शुक्रवार, जनवरी 24, 2020

‘शांति समझौते को अंतिम रूप दे रहे हैं तालिबान व अमेरिका’

Must Read

दिल्ली : सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा, सीमित मुफ्त सुविधाएं अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी, गरीबों के पास पैसों की बचत होती है

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि अगर कोई अतिरिक्त कर नहीं लगता है और अगर...

झारखंड : पत्थलगड़ी हत्याकांड के बाद सीएम हेमंत सोरेन ने स्थगित किया मंत्रिमंडल विस्तार

पश्चिम सिंहभूम जिले में सात लोगों की हत्या के बाद झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने मंत्रिमंडल विस्तार...

अडानी गैस के शेयरों में 14 फीसदी की भारी गिरावट

अडानी गैस के शेयरों में शुक्रवार को बीएसई में 14 फीसदी की भारी गिरावट आई। ऐसा पेट्रोलियम एंड नेचुरल...

अफगानिस्तान में सरकार और देश में मौजूद विदेशी सेनाओं के खिलाफ आतंकवादी हिंसा में शामिल तालिबान ने कहा है कि अमेरिका के साथ उसके शांति करार की संभावनाएं इस बार बहुत मजबूत हैं। इस बात की संभावना है कि क्रिसमस या नए साल के शुरू तक अमेरिका इस करार के होने का ऐलान कर देगा।

तालिबान और अमेरिका के बीच कतर के दोहा में शनिवार को फिर से शांति वार्ता शुरू हुई। तालिबान का कहना है कि उसने वार्ता का सिरा वहीं से पकड़ा है, जहां यह सितंबर महीने में था जब राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने वार्ता रद्द कर दी थी। वे लोग उस तारीख और जगह के नाम पर अभी काम कर रहे हैं जब और जहां शांति समझौते का ऐलान किया जाएगा।

पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, शांति वार्ता से करीब से जुड़े एक तालिबानी नेता ने कहा, “शांति प्रक्रिया की अधिकांश बातों पर बात पहले ही हो चुकी है और इन पर दोनों पक्षों की सहमति है। अमेरिका शांति समझौते का ऐलान या तो क्रिसमस पर या नए साल में कर देगा।”

नेता ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि ‘वार्ता में अमेरिकी पक्ष का नेतृत्व उसके विशेष दूत जाल्मे खलीलजाद कर रहे हैं जबकि तालिबान पक्ष का नेतृत्व मुल्ला अब्दुल गनी बिरादर के पास है। तालिबान को लग रहा है कि अमेरिका इस बार शांति वार्ता को लेकर ‘गंभीर’ है। खलीलजाद के अलावा दोहा वार्ता में अफगानिस्तान में अमेरिका के सैन्य कमांडर जनरल स्कॉट मिलर भी हिस्सा ले रहे हैं। हमें उम्मीद नहीं थी कि जनरल मिलर शांति वार्ता के लिए काबुल से आएंगे। उन्हें देखकर लगा कि इस बार अमेरिका शांति प्रक्रिया को लेकर गंभीर है।’

तालिबान नेताओं ने बताया कि उन्होंने ‘अमेरिका को अफगानिस्तान में सशर्त जंगबंदी की पेशकश की है। अमेरिका को दो विकल्प दिए गए हैं। या तो वे हमारे खिलाफ अभियान रोक दें तो हम पूर्ण युद्धविराम कर देंगे। दूसरा यह कि वे जिन इलाकों से अपनी सेना हटा लेंगे, वहां हम उन पर हमले नहीं करेंगे।’

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली : सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा, सीमित मुफ्त सुविधाएं अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी, गरीबों के पास पैसों की बचत होती है

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि अगर कोई अतिरिक्त कर नहीं लगता है और अगर...

झारखंड : पत्थलगड़ी हत्याकांड के बाद सीएम हेमंत सोरेन ने स्थगित किया मंत्रिमंडल विस्तार

पश्चिम सिंहभूम जिले में सात लोगों की हत्या के बाद झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने मंत्रिमंडल विस्तार कार्यक्रम को फिलहाल टाल दिया...

अडानी गैस के शेयरों में 14 फीसदी की भारी गिरावट

अडानी गैस के शेयरों में शुक्रवार को बीएसई में 14 फीसदी की भारी गिरावट आई। ऐसा पेट्रोलियम एंड नेचुरल गैस रेग्युलेटरी बोर्ड ऑफ इंडिया...

भाजपा के पूर्व वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने कहा, पार्टी को भुगतना पड़ेगा सीएए का खामियाजा

भाजपा के पूर्व वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर भगवा पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा है कि भाजपा...

ऑकलैंड टी-20 : 3 मेजबान बल्लेबाजों के अर्धशतक, भारत के सामने विशाल लक्ष्य

न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम ने अपने तीन बल्लेबाजों के अर्धशतकों के दम पर यहां के ईडन पार्क मैदान पर शुक्रवार को जारी पहले टी-20 मुकाबले...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -