गुरूवार, फ़रवरी 27, 2020

सभी अफगान सम्मलेन देश को शान्ति के करीब ले जायेंगे

Must Read

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अफगानिस्तान के सभी शिखर सम्मेलन देश को शान्ति की तरफ ले जायेंगे। इससे 18 वर्षों से जंग के संघर्ष से जूझ रहे देश के भविष्य के लिए एक नींव रखी जाएगी। वांशिगटन को उम्मीद है कि “शान्ति के लिए रोडमैप 1 सितम्बर को तय किया जायेगा।”

इसमें अफगानिस्तान से अमेरिकी और नाटो सैनिको की वापसी भी शामिल है। क़तर में दो दिवसीय मुलाकात का आयोजन हो चुका है। दोहा में आयोजित इस बैठक में तालिबान के प्रतिनिधि, अफगानिस्तान की सरकार, महिलायें और देश के नागरिक समाज के सदस्य भी थे।

जंग के बाद अफगानिस्तान में इस्लामिक कानूनी प्रणाली होगी। जिसमे इस्लामिक मूल्यों के तहत महिलाओं के अधिकारों का संरक्षण किया जायेगा और सभी संजातीय समूहों की समानता को सुनिश्चित किया जायेगा। तालिबान ने हाल ही में अफगानिस्तान सरकार के साथ बातचीत के लिए हामी भरी थी।

तालिबान ने बैठक में महिलाओं की भूमिका, आर्थिक विकास और अल्पसंख्यकों की भूमिका के बाबत बातचीत की थी। दो दिवसीय अफगानी सम्मेलन में अमेरिका ने प्रत्यक्ष तौर पर शिरकत नहीं की थी। राष्ट्रपति अशरफ गनी के प्रशासन को तालिबान अमेरिकी सरकार के हाथो की कठपुतली कहता है और बातचीत से इनकार करता है।

तालिबान का अलकायदा के साथ सम्बन्ध के कारण ही 18 वर्ष पूर्व अमेरिका ने अफगानिस्तान में दखलंदाज़ी की थी। अमेरिका और तालिबान के बीच हुए समझौते के मुताबिक, वांशिगटन अफगानी सरजमीं से सभी विदेशी सैनिको को वापस बुलाएगा और तालिबान आतंकी समूहों को देश में सुरक्षित पनाह नहीं देगा।

इस समारोह को दोनों पक्षों के बीच जमी बर्फ पिघालने वाले के तौर पर देखा जा रहा है जो देश में शान्ति वार्ता का नेतृत्व कर सकता है।

माइक पोम्पिओ ने ट्वीटर पर लिखा कि “शान्ति के लिए आंतरिक अफगान वार्ता का आयोजन लम्बे अंतराल के बाद दोहा में हो रहा है। उच्च सरकार, नागरिक समाज, महिलाओं और तालिबानी प्रतिनिधियों को एक टेबल पर एकजुट होकर देखना अद्भुत है।”

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के लिए 5-6 फिल्मों को अस्वीकार...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -