सोमवार, नवम्बर 18, 2019

शी जिनपिंग नेपाल के लिए सुरक्षा नेट प्रोवाइडर चीन को बनाना चाहता है

Must Read

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

राष्ट्रपति शी जिनपिंग की साप्ताहिक यात्रा के दौरान चीन नेपाल में एक सुरक्षित नेट प्रोवाइडर मुहैया बनकर उभारना चाहते हैं ताकि संप्रभुता की सुरक्षा को आश्वस्त किया जा सके। यह पहला मौका है जब शी जिनपिंग ने सार्वजानिक स्तर पर किसी दूसरे देश की संप्रभुता की रक्षा के लिए सार्वजानिक स्तर पर आश्वस्त किया है।

शी ने काठमांडू में कहा कि “चीन हमेशा नेपाल का राष्ट्रीय आजादी, संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए समर्थन करता रहेगा।” चीन के इस कदम को भारत को रिप्लेस करने के तौर पर देखा जा रहा है। हिमालय राज्य ने शी जिनपिंग की यात्रा के दौरान रक्षा और प्रत्यर्पण संधि पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया था।

सुरक्षा साझेदारी को मज़बूत करने का चीन का एक गंभीर कदम है हालाँकि जिनपिंग ने अपने इरादों को स्पष्ट कर दिया है। इस यात्रा के दौरान 18 समझौतों पर दस्तखत किये गए थे। चीनी राष्ट्रपति ने इस अवसर का इस्तेमाल तिब्बत और हांगकांग के प्रदर्शनकारियों को सख्त सन्देश देने के लिए किया है।

चीन पर वित्तीय निर्भरता बढ़ने के बावजूद नेपाल के सुरक्षा विभाग ने भारत की सेना के साथ दशको से करीबी संबंधो को कायम रखा है और वह अभी चीन के साथ संबंधो को गहरा करने के लिए इच्छुक है। चीन ने नेपाल के विभिन्न महत्वपूर्ण  इलाको में सहयोग में विस्तार किया है।

नेशनल डिफेन्स यूनिवर्सिटी की स्थापना या निर्माण में चीन के शामिल होने के प्रति सावधान रहता है। नेपाल की सेना के मुताबिक, संस्थान देश का गर्व होता है और इसका निर्माण किसी दुसरे देश की संस्था की बजाय खुद निर्माण किया जाना चाहिए।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज के बाद...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को दरकिनार करते...

मोइन अली ने कहा, आईपीएल जीतने के लिए आरसीबी नहीं रह सकती विराट कोहली और डिविलियर्स के भरोसे

इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली उन दो विदेशी खिलाड़ियों में से हैं जिन्हें रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आगामी...

श्रीलंका राष्ट्रपति चुनाव: गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी, भारत के लिए झटका

श्रीलंका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी जताई जा रही है। मीडिया में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -