सोमवार, जनवरी 20, 2020

सर्दियों में धूप सेंकिए, हड्डियां रहेंगी तंदुरुस्त

Must Read

इंटरनेट पर सर्वाधिक सर्च किए गए क्रिकेटर विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी

कप्तान विराट कोहली दिसंबर-2015 से लेकर दिसंबर-2019 तक इंटरनेट पर सबसे ज्यादा सर्च किए गए क्रिकेटर रहे हैं। उनके...

मुजफ्फरपुर आश्रय गृह : ब्रजेश ठाकुर का था राजनीति में दखल, तत्कालीन समाज कल्याण मंत्री को देना पड़ा था इस्तीफा

बिहार के बहुचर्चित मुजफ्फरपुर आश्रय गृह मामले में दिल्ली की एक अदालत ने सोमवार को अहम फैसला सुनाते हुए...

रणजी ट्रॉफी : उपेंद्र यादव के ‘दोहरे’ शतक से उत्तर प्रदेश का विशाल स्कोर

उपेंद्र यादव (नाबाद 203) के बेहतरीन दोहरे शतक के दम पर उत्तर प्रदेश ने यहां वानखेड़े स्टेडियम में खेले...

स्वस्थ जीवन के लिए हड्डियों को मजबूत बनाए रखना सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। सर्द मौसम में दिल्ली जैसे महानगर में प्रदूषण के कारण लोगों तक सूर्य की किरणों से मिलने वाले प्राकृतिक विटामिन-डी कम ही पहुंच पाती है। ऐसे में लोगों के शरीर में विटामिन-डी की कमी होना लाजमी है। इस बारे में फोर्टिस राजन ढल हॉस्पिटल के ऑर्थोपेडिक्स विभाग के ऑर्थोस्कॉपी एंड स्पॉर्ट्स इंजुरी के वरिष्ठ सलाहकार डॉ. विश्वदीप शर्मा ने कुछ प्रमुख बिंदुओं पर प्रकाश डाला है।

दिन में धूप सेंकने के उचित समय और विटामिन-डी के पर्याप्त स्तर को बनाए रखने को लेकर कई शोध किए गए हैं।

आमतौर पर कहा जाता है कि शरीर का 20 प्रतिशत हिस्सा यानी बिना ढका हाथ और पैरों से प्रतिदिन 15 मिनट धूप का सेवन करने से विटामिन-डी अच्छी मात्रा में लिया जा सकता है। अगला प्रश्न यह है कि दिन का कौन सा पहर सूर्य की रोशनी के संपर्क में आने का सबसे उपयुक्त होता है। आम धारणा के अनुसार, सुबह का धूप और देर शाम का धूप सेवन के लिए उपयुक्त होता है, जबकि सच्चाई यह है कि सुबह 10 से दोपहर 3 बजे के बीच के दौरान धूप का सेवन मानव शरीर की त्वचा को विटामिन-डी प्रदान करता है। हालांकि धूप के सेवन के दौरान त्वचा पर सन-ब्लॉक क्रीम या लोशन नहीं लगे होने चाहिए।

दिल्ली जैसे शहर, जहां प्रदूषण के कारण लोगों तक धूप नहीं पहुंच पाती है, वहां लोग दुग्ध उत्पादों व आहार के जरिए विटामिन डी का सेवन कर सकते हैं। महिलाओं में विशेष रूप से प्री-मेनोपॉजल और पोस्ट-मेनोपॉजल की श्रेणी की महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस और ऑस्टियोमलेशिया होने की संभावना होती है। वहीं खुद को पूरी तरह से ढकने वाली महिलाओं व सनक्रीम लगाने वाली महिलाओं में भी विटामिन-डी की मात्रा काफी कम होती है, क्योंकि उनकी त्वचा के अंदर धूप प्रवेश नहीं कर पाता है। वहीं बच्चों में विटामिन डी की कमी से रिकेट्स की समस्या होने लगती है।

बच्चों को शुरुआत में ही पर्याप्त आहार के साथ-साथ अच्छी धूप का सेवन कराना आवश्यक होता है। बच्चों को खास कर उन बच्चों को जिन्होंने मां का दूध पीना छोड़ दिया है, उन्हें विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन कराना आवश्यक है।

वहीं सर्दियों में हड्डियों को स्वस्थ रखने में अच्छी मात्रा में कसरत करने से भी फायदा मिलता है। कसरत से हड्डियों का घनत्व बना रहता है, जिससे ऑस्टियोपोरोसिस जैसी समस्याओं से बचा जा सकता है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

इंटरनेट पर सर्वाधिक सर्च किए गए क्रिकेटर विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी

कप्तान विराट कोहली दिसंबर-2015 से लेकर दिसंबर-2019 तक इंटरनेट पर सबसे ज्यादा सर्च किए गए क्रिकेटर रहे हैं। उनके...

मुजफ्फरपुर आश्रय गृह : ब्रजेश ठाकुर का था राजनीति में दखल, तत्कालीन समाज कल्याण मंत्री को देना पड़ा था इस्तीफा

बिहार के बहुचर्चित मुजफ्फरपुर आश्रय गृह मामले में दिल्ली की एक अदालत ने सोमवार को अहम फैसला सुनाते हुए एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ)...

रणजी ट्रॉफी : उपेंद्र यादव के ‘दोहरे’ शतक से उत्तर प्रदेश का विशाल स्कोर

उपेंद्र यादव (नाबाद 203) के बेहतरीन दोहरे शतक के दम पर उत्तर प्रदेश ने यहां वानखेड़े स्टेडियम में खेले जा रहे रणजी ट्रॉफी के...

पाकिस्तान : नवाज शरीफ का नाम ईसीएल से हटाने की याचिका पर लाहौर हाईकोर्ट में सुनवाई टली

लाहौर हाईकोर्ट (एलएचसी) ने सोमवार को पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का नाम एक्जिट कंट्रोल लिस्ट (ईसीएल) से हटाने की मांग करने वाली...

भारत दौरे के बाद पाकिस्तान पहुंची अमेरिकी राजनयिक एलिस वेल्स

दक्षिण एशियाई मामलों के लिए अमेरिका की मुख्य राजनयिक एलिस वेल्स भारत और श्रीलंका का अपना दौरा पूरा करने के बाद रविवार को चार...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -