बुधवार, मार्च 25, 2020

विश्व हिंदू परिषद कथावाचकों की मदद से सीएए पर फैलाएगा जागरुकता

Must Read

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए।...

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर हो रहे विरोध और इस मुद्दे पर लामबंद होते विपक्ष को जवाब देने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) देशभर में जागरूकता अभियान चला रही है, लेकिन अब पार्टी ने इस बाबत जवाब देने के लिए नई रणनीति अपनाई है। नई योजना के अनुसार, अब भाजपा साधु-संतों की शरण में पहुंच गई है और ऐसा करने के लिए इसने विश्व हिंदू परिषद (विहिप) का सहारा लिया।

इससे पहले जनता को सीएए के मुद्दे पर सरकार के पक्ष में करने का जिम्मा पार्टी ने अपने पूर्व सांसद महेश गिरी को सौंपा था, लेकिन आशा के अनुरूप कार्य नहीं होने के चलते अब यह संघ की शरण में पहुंची है। विहिप के एक वरिष्ठ नेता ने यह जानकारी दी।

संघ ने विहिप को संतों-महंतों व कथावाचकों को लामबंद करने की जिम्मेदारी सौंपी है, लिहाजा विहिप अब इस अभियान को पूरे जोर शोर से चला रही है।

अभियान के बारे में जानकारी देते हुए विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के दिल्ली प्रांत के कार्याध्यक्ष वागीश इस्सर ने कहा, “साधु-संत हमेशा से मार्गदर्शन का काम करते रहे हैं। उनके अनन्य भक्त होते हैं, जो उनकी बातों पर भरोसा करते हैं। अगर वे अपने मुखारबिंद से बोलेंगे, तो इसका सकारात्मक असर पड़ेगा।”

इस्सर ने दावा किया कि कुछ संतो ने अपने प्रतिदिन होने वाले प्रवचन में इस मुद्दे पर बोलना शुरू भी कर दिया है।

गौरतलब है कि सीएए को समझाने के लिए विहिप ‘आइए जानें सीएए’ नाम से दो पेजों का पंपलेट छपवा चुका है। इसमें नागरिकता कानून के बारे में इतिहास के साथ जानकारी दी गई है। साथ ही आंकड़ों के माध्यम से यह भी बताने की कोशिश की गई है कि पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में किस तरह हिंदू और दूसरे धर्म के लोग कम हो गए।

सूत्रों के अनुसार, भाजपा सड़क पर समर्थन में रैली करने, घर-घर जागरूकता अभियान चलाने से ज्यादा कारगर साधुओं और कथावाचकों को मान रही है। पार्टी का मानना है कि उनके भक्तों की संख्या ज्यादा है और भक्त नेताओं के बजाय अपने गुरु की बात पर ज्यादा भरोसा करेंगे। विहिप भी साधु संतों, महंतो, महामंडलेश्वरों और खास तौर कथावचकों को इस बात के लिए तैयार कर रही है कि वो अपनी कथा, प्रवचन में सीएए के बारे में बताएं और देश भर में चलने वाला विरोध किस तरह हिंदुओं के खिलाफ है इसको उजागर करने का कार्य करें।

विहिप इस मुद्दे को समझाने के लिए साधु-संत और महंतों के लिए वर्कशॉप का भी आयोजन करने जा रही है। इस तरह का पहला आयोजन 19 जनवरी को दिल्ली के वी.पी. हाउस में होगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

एक विलेन 2: दिशा पटानी के बाद, तारा सुतारिया फिल्म से जुड़ी, जॉन अब्राहम और आदित्य रॉय कपूर भी होंगे फिल्म का हिस्सा

यह पहले बताया गया था कि जॉन अब्राहम 2014 की फिल्म, एक विलेन की अगली कड़ी बनाने के लिए बातचीत कर रहे थे। जनवरी...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए। 2 दिन में 16.03 करोड़...

महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं – कांग्रेस

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार शाम को अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। राकांपा नेताओं ने कहा कि 26 मार्च को होने...

पीएम मोदी, राहुल गांधी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके 78 वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -