Fri. Jul 19th, 2024
    जिओ बनाम एयरटेल, वोडाफोन

    2016 को बाज़ार में दस्तक देने वाली रिलायंस जियो ने तब से आज तक शायद ही अपनी प्रतिद्विंदियों को आगे निकलने का मौका दिया हो।

    जियो ने इतने कम समय में अपने ग्राहकों की संख्या में रिकॉर्ड इजाफा किया है। इसी के साथ राजस्व के मामले में भी जियो ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा है। इसके उलट जियो की प्रतिद्वंदीयों को लगातार घाटे का सामना करना पड़ा है। जियो का मुक़ाबला करने के लिए आइडिया और वोडाफोन ने आपस में विलय तक कर लिया है।

    इस दौड़ में सरकार के स्वामित्व वाली कंपनी बीएसएनएल तो कुछ खड़ी नज़र आती है, लेकिन हाल ही में हुए विलय के बाद एक हुई वोडाफोन-आइडिया व एयरटेल को घाटे का सामना करना पड़ा है।

    अब एक रिपोर्ट के हवाले से खबर आ रही है कि वोडाफोन-आइडिया लिमिटेड (VIL) सितंबर माह के अंत में ख़त्म हो रही दूसरी वित्तीय तिमाही पर अपने घाटे का ऐलान कर सकती है।

    इसी के साथ ग्राहकों की संख्या के हिसाब से नंबर 2 पर काबिज भारती एयरटेल इस तिमाही अपने घाटे का ऐलान कर सकती है।

    इन कंपनियों को घाटा होने के कई कारण सामने आए हैं, जिनमे एक ओर जहां रुपये की घटती कीमत है वहीं दूसरी ओर इनके ग्राहकों में आई कमी भी इसकी बड़ी वजह है।

    इसी के साथ जियो ने हाल ही में 1500 रुपये में जियो फोन को बाज़ार में उतारकर निम्न वर्गीय व माध्यम वर्गीय लोगों को भी बड़ी संख्या में अपने साथ जोड़ लिया था।

    मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो इस तिमाही के अंत में एक बार फिर से मुनाफे का ऐलान करती दिख सकती है।

    वोडाफोन का राजस्व इस तिमाही 7,813 करोड़ से 8,106 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। वोडाफोन को करीब 2,600 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ सकता है।

    वहीं दूसरी ओर एयरटेल को 8.4 करोड़ से 1,266 करोड़ रुपये के मध्य नुकसान होने की आशंका है।

    इसी के साथ लगातार मुनाफे का रास्ता तय करती जा रही जियो को इस तिमाही से 622 करोड़ से 795 करोड़ रुपये का लाभ मिलने की संभावना है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *