होम विदेश श्रीलंका ने पाकिस्तानी मंत्री के दावे को किया ख़ारिज, ‘खिलाड़ियो ने 2009 वारदात के आधार पर फैसला लिया’

श्रीलंका ने पाकिस्तानी मंत्री के दावे को किया ख़ारिज, ‘खिलाड़ियो ने 2009 वारदात के आधार पर फैसला लिया’

0
श्रीलंका ने पाकिस्तानी मंत्री के दावे को किया ख़ारिज, ‘खिलाड़ियो ने 2009 वारदात के आधार पर फैसला लिया’

श्रीलंका ने मंगलवार को पाक मंत्री फवाद हुसैन के दावे को ख़ारिज कर दिया कि भारत ने श्रीलंकाई खिलाडियों को पाकिस्तान की यात्रा न करने के लिए उकसाया है। श्रीलंका ने कहा कि खिलाडियों का फैसला पूरी तरह साल 2009 की घटना पर आधारित था।

श्रीलंका के खेल मंत्री हरिन फ़र्नांडो ने कहा कि “इस बात में कोई सच्चाई नहीं है कि भारत ने श्रीलंकाई खिलाडियों को पाकिस्तान में न खेलने के लिए उकसाया है। साल 2009 के हादसे के बाद खिलाड़ियों ने न खेलने का फैसला किया है। उनके निर्णय का सम्मान करते हुए हमने उन खिलाडियों को चुना है जो पाक जाने की इच्छा रखते हैं। हमारी एक ताकतवर टीम है और उम्मीद है कि हम पाकिस्तान को पाकिस्तान में हराएंगे।”

पाकिस्तान के मंत्री फवाद हुसैन ने कहा कि “पाक टूर से श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने बाहर रहने का फैसला भारतकी धमकी के बाद किया है कि उन्हें आईपीएल से बाहर कर देंगे।” उन्होंने कहा कि”एक अज्ञात कमेंटेटर ने मुझसे कहा कि भारत ने श्रीलंका के खिलाडियों को पाक जाने से इनकार न करने पर आईपीएल से बाहर निकलने की धमकी दी है., यह बेहद घटिया हरकत है। हमे इसकी आलोचना करनी चाहिए। भारतीय खेल विभाग के लिजाज से यह वाकई बेहद घटिया है।”

सोमवार को 10 श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने सुरक्षा कारणों के चलते पाकिस्तान के टूर पर जाने से इनकार कर दिया था। श्रीलंका की टीम 27 सितम्बर से 2 अक्टूबर तक पाकिस्तान का टूर करेगी। इस सीरीज से लसिथ मलिंगा, निरोशन डिकविला, कुशल जनित परेरा, धनंजय डी सिल्वा, थिसारा परेरा, अकिला धनंजय, एंजेलो मेथ्यु सुरंगा लक्मल, दिनेश चंदिमल और दिमुरथ करुनारात्ने ने बाहर रहने का निर्णय लिया था।

लाहौर में साल 2009 में श्रीलंकाई टीम के पाक दौरे के दौरान आतंकवादी हमला हो गया था और इसके बाद कोई भी अंतरराष्ट्रीय टीम पाक दौरा नहीं करती। श्रीलंकन टीम पाकिस्तान के साथ मैच के दौरान गद्दाफी स्टेडियम की तरफ बढ़ रही थी कि तभी आतंकवादियों ने बस पर गोलीबारी शुरू का दी थी।

श्रीलंका की टीम ने साल 2017 में पाकिस्तान के साथ एक टी-20 मैच के लिए लाहौर का दौरा किया था। इस हमले के बाद भी आज तक पाकिस्तान में सुरक्षा के हालात मुनासिबं नहीं है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here