शनिवार, फ़रवरी 29, 2020

शी जिनपिंग और किम जोंग उन ने चीन-उत्तर कोरिया के संबंधो को अमर बनाया

Must Read

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने उत्तर कोरिया के साथ लम्बे समय और स्थिर संबंधो का प्रचार करने का वादा किया था। दोनों देशो के बीच राजनयिक संबंधो को 70 वर्ष पूरे हो गए हैं। उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने शी जिनपिंग को एक सन्देश भेजा था और कहा कि “समाजवाद की राह पर हमारी मजबूत दोस्ती हमेशा अमिट रहेगी।”

साल 1949 में स्थापना के बाद उत्तर कोरिया उन देशो में शुमार था जिसने चीन को मान्यता दी थी। मार्च 2018 से किम और शी ने पांच दफा मुलाकात की है। शी ऐसे पहले चीनी नेता है जिन्होंने 14 वर्षो में पहली बार चीन की यात्रा की है और जून में यह दौरा ऐतिहासिक हुआ था।

किम ने कहा कि “दोनों देश समाजवाद का बचाव करेंगे और कोरिया प्रायद्वीप या विश्व में शान्ति और स्थिरता को कायम रखेंगे। मंगलवार को बीजिंग में देश के 70 वें स्थापना समारोह में हावी सैन्य परेड आयोजित की गयी थी और अमेरिका व उत्तर कोरिया के बीच स्वीडन में एक दिन पूर्व ही वार्ता की गयी है।

प्योंगयांग में अमेरिका के प्रतिबन्ध लागू है और उन्हें परमाणु व बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम को त्यागने के लिए मजबूर किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि “वार्ता इसलिए बिगड़ी क्योंकि अमेरिका ने हमें बेहद निराश किया था।”

फ़रवरी में किम जोंग उन और डोनाल्ड ट्रम्प के बीच वार्ता रद्द हो गयी थी और इसके बाद प्योंगयांग ने सिलसिलेवार मिसाइलों को लांच किया था। अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच वार्ता के दोबारा शुरू होने के बाद से ही चीन और रूस यूएन से प्रतिबंधो को हटाने की मांग कर रहे हैं ताकि उत्तर के परमाणु निरस्त्रीकरण की तरफ गति प्रदान की जा सके।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के लिए 5-6 फिल्मों को अस्वीकार...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -