दा इंडियन वायर » समाचार » व्यक्तिगत डेटा संरक्षण विधेयक की रिपोर्ट को अंतिम रूप देने के लिए संयुक्त संसदीय समिति का बैठक अगले हफ्ते
समाचार

व्यक्तिगत डेटा संरक्षण विधेयक की रिपोर्ट को अंतिम रूप देने के लिए संयुक्त संसदीय समिति का बैठक अगले हफ्ते

विवादास्पद व्यक्तिगत डेटा संरक्षण विधेयक, 2019 पर संयुक्त संसदीय समिति ने लंबे समय से लंबित अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप देने के लिए 15 और 16 सितंबर को एक बैठक बुलाई है। पैनल ने पिछले साल रिपोर्ट के मसौदे को अंतिम रूप दिया था लेकिन इसे सदस्यों के बीच परिचालित नहीं किया गया था। नवीनतम बैठक से पहले प्रसारित एजेंडा पेपर पैनल को शुरुआत की बहस पर वापस ले आता है: अंतिम रिपोर्ट के बजाय यह बहस को एक बार फिर से खोल देता है।

व्यक्तिगत डेटा संरक्षण विधेयक पर संयुक्त समिति की अध्यक्ष मीनाक्षी लेखी सहित पांच सदस्यों को जुलाई में मंत्रिपरिषद में शामिल किया गया था। इसके बाद पी.पी. चौधरी ने अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला है जिन्होंने 2016-17 में एक वर्ष से अधिक समय तक इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री के रूप में कार्य किया था।

उन्होंने व्यक्तिगत और गैर-व्यक्तिगत डेटा को कवर करने के लिए डेटा संरक्षण प्राधिकरण के दायरे का विस्तार करने सहित कुछ अतिरिक्त परिवर्तनों का प्रस्ताव दिया है जो पहले से ही विवादास्पद कानून को और अधिक विरोश और बहस की ओर ले जा सकता है। यह विधेयक व्यक्तिगत डेटा के शासन के लिए एक निकाय स्थापित करना चाहता है लेकिन सरकार ने सितंबर 2019 में गैर-व्यक्तिगत डेटा को विनियमित करने के लिए एक रूपरेखा की सिफारिश करने के लिए एक नई समिति का गठन किया था।

यह विधेयक सरकार और निजी कंपनियों द्वारा व्यक्तिगत डेटा के उपयोग को विनियमित करने का प्रयास करता है और कानून का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए इसमें एक डेटा संरक्षण प्राधिकरण की परिकल्पना की गई है।

प्रस्तावित अधिनियम में कहा गया है कि अन्य बातों के अलावा, प्राधिकरण “इस अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार व्यक्तिगत डेटा उल्लंघन के जवाब में त्वरित और उचित कार्रवाई करेगा।” वहीं इस सदर्भ में समिति ने सिफारिश की है कि “व्यक्तिगत” शब्द को “डेटा उल्लंघन की निगरानी को प्राधिकरण के दायरे को बढ़ाने के लिए” छोड़ दिया जाए।

पैनल के 30 सदस्यों में से दस ने किसी भी सरकारी एजेंसी को अधिनियम के आवेदन से छूट देने के लिए केंद्र सरकार को शक्ति देने वाले कानून में प्रावधान के खिलाफ संशोधन किया था।

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!