गुरूवार, फ़रवरी 20, 2020

शी जिनपिंग नेपाल के लिए सुरक्षा नेट प्रोवाइडर चीन को बनाना चाहता है

Must Read

डोनाल्ड ट्रम्प की अहमदाबाद की 3 घंटे की यात्रा के लिए 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी गुजरात सरकार: रिपोर्ट

समाचार एजेंसी रायटर ने बुधवार को सूचना दी कि अहमदाबाद में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की...

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

राष्ट्रपति शी जिनपिंग की साप्ताहिक यात्रा के दौरान चीन नेपाल में एक सुरक्षित नेट प्रोवाइडर मुहैया बनकर उभारना चाहते हैं ताकि संप्रभुता की सुरक्षा को आश्वस्त किया जा सके। यह पहला मौका है जब शी जिनपिंग ने सार्वजानिक स्तर पर किसी दूसरे देश की संप्रभुता की रक्षा के लिए सार्वजानिक स्तर पर आश्वस्त किया है।

शी ने काठमांडू में कहा कि “चीन हमेशा नेपाल का राष्ट्रीय आजादी, संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए समर्थन करता रहेगा।” चीन के इस कदम को भारत को रिप्लेस करने के तौर पर देखा जा रहा है। हिमालय राज्य ने शी जिनपिंग की यात्रा के दौरान रक्षा और प्रत्यर्पण संधि पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया था।

सुरक्षा साझेदारी को मज़बूत करने का चीन का एक गंभीर कदम है हालाँकि जिनपिंग ने अपने इरादों को स्पष्ट कर दिया है। इस यात्रा के दौरान 18 समझौतों पर दस्तखत किये गए थे। चीनी राष्ट्रपति ने इस अवसर का इस्तेमाल तिब्बत और हांगकांग के प्रदर्शनकारियों को सख्त सन्देश देने के लिए किया है।

चीन पर वित्तीय निर्भरता बढ़ने के बावजूद नेपाल के सुरक्षा विभाग ने भारत की सेना के साथ दशको से करीबी संबंधो को कायम रखा है और वह अभी चीन के साथ संबंधो को गहरा करने के लिए इच्छुक है। चीन ने नेपाल के विभिन्न महत्वपूर्ण  इलाको में सहयोग में विस्तार किया है।

नेशनल डिफेन्स यूनिवर्सिटी की स्थापना या निर्माण में चीन के शामिल होने के प्रति सावधान रहता है। नेपाल की सेना के मुताबिक, संस्थान देश का गर्व होता है और इसका निर्माण किसी दुसरे देश की संस्था की बजाय खुद निर्माण किया जाना चाहिए।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

डोनाल्ड ट्रम्प की अहमदाबाद की 3 घंटे की यात्रा के लिए 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी गुजरात सरकार: रिपोर्ट

समाचार एजेंसी रायटर ने बुधवार को सूचना दी कि अहमदाबाद में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की...

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही तैयारी भारतीयों की "गुलाम मानसिकता"...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal)...

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नें नागरिकता क़ानून के खिलाफ विरोध में लिया भाग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने शुक्रवार को मांग की कि केंद्र देश में शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए संशोधित...

जम्मू कश्मीर मामले में भारत का तुर्की को जवाब; ‘आंतरिक मामलों में दखल ना दें’

भारत ने शुक्रवार को अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान जम्मू और कश्मीर पर तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन की टिप्पणियों का जवाब दिया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -