दा इंडियन वायर » स्वास्थ्य » वे प्रोटीन के दुष्परिणाम
स्वास्थ्य

वे प्रोटीन के दुष्परिणाम

whey protein side effects in hindi

वे प्रोटीन क्या सच में हमारे लिए अच्छा होता है? ये ज़रूर अच्छा होता है, लेकिन इसके दुष्परिणाम भी उतने ही होते हैं।

वे प्रोटीन एक सुरक्षित परिशिष्ट है, लेकिन इसे उचित से ज़्यादा लेने से, हमारे शरीर को बहुत हानी पहुँच सकती है, खासकर की तब, जब हमारे शरीर में कार्बोहाइड्रेट्स की कमी हो। दूध में दो तरह के प्रोटीन पाए जाते हैं। वे प्रोटीन उनमें से एक है।

इसका सबसे बड़ा फायदा ये है कि ये आसानी से हजम हो जाता है।

वे प्रोटीन के फायदे (benefits of whey protein)

वे प्रोटीन हमारे शरीर के वज़न को संतुलित और नियंत्रण में रखता है। इसके अलावा, इसके अन्य फायदे निम्न हैं:

  1. इसे वज़न घटाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  2. वे प्रोटीन से हमारे मसल्स भी बढ़ते हैं।
  3. इससे कर्क रोग का भी इलाज होता है।
  4. हमारे शरीर का कोलेस्ट्रॉल भी कम हो जाता है।
  5. हमारे शरीर को शक्ति और ताकत देता है।
  6. वे प्रोटीन से हममें ज़्यादा से ज़्यादा खेल खेलने की ऊर्जा मिलती है।

ये सब फायदे हमें वे प्रोटीन से ज़रूर मिलते हैं, लेकिन सिर्फ तब जब हम इसे उचित मात्रा में लें। इसे उचित मात्रा में ना लेने से, फायदों के बदले, हमारे शरीर को इसके नुक्सान और दुष्परिणाम मिलेंगे।

वे प्रोटीन कब लेना चाहिए?

कई लोग यह सवाल पूछते हैं। उन्हें वे प्रोटीन लेने का मन करता तो है, लेकिन कब, कैसे, कितना, उसकी जानकारी उन्हें नहीं होती है।

सबसे पहले तो वे प्रोटीन हमें व्यायाम करने के आधे य एक घंटे के बाद लेना चाहिए। यह इसलिए क्योंकि ये प्रोटीन बहुत जल्दी हजम हो जाता है। लेकिन व्यायाम के अलावा हम अगर इसको लेते हैं, तो हमें इसे अन्य आहारों के साथ खाना चाहिए।

इसके अलावा अगर आपको दफ्तर में कुछ स्वस्थ खाना हो, तो आप नट्स को वे प्रोटीन में मिलाकर पी सकते हैं।

लेकिन इसके बहुत से दुष्परिणाम भी पाए गए हैं। उनमें से कुछ निम्न हैं।

वे प्रोटीन के दुष्परिणाम (Side effects of whey protein)

मोटापा बढ़ना

इस तरह के परिशिष्ट में बहुत सारे कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं, चीनी के रूप में। कुछ में तो फैट भी होता है। इसका मतलब ये होता है कि फैट के रूप में हमारा वज़न बढ़ जाएगा। ये हमारे सेहत के लिए अच्छा नहीं होता है। अगर हम ये प्रोटीन लेते वक्त, उचीत से ज़्यादा खाना खा लें, तो भी हमारा वज़न बढ़ जाता है।

पाचन की समस्या

वे प्रोटीन में लाक्टोस का तत्व पाया जाता है। अगर किसी के शरीर को ये तत्व नहीं जमता है, तो उन्हें उनके पाचन में तक्लीफ मह्सूस होती है।

किडनी की समस्या

इस तरह के परिशिष्ट से हमारे किडनी को हानी पहुँच सकती है। इसलिए ज़रूरी होता है कि हम अपने प्रोटीन लेने की प्रक्रिया पर पूरा-पूरा ध्यान दें। इन्हें लेने से पहले हमें अपने डॉक्टर से भी सलाह ले लेनी चाहिए, क्योंकि इससे हम बीमारियों से बच सकते हैं।

लिवर की समस्या

वे प्रोटीन लेने से, हमारा लिवर बहुत खराब हो जाता है। इसलिए, इसे सही मात्रा में लेना बहुत ही आवश्यक हो जाता है। एक डॉक्टर से आपके लिवर की हालत जानकर ही इसे लेना सबसे श्रेष्ठ है। इसे हम बीमारी से दूर रहेंगे।

दिल के रोग का खतरा

जिन लोगों दिल की समस्याएँ य बीमारी है, उन लोगों के लिए वे प्रोटीन बहुत ही ज़्यादा हानीकारक हो सकता है। इससे उनकी जान भी जा सकती है। इसलिए ऐसे लोगों को वे प्रोटीन को नहीं लेना चाहिए।

कमज़ोरी

कभी-कभी, वे प्रोटीन से लोगों में पाचन की समस्या भी होती है। इसके कारण उन्हें अपने शरीर में काफी कमज़ोरी भी महसूस होती है। यह इसलिए होता है क्योंकि किसी-किसी का शरीर, प्रोटीन को इतनी आसानी से हजम नहीं कर पाता है।

दस्त

एक और बीमारी जिससे हमें काफी तक्लीफ होती है वे प्रोटीन पीने के बाद है, दस्त। ये इसलिए होता है क्योंकि वे प्रोटीन का असर हमारे डाइजेस्टिव सिस्टम पर पड़ता है।

घरघराहट (wheezing)

जिन लोगों का शरीर लाक्टॉस के तत्व को सही तरह से ले नहीं पाता है, उन्हें ए प्रोटीन से ऐलर्जी जैसी हो जाती है। ऐसे लोगों को साँस लेने में तक्लीफ हो जाती है।

गला, मुँह, और होंठ का सूजन

वे प्रोटीन से हमारा गला, मुँह, और होंठ में सुजन आ जाता है। इससे हमें दर्द नहीं होता है, लेकिन ये बहुत ही असुविधाजनक हो जाता है। इसका हमारे शरीर पर और भी बुरा असर ना हो, इसके लिए हमें तुरंत डॉक्टर के पास भी चले जाना चाहिए।

जी मिचलाना

वे प्रोटीन का ये दुष्परिणाम बहुत ही सामान्य है, और हर दूसरे-तीसरे इंसान में देखा जाता है। वे प्रोटीन से कई लोगों का बहुत जी मिचलाता है, और कई लोग तो उलटियों से तड़पते हैं। इससे बचने के लिए, हमें वे प्रोटीन को कम ही लेना होगा।

गाउट का खतरा

अगर हमें गाउट की तक्लीफ पहले से है, तो वे प्रोटिन से ये तक्लीफ और भी बढ़ सकती है। इसलिए ऐसे लोगों को वे प्रोटीन लेने से पहले अपने डॉक्टर से एक बार बात कर लेनी चाहिए, और उनसे सही सलाह ले लेनी चाहिए।

वे प्रोटीन कितना सुरक्षित है?

इन सभी दुष्परिणामों को पढ़ने के बाद, आपको इस बात का विश्वास हो गया होगा कि वे प्रोटीन के सारे असर – अच्छे या बुरे – उसे कितनी मात्रा में ली जाती है, उसी पर निर्भर और आधारित है। उचित से ज़्यादा अगर ये लिया जाए, तो ये हमारे शरीर को हद से ज़्यादा नुकसान पहुँचाती है। सिर्फ वे प्रोटीन ही नहीं। किसी भी चीज़ को हमें उसके उचित मात्रा में ही खाना या पीना चाहिए।

कहते हैं कि वे प्रोटीन के फायदों को पाने के लिए, हमें इन्हें बहुत कम लेना चाहिए। इससे हमारे शरीर को, बिना किसी भी प्रकार के खतरे के, उचित प्रोटीन मिलेगा। ये भी कहा जाता है कि वे प्रोटीन सिर्फ उन लोगों को लेना चाहिए जो शारीरिक रूप से ताकतवर हैं। यह इसलिए क्योंकि ऐसे लोग, रोज़ाना व्यायाम करते हैं जिसके कारण इनके शरीर को थोड़ी ज़्यादा वे प्रोटीन की ज़रूरत होती है।

इन सबसे ये निष्कर्ष निकलता है कि, सिर्फ वे प्रोटीन ही नहीं, बल्कि किसी भी प्रकार के प्रोटीन को, हमें अपने डॉकटर से सलाह लेकर ही लेना चाहिए। इससे सबसे पहला, और सबसे बड़ा फायदा होगा – हम स्वस्थ रहेंगे।

यह लेख आपको कैसा लगा?

नीचे रेटिंग देकर हमें बताइये, ताकि इसे और बेहतर बनाया जा सके

औसत रेटिंग 4.7 / 5. कुल रेटिंग : 86

कोई रेटिंग नहीं, कृपया रेटिंग दीजिये

यदि यह लेख आपको पसंद आया,

सोशल मीडिया पर हमारे साथ जुड़ें

हमें खेद है की यह लेख आपको पसंद नहीं आया,

हमें इसे और बेहतर बनाने के लिए आपके सुझाव चाहिए

कृपया हमें बताएं हम इसमें क्या सुधार कर सकते है?

अगर आपका इस विषय में कोई भी सवाल या सुझाव हो, तो आप नीचे कमेंट कर सकते हैं।

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!