शुक्रवार, नवम्बर 15, 2019

घर के अंदर भी सनस्क्रीन क्यों लगाना जरूरी है?

Must Read

मध्य प्रदेश के शिवपुरी में युवक ने की थाने के सामने आत्मदाह की कोशिश, पुलिस के रवैये से था नाराज

मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में पुलिस के रवैये से नाराज एक युवक ने थाने के सामने ही आत्मदाह...

सुप्रीम कोर्ट ने वायु प्रदुषण को लेकर कहा ऑड-ईवन आधा अधूरा समाधान

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को दिल्ली के प्रदूषण पर कहा कि ऑड-ईवन आधा-अधूरा समाधान है, अच्छा होता अगर बिना...

मुश्ताक अली ट्रॉफी 2019 में उत्तर प्रदेश ने दी मणिपुर को 7 विकेट से शिकस्त

उत्तर प्रदेश ने ने यहां के सेंट जेवियर कॉलेज मैदान पर शुक्रवार को खेले गए सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी-2019-20...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

नई दिल्ली, 22 मई (आईएएनएस)| यह सभी को पता है कि सनस्क्रीन सूरज की हानिकारक पराबैंगनी किरणों से हमारी त्वचा की रक्षा करती है इसलिए घर से बाहर कदम रखने से पहले इसे स्किन पर लगाना चाहिए। हालांकि विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि घर के अंदर रहने के दौरान भी चेहरे पर सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी है।

आज के जमाने में हम तमाम डिवाइसों से घिरे हुए हैं। घर में रहने के दौरान भी हम सोते या बैठते वक्त लैपटॉप, मोबाइल फोन, टैबलेट का उपयोग करते हैं और इनसे निकलने वाली हानिकारक विकिरणों का दुष्प्रभाव हमारी त्वचा पर पड़ती है।

त्वचा विशेषज्ञ रश्मि शर्मा ने एक बयान में कहा, “डिजिटल पर बढ़ती निर्भरता ने हमारी त्वचा को सबसे ज्यादा हानिकारक इन नीली किरणों से अवगत कराया है। हालांकि उपभोक्ता सूरज की हानिकारक पराबैंगनी किरणों से खुद को बचाने के लिए एहतियाती उपायों से अच्छी तरह से वाकिफ हैं, लेकिन इन नीली विकिरणों का त्वचा पर हानिकारक प्रभावों के बारे में वे अभी भी अंजान हैं और इससे सुरक्षा के उपाय भी उपलब्ध हैं।”

उन्होंने कहा, “रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन दृश्यमान नीले विकिरणों से त्वचा की सुरक्षा बहुत जरूरी है क्योंकि इससे समय से पहले चेहरे पर बढ़ती उम्र के प्रभाव को देखा जा सकता है और इसके साथ ही झुर्रियां, स्किन ढीली पड़ जाना और हाइपरपिगमेंटेशन की समस्या का सामना भी करना पड़ सकता है। इस नीली रोशनी को हाई-एनर्जी विजिबल लाइट्स के नाम से जाना जाता है जो पराबैंगनी किरणों की तुलना में त्वचा की गहराई में प्रवेश करने की क्षमता रखती है जिससे स्किन को नुकसान पहुंचती है।”

इससे स्पष्ट है कि घर से बाहर हो या घर के अंदर, दोनों ही स्थिति में स्किन की देखभाल आवश्यक है।

रश्मि ने आगे सुझाव दिया, “इस दुष्प्रभाव को कुछ हद तक सीमित रखने के लिए अपने डिजिटल उपकरणों पर ब्लू लाइट्स शील्ड का उपयोग सुनिश्चित करें और घर के अंदर रहने के दौरान भी चेहरे पर सनस्क्रीन लगाए।”

ऑर्गेनिक हार्वेस्ट के अनुसंधान और विकास विशेषज्ञ धर्मा राजपूत ने कहा कि कैयोलिन क्ले और एलोवेरा युक्त सनस्क्रीन का उपयोग अपनी त्वचा की देखभाल के लिए करें जो त्वचा से गंदगी को दूर कर आपको 24/7 सुरक्षा प्रदान करती है।

उन्होंने यह भी कहा, “यूवीए और यूवीबी किरणों से त्वचा की सुरक्षा के लिए एक फुल टेबल स्पून ऑर्गेनिक सनस्क्रीन का उपयोग करें और घर में रहने के दौरान भी हर दो या तीन घंटे में चेहरे को साफ कर इसे दोबारा से अप्लाई करें।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

मध्य प्रदेश के शिवपुरी में युवक ने की थाने के सामने आत्मदाह की कोशिश, पुलिस के रवैये से था नाराज

मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में पुलिस के रवैये से नाराज एक युवक ने थाने के सामने ही आत्मदाह...

सुप्रीम कोर्ट ने वायु प्रदुषण को लेकर कहा ऑड-ईवन आधा अधूरा समाधान

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को दिल्ली के प्रदूषण पर कहा कि ऑड-ईवन आधा-अधूरा समाधान है, अच्छा होता अगर बिना छूट दिए इसे लागू किया...

मुश्ताक अली ट्रॉफी 2019 में उत्तर प्रदेश ने दी मणिपुर को 7 विकेट से शिकस्त

उत्तर प्रदेश ने ने यहां के सेंट जेवियर कॉलेज मैदान पर शुक्रवार को खेले गए सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी-2019-20 सीजन के छठे राउंड में...

आयुष्मान खुराना: मुझमें अच्छी फिल्में करने की भूख है

अभिनेता आयुष्मान खुराना ने हाल ही में रिलीज हुई फिल्म 'बाला' के साथ अपनी सातवीं हिट दर्ज करा दी है और वह अब यहीं...

सचिन तेंदुलकर ने आज के दिन किया था टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू

आज से 30 साल पहले 16 साल के सचिन तेंदुलकर ने टेस्ट क्रिकेट के साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण किया था। उस समय खेल...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -