दा इंडियन वायर » राजनीति » संसद शीतकालीन सत्र : राज्यसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित
राजनीति

संसद शीतकालीन सत्र : राज्यसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

संसद के शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन शुक्रवार को राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने सदन की कार्यवाही अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दी। इसके पहले सदन में हंगामे के कारण नायडू को सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी। यह राज्यसभा का ऐतिहासिक 250वां सत्र था और यह लगभग 100 फीसदी फलदायी रहा।

सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने से पहले सभापति ने कहा कि सदन लगातार दो सत्रों से 100 प्रतिशत उत्पादक रहा है।

नायडू ने कहा, “यह शायद पहला मौका है, जब इस सदन ने लगातार दो सत्रों से 100 प्रतिशत उत्पादकता दर्ज की है।”

उन्होंने कहा, “मैं मानता हूं कि यह यह स्थिति आगामी समय में भी जारी रहेगी।”

राज्यसभा ने पिछले सत्र में 104 प्रतिशत उत्पादकता दर्ज की थी, और इस बार यह 100 प्रतिशत रही है।

शीतकालीन सत्र के दौरान कुल 15 विधेयक पारित हुए, जिनमें प्रमुख विधेयकों में नागरिकता संशोधन विधेयक, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली (अनधिकृत कॉलोनियों के निवासियों के संपत्ति अधिकार को मान्यता) विधेयक 2019 और इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट (उत्पादन, विनिर्माण, आयात, निर्यात, परिवहन, विक्री, वितरण, भंडारण और विज्ञापन) विधेयक, 2019 शामिल हैं।

राज्यसभा ने संविधान (126वां संशोधन) विधेयक, 2019 भी पारित किया, जिसमें लोकसभा और राज्य विधानसभाओं में अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों को अगले 10 साल तक के लिए आरक्षण देने का प्रावधान है।

सभापति ने सदस्यों को संबोधित करते हुए अपनी समापन टिप्पणी में कहा, “आपने कल अतिरिक्त तीन घंटे बैठक कर पर्याप्त चर्चा के साथ रिकॉर्ड संख्या में चार विधेयक पारित किए। इससे पता चलता है कि यदि आप चाहें तो आप ऐसा कर सकते हैं और आपने ऐसा किया भी।”

About the author

विन्यास उपाध्याय

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Advertisement