विश्व हिंदू परिषद कथावाचकों की मदद से सीएए पर फैलाएगा जागरुकता

Must Read

भारत-चीन विवाद पर प्रधानमंत्री मोदी ने बुलाई सभी पार्टियों की बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के साथ सीमा संघर्ष पर शुक्रवार को एक सर्वदलीय बैठक को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने...

चीन का तिब्बत प्लान और सीमा पर भारत द्वारा निर्माण कार्य – जानें भारत-चीन झड़प के संभावित कारण

विश्लेषकों का कहना है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास चीन (China) की भारी टुकड़ी के जमा होने...

लद्दाख: भारत चीन सीमा पर दोनों सेनाओं में झड़प, तीन भारतीय सैनिक शहीद

भारत चीन (China) सीमा पर कल रात हुई हिंसक झड़प में एक अफसर और दो सैनिकों सहित कुल तीन...

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर हो रहे विरोध और इस मुद्दे पर लामबंद होते विपक्ष को जवाब देने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) देशभर में जागरूकता अभियान चला रही है, लेकिन अब पार्टी ने इस बाबत जवाब देने के लिए नई रणनीति अपनाई है। नई योजना के अनुसार, अब भाजपा साधु-संतों की शरण में पहुंच गई है और ऐसा करने के लिए इसने विश्व हिंदू परिषद (विहिप) का सहारा लिया।

इससे पहले जनता को सीएए के मुद्दे पर सरकार के पक्ष में करने का जिम्मा पार्टी ने अपने पूर्व सांसद महेश गिरी को सौंपा था, लेकिन आशा के अनुरूप कार्य नहीं होने के चलते अब यह संघ की शरण में पहुंची है। विहिप के एक वरिष्ठ नेता ने यह जानकारी दी।

संघ ने विहिप को संतों-महंतों व कथावाचकों को लामबंद करने की जिम्मेदारी सौंपी है, लिहाजा विहिप अब इस अभियान को पूरे जोर शोर से चला रही है।

अभियान के बारे में जानकारी देते हुए विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के दिल्ली प्रांत के कार्याध्यक्ष वागीश इस्सर ने कहा, “साधु-संत हमेशा से मार्गदर्शन का काम करते रहे हैं। उनके अनन्य भक्त होते हैं, जो उनकी बातों पर भरोसा करते हैं। अगर वे अपने मुखारबिंद से बोलेंगे, तो इसका सकारात्मक असर पड़ेगा।”

इस्सर ने दावा किया कि कुछ संतो ने अपने प्रतिदिन होने वाले प्रवचन में इस मुद्दे पर बोलना शुरू भी कर दिया है।

गौरतलब है कि सीएए को समझाने के लिए विहिप ‘आइए जानें सीएए’ नाम से दो पेजों का पंपलेट छपवा चुका है। इसमें नागरिकता कानून के बारे में इतिहास के साथ जानकारी दी गई है। साथ ही आंकड़ों के माध्यम से यह भी बताने की कोशिश की गई है कि पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में किस तरह हिंदू और दूसरे धर्म के लोग कम हो गए।

सूत्रों के अनुसार, भाजपा सड़क पर समर्थन में रैली करने, घर-घर जागरूकता अभियान चलाने से ज्यादा कारगर साधुओं और कथावाचकों को मान रही है। पार्टी का मानना है कि उनके भक्तों की संख्या ज्यादा है और भक्त नेताओं के बजाय अपने गुरु की बात पर ज्यादा भरोसा करेंगे। विहिप भी साधु संतों, महंतो, महामंडलेश्वरों और खास तौर कथावचकों को इस बात के लिए तैयार कर रही है कि वो अपनी कथा, प्रवचन में सीएए के बारे में बताएं और देश भर में चलने वाला विरोध किस तरह हिंदुओं के खिलाफ है इसको उजागर करने का कार्य करें।

विहिप इस मुद्दे को समझाने के लिए साधु-संत और महंतों के लिए वर्कशॉप का भी आयोजन करने जा रही है। इस तरह का पहला आयोजन 19 जनवरी को दिल्ली के वी.पी. हाउस में होगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

भारत-चीन विवाद पर प्रधानमंत्री मोदी ने बुलाई सभी पार्टियों की बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के साथ सीमा संघर्ष पर शुक्रवार को एक सर्वदलीय बैठक को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने...

चीन का तिब्बत प्लान और सीमा पर भारत द्वारा निर्माण कार्य – जानें भारत-चीन झड़प के संभावित कारण

विश्लेषकों का कहना है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास चीन (China) की भारी टुकड़ी के जमा होने के पीछे कई कारण हो...

लद्दाख: भारत चीन सीमा पर दोनों सेनाओं में झड़प, तीन भारतीय सैनिक शहीद

भारत चीन (China) सीमा पर कल रात हुई हिंसक झड़प में एक अफसर और दो सैनिकों सहित कुल तीन लोग शहीद हो गए हैं।...

कोरोनावायरस अपडेट: महाराष्ट्र में मामले 1 लाख के करीब, स्वास्थ्य व्यवस्था चरमराई

देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) के तेजी से बढ़ते मामलों में महाराष्ट्र राज्य सबसे आगे है। राज्य में कल सिर्फ एक दिन में 3,607 नए...

कोरोनावायरस: भारत में आंकड़ा 2.5 लाख के पार, एक दिन में 10,000 नए मामले

भारत में COVID-19 से संक्रमित लोगों की टैली तेजी से बढ़ रही है। संक्रमण की कुल संख्या दो लाख से 2.5 लाख तक पहुंचने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -