Tue. Jul 23rd, 2024
    शिखर धवन

    आईपीएल की शुरुआत में दिल्ली के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम के नेट्स में अभ्यास करने उतरे शिखर धवन ने कहा था, ” कोटला की सारी यादे ताजा हो गई।”

    उनके क्रिकेट जीवन का एक बड़ा हिस्सा कोटला के साथ गहरा संबंध है, और यह उच्च करियर पर एक बातचीत के केंद्र में होने के लिए बाध्य था। धवन के लिए यह एक ऐसा स्थान है जहां उन्होने अपने 20 साल की उम्र में यहा बहुत क्रिकेट खेला है और उम्मीद करते थे कि उन्हे भारतीय टीम से खेलने का मौका मिलेगा। हालांकि, अब, हालांकि, इस बारे में बात बनी हुई है कि धवन की गहरी एथलेटिक काया कैसी प्रतीत होती है, वह लापरवाह और खुशमिजाज व्यक्ति हैं।

    उनके व्यक्तित्व पर एक सवाल का जवाब देते हुए धवन ने कहा, “मैं अपनी भावनाओं को नहीं दिखाता। तीव्रता मेरे अंदर रहती है। उत्तेजित होने से मदद नहीं मिली। मैं केवल एक साफ मानसिकता रखता हूं लेकिन इसका मतलब यह नही है कि मेरे अंदर तीव्रता नही है।”

    ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यादगार शुरुआत से करीब छह महीने पहले 2012 में, धवन अपनी शादी के बाद कोटला में अभ्यास करने के लिए आए। उस घरेलू सीज़न के अधिकांश भाग में, धवन ने दिन के खेल के बाद आयशा को थ्रोडाउन दिया। धवन ने कहा, ” मैं उनके साथ अपनी क्रिकेट की बाते साझा करता था। हम इस बारे में गहन विचार-विमर्श करते थे कि मैं इसके बारे में कैसे जा रहा हूं।” धवन ने अपना हास्य पक्ष लेने से पहले खुलासा किया, ” कभी-कभी वह इतनी व्यस्त और उत्साहित हो जाती थी जब मैं अच्छा नही खेलता था और मैं फिर उन्हे शांत रहने के लिए कहता था। “शांत रहो इतना गुस्सा तो मेरा कोच भी मुझ पर नही होता।”

    फिर उन्होंने अपने जीवन में सबसे बड़े प्रभाव के बारे में बात की और कहा, ” मैं भाग्यशाली था कि मेरी पत्नी के साथ उनकी दो बेटियां आई। इससे मुझे अपनी ऊर्जा को चैनलाइज़ करने में मदद मिली। मैं कम विचलित हो गया, अधिक ध्यान केंद्रित करने लगा। इससे मेरे जीवन में ठहराव आया।”

    इस समय शिखर 33 साल के है और वह आगामी विश्वकप में भारतीय टीम के लिए अहम भूमिका निभाएंगे क्योकि अब तक के उनके आकड़े देखे जाए तो वह आईसीसी टूर्नामेंट में टीम के लिए सबसे प्रभावशाली खिलाड़ी रहे है।

    आपके बारे में बड़े इवेंट में दबाव को सही से संभालने के बारे में बात की जाती है, धवन ने कहा, ” मैं दबाव को अपने ऊपर हावी नही होने देता। जितना मैं ऐसे समय में अपने खेल के बारे में सोचूंगा उससे मुझे उतनी ज्यादा मदद मिलेगी। मैं फिल्ड पर अपनी भावनाओं को अपनी बल्लेबाजी में मिश्रण नही करने देता और शांत होकर खेलने के बारे में सोचता हूं।आपको वहां पर बेहतर करने की जरुरत होती है और अपने संकोच को दूर रखने की।”

    उन्हे 27 साल की उम्र तक भारतीय टीम में अपनी जगह पक्की करने का इंतजार करना पड़ा था। धवन ने कहा, ” मुझे हर चीज से प्यार है, जो भी उतार-चढाव पिछले पांच-छह साल में मेरे जीवन में आए। आपको अपने सफर से ही बहुत कुछ सीखने को मिलता है। मैंन हार जीत और दबाव हर चीज का आनंद लिया है।”

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *