Sun. Jul 21st, 2024
    नरेंन्द्र मोदी व मोहम्मद बिन सलमान

    सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस की भारत यात्रा के दौरान वह ऊर्जा और इंफ्रास्ट्रक्चर में निवेश की कई सौगात दे सकते हैं। मोहम्मद बिन सलमान जल्द ही भारत और पाकिस्तान की यात्रा करेंगे। सऊदी अरब के प्रिंस चीन, मलेशिया और इंडोनेशिया की भी यात्रा करेंगे। जमाल खाशोगी की हत्या के बाद क्राउन प्रिंस की वैश्विक जगत में काफी आलोचनाएं हुई थी।

    सलमान बिन मोहम्मद इस सप्ताह के आखिरी में पाकिस्तान की यात्रा पर आएंगे। विदेश मंत्रालय के मुताबिक उनके साथ कारोबारियों का एक समूह भी भारत के दौरे पर आएगा। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रियाद में आयोजित निवेश सम्मेलन में शिरकत की थी। जमाल खाशोगी की हत्या के बाद पश्चिमी देशों ने इस निवेश सम्मेलन का बहिष्कार किया था।

    ऊर्जा में निवेश से आगे बढ़ेंगे

    एर्जेंटिना में आयोजित जी- 20 की बैठक में पीएम मोदी ने सऊदी अरब के प्रिंस से मुलाकात की थी। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि रियाद भारत का हमेशा से सबसे बड़ा तेल निर्यातक रहा है, और अब दोनों राष्ट्र ऊर्जा से आगे बढ़कर निवेश में भाग लेना चाहते है। दोनो राष्ट्रों की सरकारों ने रणनीतिक साझेदारी के निर्माण के लिए रजामंदी जाहिर की है।

    भारतीय विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि बीते वर्षों में दोनों राष्ट्रों के मध्य द्विपक्षीय संबंधों में सार्थक प्रगति हुई है। साथ ही साझे हित में ऊर्जा सुरक्षा, व्यापार, निवेश, रक्षा और सुरक्षा में वार्ता का स्तर बढ़ा है। अधिकारी के मुताबिक भारत को उम्मीद है कि क्राउन प्रिंस राष्ट्रीय निवेश और इंफ्रास्ट्रक्चर फंड में निवेश की घोषणा करेंगे।

    साल 2014 से भारत ने सऊदी अरब सहित कई देशों को निवेश के लिए प्रोत्साहित किया है और भारत एक तीव्रता से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था रही है। सऊदी की खबर के मुताबिक वह चीन, दक्षिण कोरिया और इंडोनेशिया में स्वास्थय व संचार साधन में निवेश का ऐलान करेगा।

    भारत व पाक में निवेश

    खबर के मुताबिक, सऊदी अरब पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह में 10 अरब डॉलर की आयल रिफायनरी का निर्माण करेगा। यह पाकिस्तान और चीन की महत्वकांक्षी परियोजना बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव का मुख्य भाग है। सऊदी अरब के दो अधिकारीयों ने पुष्टि की कि पाकिस्तान के यात्रा के दौरान मोहम्मद बिन सलमान कई निवेश समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे।

    भारत का सऊदी अरब चौथा विशाल व्यापार साझेदार है। इससे पहले चीन, अमेरिका और जापान इस सूची में हैं। साल 2017-2018 में भारत और सऊदी अरब के बीच व्यापार 9.56 प्रतिशत बढ़कर 27.48 अरब डॉलर का हो गया है। सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस इस यात्रा के दौरान नई दिल्ली में एक और दूतावास के उद्धघाटन करेंगे।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *