श्रीसंत के आजीवन प्रतिबंध पर बोले चेतन चौहान, बीसीसीआई व्यक्तिगत द्वेष के साथ काम नही करता

श्रीसंत

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी चेतन चौहान ने कहा है कि बीसीसीआई निजी द्वेष के लिए काम नही करता और अगर श्रीसंत अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी करना चाहते है तो उन्हे पहली अपनी फिटनेस साबित करनी होगी।

चौहान ने एएनआई से कहा, ” भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) निजी द्वेष के लिए काम नही करता। अंतरराष्ट्र्रीय क्रिकेट में सीधे वापसी करना आसान नही है।”

उन्होने आगे कहा, ” पहले कोई उनके फिटनेस का टेस्ट लेगा फिर देखेगा की वह कैसी स्थिती में है। उन्होने पहले घरेलू क्रिकेट खेलने की जरूरत है क्योंकि वह एक लंबे समय से खेल से बाहर है अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सीधे वापसी करना आसान नही है।”

भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को महत्वपूर्ण 2019 विश्व कप से पहले एक बड़ा झटका लगा है। क्रिकेटर के खिलाफ आईपीसी 498 ए (दहेज उत्पीड़न) और 354 ए (यौन उत्पीड़न) के तहत आरोप पत्र दायर किया गया है। ऐसे में उनका विश्व कप अभियान खतरे में पड़ सकता है क्योंकि मामले की अगली सुनवाई 22 जून को रखी गई है। कोलकाता पुलिस ने उनकी पत्नी हसीन जहां की शिकायत पर आरोप पत्र प्रस्तुत किया है।

चौहान ने मोहम्मद शमी के मुद्दे पर अपनी राय रखते हुए कहा, ” शमी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, मुझे नही लगता की पुलिस उन्हे गिरफ्तार करेगी। वह एक ऐसे खिलाड़ी है जो अपनी दुविधाओं से दूर नही भागते। मुझे नही लगता कि शमी का अंतरराष्ट्रीय सफर खत्म हो जाएगा, अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी बहुत मजबूत होते है और मुझे नही लगता कि इससे उनके खेल के जुनून को कोई फर्क पड़ेगा।”

न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च के दो मस्जिदो में हुई गोलीबारी के ऊपर चेतन चौहान ने कहा ऐसे घटना सभी देशो को एक साथ मिलाती है इससे आतंकवाद को खत्म किया जा सकता है।

चेतन चौहान ने कहा, ” भारत बहुत पहले से आतंकवाद से लड़ रहा है। जिस प्रकार की घटना आजकल हो रही है, इससे उस विश्व के बारे में पता लगता है जिस में हम जीवन व्यतीत कर रहे है। ऐसी घटना से सभी देशो को समझना चाहिए कि आतंकवाद के वैश्विक खतरा है। हर देश को आगे आकर एक साथ मिलकर विश्व से आतंकवाद को खत्म करना चाहिए।”

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here