Tue. Mar 5th, 2024
    सिरदर्द से बचने के उपाय headache treatment at home in hindi

    सिरदर्द एक ऐसी समस्या जिससे हमें आम ज़िन्दगी में जूझना पड़ता है और हमारी आम ज़िन्दगी में दुष्प्रभाव भी पड़ता है। थोड़े से लेकर बहुत ही अत्यधिक पीड़ा देने वाला सिरदर्द हमारी ज़िन्दगी में बहुत ही अहम् हिस्सा निभाता है।

    कई प्रकार के सिरदर्द लोगों में पाए जाते हैं। ये विभिन्न प्रकार के कारण होते हैं पर इनमें से सबसे बड़ा कारण ‘गहन चिंता’ या अत्यधिक ‘टेंशन’ लेना हो सकता है।

    हालांकि, अनेक प्रकार की दवाइयां सिरदर्द से निजात पाने के लिए ढूँढी गयी हैं लेकिन बहुत से ऐसे प्राकृतिक नुस्खे हैं जो सिरदर्द में ज्यादा असरदार हो सकते हैं।

    विषय-सूचि

    सिरदर्द ठीक करने के घरेलु उपाय (headache treatment at home in hindi)

    आइये, इन्ही नुस्खों पर चर्चा करते हैं।

    1. भरपूर नींद लें

    भरपूर मात्रा में नींद न लेना आपके लिए हानिकरक हो सकता है और इससे अत्यधिक सिरदर्द की समस्या भी हो सकती है।

    6 घंटे से कम नींद लेने वालों और 6 घंटे से ज्यादा नींद लेने वालों के बीच किये गए एक शोध में यह पाया गया है कि जो लोग 6 घंटे से कम सोते हैं उनमें सिरदर्द की समस्या अधिक होती है।

    हालांकि, हद्द से ज्यादा सोने वालों में भी ये परेशानी देखने को मिली थी इसलिये ये ज़रूरी है कि आप एक उचित मात्रा में ही नींद लें। प्रतिदिन 7 से 9 घंटे की नींद आपके लिए भरपूर होती है।

    2. ज्यादा पानी पीयें

    आपके शरीर में पानी की कमी से आपको अत्यधिक सिरदर्द की परेशानी झेलनी पड़ सकती है। शरीर में लम्बे समय तक पानी की कमी से टेंशन और माइग्रेन जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

    हालांकि, पानी पीने से इस समस्या से निजात पाया जा सकता है। ऐसा पाया गया है कि केवल आधा घंटे से तीन घंटे के अन्दर ही इससे छुटकारा पाया जा सकता है।

    आपके शरीर में पानी की कमी न हो इसके लिए यह आवश्यक है कि दिनभर पानी पीयें और ऐसा भोजन लें जिसमें भरपूर मात्रा में पानी होता है

    3. करें बी-काम्प्लेक्स विटामिन का सेवन (b comples vitamin for headache in hindi)

    बी विटामिन पानी के घुलनशील सूक्ष्म पोषक तत्वों का एक समूह है जो शरीर में कई महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उदाहरण के लिए, वे न्यूरोट्रांसमीटर संश्लेषण में योगदान करते हैं और भोजन को ऊर्जा में बदलने में मदद करते हैं।

    ऐसा पाया गया है कि कुछ प्रकार के विटामिन बी काम्प्लेक्स सिरदर्द के लक्षणों को ठीक करने में सहायक होते हैं। कई अध्ययनों से पता चला है कि बी विटामिन की खुराक रिबोफ़्लिविन (बी 2), फोलेट, बी 12 और पाइरिडोक्सीन (बी 6) सिरदर्द लक्षण कम कर सकते हैं।

    बी विटामिन को नियमित आधार पर लेने के लिए सुरक्षित माना जाता है, क्योंकि ये पानी में घुलनशील हैं और इसमें मौजूद कुछ भी अतिरिक्त तत्व मूत्र के माध्यम से बाहर निकल जाते हैं।

     4. कैफीन युक्त चाय या कॉफ़ी का करें सेवन (coffee for headache in hindi)

    चाय और कॉफ़ी के गुण ढेरों हैं। कैफीन में मूड ठीक करने, सतर्कता बढाने, ब्लड वेसल्स को बांधकर रखने की क्षमता होती है। इसी कारण कैफीन युक्त चाय या कॉफ़ी पीने से आपका सिरदर्द आसानी से ठीक हो सकता है।

    कुछ सिरदर्द की दवाइयों जैसे आइबूप्रोफेन, एसिटामिनोफेन के प्रभावों को भी यह बढ़ा देता है। इसके अलावा जो लोग नियमित रूप से चाय या कॉफ़ी का सेवन करते हैं, और यदि अचानक से इसे लेना बंद कर दें तो इससे भी उन्हें सिर दर्द की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए जिन लोगों को अक्सर सिरदर्द होता है वो अपनी कैफीन की मात्रा पर ध्यान दें।

     5. आयुर्वेदिक उपाय अपनाएं (ayurved treatment for headache in hindi)

    फीवरफ्यू और बटरबर जैसी कुछ जड़ी बूटियां सिरदर्द के लक्षणों को कम कर सकती हैं। फीवरफ्यू एक फूल वाला पौधा है जिसमे एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं।

    बटरबर जड़ एक बारहमासी श्रब है जो मूल रूप से जर्मनी में आती है, और फीवरफ्यू की तरह इसमें भी एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं।कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि प्रति दिन 50-150 मिलीग्राम की खुराक में फीवरफ्यू लेने से सिरदर्द की आवृत्ति घट सकती है। कई अन्य अध्ययनों से यह भी पता चला है कि 50-150 मिलीग्राम की खुराक में बटरबर लेने से वयस्कों और बच्चों दोनों में सिरदर्द के लक्षण कम हो जाते हैं।

    यदि उचित मात्रा में फीवरफ्यू लिया जाए तो वो फायदेमंद होता है लेकिन बटरबर को ध्यान से ही लेना चाहिए क्योंकि इससे लीवर की क्षति होने का खतरा रहता है।

    6. व्यायाम करें (exercise for head pain in hindi)

    सरदर्द से निजात का एक बहुत ही अच्छा होता है नियमित रूप से व्यायाम करना। लगभग 91 लोगो पर किये गए एक अध्ययन में पाया गया है कि हफ्ते में 3 बार 40 मिनट तक साइकिल चलाना अन्य सिरदर्द निवारण तकनीकों से ज्यादा असरदार होता है।

    एक अन्य शोध में पाया गया कि जो लोग नियमित रूप से व्यायाम करते हैं उनमें सिरदर्द की समस्या कम देखने को मिलती है। 

    7. योग करें (yoga for headache in hindi)

    योग आपके जीवन की प्रत्येक प्रकार की चिंता को दूर करता है। यह आपके शरीर में चुस्ती-फुर्ती लाता है। शरीर में किसी भी प्रकार के दर्द का निवारण करता है और आपके जीवन को खुशहाल बनाता है

    नियमित रूप से योग करने से सिरदर्द की तीव्रता में फर्क आता है और इसकी आवृत्ति भी कम हो जाती है। सिरदर्द से ग्रस्त 60 लोगों पर किये गए एक शोध में पाया गया है कि जिन लोगों ने नियमित देखभाल के साथ योगाभ्यास भी किया उनको सिरदर्द की समस्या से छुटकारा जल्दी मिल गया।

    8. ज़रूरी तेलों का करें इस्तेमाल (oil for headache in hindi)

    आवश्यक तेलों में कई चिकित्सीय लाभ होते हैं और इन्हें सबसे अधिक बार प्रयोग किया जाता है, हालांकि कुछ को खाया भी जा सकता है। पेपरमिंट और लैवेंडर के तेल खासकर तब उपयोगी होते हैं जब आपको सिरदर्द होता हैं

    माथे पर पेपरमिंट आवश्यक तेल लगाने से तनाव सिर दर्द के लक्षणों को कम करने के लिए दिखाया गया है। इस बीच, ऊपरी होंठ और साँस पर लागू होने पर माइग्रेन दर्द और संबद्ध लक्षणों को कम करने में लैवेंडर ऑयल अत्यधिक प्रभावी है।

    9. शराब का सेवन कम करें

    शराब का सेवन करने से लोगों में सरदर्द की परेशानी हमेशा नहीं होती है लेकिन लगभग एक तिहाई लोगों में सरदर्द की समस्या माइग्रेन में बदल जाती है। 

    शराब कई लोगों में तनाव और क्लस्टर सिरदर्द पैदा करने के लिए दिखाया गया है। यह वैसोडिलेटर है, जिसका अर्थ है कि यह रक्त वाहिकाओं को बढ़ाता है और खून को अधिक आज़ादी से प्रवाह करने की अनुमति देता है। इसके कारण लोगों में सरदर्द की परेशानी हो जाती है। 

    इसके अतिरिक्त, शराब एक मूत्रवर्धक के रूप में कार्य करता है, जिसके कारण शरीर को लगातार पेशाब के माध्यम से तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स खोना पड़ता है। इस द्रव के नुकसान से निर्जलीकरण हो सकता है, जो सिरदर्द पैदा कर सकता है।

    10. मैग्नीशियम लें (magnesium for headache in hindi)

    मैग्नीशियम का सेवन शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। यह शरीर में रक्तचाप को नियंत्रित करता है और सरदर्द के लिए एक उचित उपाय है। 

    शोध में पाया गया है कि जिन लोगों को माइग्रेन की समस्या होती है उनमें अधिकतर मैग्नीशियम की कमी पायी जाती है। अध्ययनों से पता चला है कि प्रति दिन 600 मिलीग्राम मैग्नीशियम साइट्रेट खाने से माइग्रेन सिरदर्द की आवृत्ति और गंभीरता दोनों को कम करने में मदद की थी।

    हालांकि, मैग्नीशियम की खुराक लेने से कुछ लोगों में डायरिया जैसे पाचन संबंधी दुष्प्रभाव पैदा हो सकते हैं, इसलिए सिरदर्द के लक्षणों का इलाज करते समय एक छोटी मात्रा से शुरू करना सबसे अच्छा उपाय है।

    11. अत्यधिक हिस्टामिन युक्त भोजन न लें

    हिस्टामिन शरीर में पाया जाने वाला ऐसा केमिकल है जो इम्यून सिस्टम और पाचन तंत्र को सुचारू रूप से चलाने में उपयोगी होता है। यह कुछ विशिष्ट खाद्य पदार्थ जैसे पुराना चीज़, बीयर, शराब, स्मोक्ड मछली और मांस में पाया जाता है। 

    अध्ययन से पता चलता है कि हिस्टामाइन उन लोगों में माइग्रेन पैदा कर सकता है जो इसके प्रति संवेदनशील होते हैं। कुछ लोग हिस्टामिन को उगलने में सक्षम नहीं हैं क्योंकि उनमें इसे तोड़ने के लिए जिम्मेदार एंजाइम नही होते हैं। 

    अपने आहार से हिस्टामिन की मात्रा कम करना उन लोगों के लिए उपयोगी हो सकता है जो लगातार सरदर्द के शिकार होते हैं 

    12. एक्यूपंक्चर की कोशिश करें (acupressure points for headache in hindi)

    एक्यूपंक्चर पारंपरिक चीनी दवा की एक तकनीक है जिसमें शरीर में पतली सुई डालकर शरीर पर विशिष्ट बिंदुओं को उत्तेजित किया जाता है।

    एक्यूपंक्चर

    स अभ्यास को कई अध्ययनों में सिरदर्द लक्षणों में कमी से जोड़ा गया है। 4,400 से अधिक लोगों सहित 22 अध्ययनों की समीक्षा में पाया गया कि एक्यूपंक्चर आम माइग्रेन औषधि के रूप में प्रभावी था।

    एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि एक्यूपंक्चर अधिक प्रभावी और टोपीरमेट की तुलना में अधिक सुरक्षित है। यदि आप पुराने सिरदर्द के इलाज के लिए एक प्राकृतिक तरीके की तलाश कर रहे हैं, तो एक्यूपंक्चर एक उपयुक्त विकल्प हो सकता है।

    13. तेज़ गंध से बचें

    इत्र और सफाई वाले उत्पादों की तरह मजबूत गंध कुछ व्यक्तियों को सिरदर्द विकसित करने का कारण बन सकता है। एक अध्ययन में 400 लोगों को शामिल किया गया था जिन्होंने माइग्रेन या तनाव सरदर्द का अनुभव किया था। उसमें पाया गया कि मजबूत गंध, विशेष रूप से इत्र से अक्सर सरदर्द शुरू हो जाता है।

    इस अतिसंवेदनशीलता को ओस्मोफोबिया कहा जाता है और यह पुरानी माइग्रेन वाले लोगों में आम होता है। अगर आपको लगता है कि आप खुशबू के प्रति संवेदनशील हो सकते हैं तो परफ्यूम से बचने, सिगरेट के धुएं और दृढ़ता से सुगंधित खाद्य पदार्थ से माइग्रेन होने की सम्भावना  कम हो सकती है।

    14. नाइट्रेट्स और नाइट्राइट्स

    नाइट्रेट्स और नाइट्राइट्स सामान्य भोजन संरक्षक होते हैं जो मुख्यतः हॉट डॉग, सॉसेज और बेकन में पाया जाता है ताकि ये ताज़े रह सकें और इनमें बैक्टीरिया न आयें।

    ऐसे भोजन का सेवन करने से लोगों में सरदर्द की समस्या हो जाती है। नाइट्रेट्स रक्त वाहिकाओं के विस्तार के कारण सरदर्द का कारण बन जाते हैं।

    इसलिए ये ध्यान रखें कि आप नाइट्रेट फ्री भोजन का ही सेवन करें।

     15. अदरक की चाय का सेवन करें

    अदरक में एंटीओक्सीडैन्ट्स और एंटी-इंफ्लेमेटरी कंपाउंड्स पाए जाते हैं जो उलटी, घबराहट और सरदर्द से जुड़े दूसरे लक्षणों को दूर करते हैं। 

    माइग्रेन से ग्रस्त 100 लोगों पर किये गए एक शोध में यह पाया कि अदरक का सेवन करने वाले लोगों में माइग्रेन की समस्या से जल्दी निजात मिल गया था। आप इसको अपने भोजन में शामिल कर सकते हैं या अदरक वाली चाय का भी सेवन कर सकते हैं।

    16. खाने में कटौती करके देखें

    शोध में पाया गया है कि कुछ लोगों में किसी प्रकार के खाने के कारण भी सरदर्द की परेशानी हो सकती है। इसलिए अपने खाने में कटौती करके देखें और यह जांचें कि आखिर किस चीज़ से आपको सरदर्द का सामना करना पड़ रहा है। 

    पुराना चीज़, अल्कोहल, चॉकलेट, खट्टे फल और कॉफ़ी सरदर्द का कारण बन्ने वाली मुख्य चीजों में शामिल हैं। एक अध्ययन में पाया गया कि 12 हफ़्तों तक लगातार किसी न किसी खाने में कटौती करने से लोगों को उनके माइग्रेन का कारण पता चल जाता है और उनकी माइग्रेन की समस्या दूर हो जाती है।

    17. कोएनजायम -क्यू10 लेने पर विचार करें (coenzyme q10 for headache in hindi)

    कोन्जियम क्यू 10 (कोक्यू 10) शरीर द्वारा स्वाभाविक रूप से उत्पादित पदार्थ है जो एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में ऊर्जा और भोजन को बदलने में मदद करता है।

    अध्ययनों से पता चला है कि कोक्यू 10 की खुराक सरदर्द के इलाज का एक प्रभावी और प्राकृतिक तरीका हो सकता है। 80 लोगों पर किये गए एक अध्ययन ने दिखाया कि प्रति दिन 100 मिलीग्राम कॉक्यू 10 की खुराक लेने से माइग्रेन आवृत्ति, गंभीरता और अवधि में कमी आ गई।

    ऐसे 42 लोगों पर किये गए एक अन्य अध्ययन में जिन्होंने अक्सर माइग्रेन का अनुभव किया था उसमें पाया गया कि पूरे दिन कोक्यू 10 के तीन 100 मिलीग्राम खुराक में माइग्रेन आवृत्ति और माइग्र्रेन से संबंधित लक्षणों जैसे लक्षण कम करने में मदद मिली।

    18. ठन्डे कॉम्प्रेस के इस्तेमाल से दर्द को भगाएं

    गर्दन और सिर पर ठन्डे कॉम्प्रेस का इस्तेमाल करने से सरदर्द को दूर भगाया जा सकता है। 28 महिलाओं पर किये गए एक अध्ययन में पाया गया कि सिर पर ठंडा जेल पैक लगाने से उनकी माइग्रेन की समस्या में आराम मिला।

    इसे बनाने के लिए बर्फ के साथ एक वाटरप्रूफ बैग भरें और एक नरम तौलिये में लपेटें। सिरदर्द में राहत के लिए गर्दन, सिर या माथे के पीछे इसको लगा लें।

    ये भी पढ़ें:

    1. गर्दन की नस दबने का इलाज
    10 thoughts on “सिरदर्द ठीक करने के उपाय और घरेलु नुस्खे”
    1. jab bhi mujhe sirfdard hota hai, tab main chay peeta hoon. chay peene se aram milta hai. kabhi jor se sir ghumta hai, to main 2-3 ccup chay pe leta hon.

    2. mere sir roj dukhta hai. jaise hi andhera hota hai mere sir ke aage ke hisse mein dard hota hai. doctor ko bhi dikha chuka hoon. koi help nahi mili.

      1. ye migraine ka dard ho sakta hai. kisi acche doctor ko dikhao.

    3. mujhe roz computer par kaam karnaa hota hia lekin thodi hi der mein mera sar dukhne lagtaa hai kyaa iskaa koi ilaaz hai please bataayen .

    4. mujhe din aksar kai baar sir dard ki sikaayat rehti hai kyaa roz yoga karne se isme madad mil sakti hai? koi anya upaay bhi bataayein..

    5. hello,
      main jab bhi apdhne baithtaa hoon to thode der main hi sar dukhne lagtaa hian and main concentrate nahi kar paata kyaa iska koi solution hai.??

    6. jab bhi main so kar uthtaa hoon yaa jab bhi main sotaa hoon ya jab bhii main kaam karta hoon to mere sir mein bhaaripan rehta hai jab main khaana khaata hoon tab bhi rehta hai

    7. mere se koi bhi kaam concentration se nahin hotaa concentrate karne se sar dard karne lag jaata hai iskaa koi upaay hai kya?

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *