Thu. Dec 1st, 2022

    देश भर में 18 साल और उससे अधिक आयु वाले लोगों के टीकाकरण की 1 मई से शुरुआत होने वाली है। इस बीच देश के 4 कांग्रेस-शासित राज्यों और केरल का कहना है कि उनके पास वैक्सीन का स्टॉक नहीं है। ऐसे में वे 1 मई से वैक्सीनेशन की शुरुआत नहीं कर सकते। कांग्रेस शासित राजस्थान का कहना है कि उसे कोविशील्ड वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने कहा है कि उसकी ओर से 15 मई से पहले सप्लाई नहीं की जा सकेगी। राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने कहा, ‘हमसे सीरम इंस्टिट्यूट से बात करने को कहा गया था। उनका कहना है कि हमें केंद्र सरकार से जो ऑर्डर मिले हैं, उनकी सप्लाई के लिए 15 मई तक का वक्त चाहिए होगा। इसलिए तब तक वे हमें वैक्सीन देने की स्थिति में नहीं हैं।’

    झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बड़ा फैसला लेते हुए कहा था कि 1 मई से 18 साल और उसके ऊपर के लोगों को फ्री में कोरोना की वैक्सीन दी जाएगी, लेकिन महज दो दिनों में सरकार ने अपने हाथ खड़े कर दिए हैं। झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि केंद्र सरकार ने दोनों वैक्सीन उत्पादन को पूरी तरह से हाईजैक कर लिया है। हमलोग उनसे वैक्सीन नहीं खरीद सकते। केंद्र सरकार को यह वैक्सीन कांग्रेस शासित प्रदेश को भी आवंटित करनी चाहिए।

    छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव और पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने भी शर्मा का साथ दिया है। देव ने कहा कि उन्होंने सुना है कि असम ने टीकों के लिए ऑर्डर देने की कोशिश की थी, लेकिन उन्हें बताया गया कि वैक्सीन उन्हें एक महीने के बाद मिलेंगे। सभी चार स्वास्थ्य मंत्रियों ने कहा कि वे एक मई से टीकाकरण के अगले फेज के लिए तैयार थे, लेकिन निर्माताओं ने डोज देने में असमर्थता व्यक्त की।

    पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धू ने कहा “वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने पर टीकाकरण का कोई रास्ता नहीं है। स्थिति बहुत स्पष्ट है। केंद्र कह रहा है कि टीकाकरण सभी के लिए ओपन कर दिया गया है लेकिन वैक्सीन उपलब्ध नहीं हैं। फिर पूरे देश को गुमराह किया जा रहा है। एक तरह से राज्यों पर बोझ डालने और उन्हें बदनाम करने की कोशिश की जा रही है, यह कहते हुए कि हमने वैक्सीनेशन ओपन कर दिया है।” उन्होंने कहा कि “हम सभी को एक ही उत्तर दिया जा रहा है कि 15 मई तक बुकिंग है,उसके बाद सप्लाई शुरू होगी।”

    केरल के पास सिर्फ चार लाख वैक्सीन डोज का स्टॉक बचा है। राज्य ने वैक्सीनेशन साइट्स को सीमित करना शुरू कर दिया है। अभी तक केरल एक दिन में 2.5-3 लाख डोज एक दिन में दे रहा था, लेकिन 25 अप्रैल को राज्य में सिर्फ करीब 60,000 डोज ही दी गईं।

    18-45 साल की उम्र के लोगों के लिए वैक्सीनेशन का रजिस्ट्रेशन 1 मई से शुरू हो जाएगा। हालांकि, राज्य ने साफ कर दिया है कि इन लोगों के लिए वैक्सीनेशन तभी शुरू होगा जब वैक्सीन स्टॉक में होंगी।

    By आदित्य सिंह

    दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *