संकेत भी दिया। “इस मामले में कुछ अन्य व्यक्ति भी शामिल हैं, जो दूसरी पार्टी में चले गए हैं। मैं उनका नाम नहीं लेना चाहता क्योंकि उनके नाम चार्जशीट में नहीं हैं। हालांकि अदालत के पास उनके खिलाफ सम्मन जारी करने, उनके खिलाफ संज्ञान लेने की शक्ति है।

    अध्यक्ष बिमान बनर्जी मुकुल रॉय और सुवेंदु अधिकारी के बारे में बात कर रहे थे, जो कथित रूप से इस नारद स्टिंग मामले में रिश्वत लेते हुए पकड़े गए तृणमूल नेताओं में शामिल थे, लेकिन अब यह दो नेता भाजपा में शामिल हो गए हैं और पार्टी के विधायक हैं। 

    गिरफ्तारी के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कोलकाता में सीबीआई कार्यालय पहुंचीं जहां उन्होंने धरना-प्रदर्शन किया और कुछ तृणमूल समर्थकों ने भी विरोध प्रदर्शन किया। सीबीआई कार्यालय पर पथराव की भी कुछ घटनाएं सामने आई हैं।

    By दीक्षा शर्मा

    गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *