सोमवार, फ़रवरी 24, 2020

क्या है वीडियोकॉन-आईसीआईसीआई मामला जिसकी वजह से चंदा कोचर नें छोड़ा पद?

Must Read

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की...

बीते गुरुवार को चंदा कोचर ने आईसीआईसीआई बैंक के सीईओ पद से इस्तीफा दे दिया है, अब उनकी जगह संदीप बक्शी को सीईओ बनाया गया है।

चंदा कोचर इसके पहले अनिश्चितकालीन अवकाश पर थी। चंदा कोचर ने वीडियोकॉन लोन मामले में नाम आने के बाद ये पद छोड़ा है।

क्या है वीडियोकॉन मामला?

चंदा कोचर पर आरोप है कि उन्होने इलेक्ट्रिक उत्पाद बनाने वाली कंपनी वीडियोकॉन को बैंक द्वारा लोन देने के लिए कई नियमों को ताक पर रख दिया। बाद में वीडियोकॉन द्वारा लोन न चुका पाने की दशा में उस लोन को एनपीए (नॉन परफार्मिंग एसेट) घोषित कर दिया गया।

एनपीए से तात्पर्य है कि अब इस लोन को रिकवर नहीं किया जा सकता है तथा इस लोन बैंक के घाटे के रूप में दर्शाया जाएगा।

मालूम हो कि चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की हिस्सेदारी वाली वीडियोकॉन को 3,250 करोड़ रुपये का ये लोन 2012 में दिया गया था।

आईसीआईसीआई द्वारा वीडियोकॉन को दिये गए लोन के 86% हिस्से का भुगतान अभी भी बाकी है।

इसी के साथ ही चंदा पर अपने पति के छोटे भाई राजीव कोचर की कंपनी अविस्टा एडवाइजरी को भी लोन देने का आरोप है।

कौन हैं दोषी?

इसके आरोप चंदा कोचर और उनके परिवार पर लगाए गए हैं। ऐसा माना जा रहा है कि चंदा कोचर ने अपने पति की कंपनी की सहायता करने के लिए बैंक के नियमों की कतई परवाह नहीं की।

घटना सामने आने के ठीक बाद सीबीआई और नियामक एजेंसी सेबी इस पूरे घटनाक्रम में बैंक द्वारा हुई चूक की जाँच के लिए सामने आ गयी थी।

आईसीआईसीआई के प्रबंधन बोर्ड ने इस घटना की जाँच के लिए सुप्रीम कोर्ट के जज बीएन श्रीकृष्णा के नेतृत्व में एक पैनल का गठन किया था।

इसी साल 30 मई को चंदा कोचर जांच पूरी होने तक अनिश्चितकालीन अवकाश पर चली गईं थी।

आईसीआईसीआई पर चंदा कोचर का कितना प्रभाव था?

चंदा कोचर बैंक की प्रबंधन संबन्धित सभी गतिविधियों पर नज़र रखती थीं। चंदा को सीईओ पद केवी कामथ की जगह मिला था।

चंदा के नेतृत्व में बैंक ने बेहतर प्रदर्शन किया। एक ओर जहां बैंक की शेयर हमेशा अच्छी स्थिति में रहे वहीं दूसरी ओर बैंक की संपत्ति और व्यापार के दायरे में भी लगातार इजाफा हुआ।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...

गुजरात सीएम विजय रूपानी ने डोनाल्ड ट्रम्प-मोदी रोड शो की तैयारी की की समीक्षा

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी (Vijay Rupani) ने गुरुवार को अहमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -