Mon. Oct 3rd, 2022

    Tag: भारत-भूटान सम्बन्ध

    भारत भूटान सम्बन्ध

    दक्षिण एशिया का छोटा देश भूटान व भारत खास पडोसी देश है। दोनों देशों के बीच में भौगोलिक और सामाजिक-सांस्कृतिक निकटता है। 1910 में ब्रिटिश द्वारा हस्ताक्षरित भूटान के साथ पुनाखा की संधि के बाद के समय में भारत-भूटान संबंध की नींव रखी गई। नेपाल व भूटान दोनो देश ही भारत के मुख्य पडोसी देश है। भारत व भूटान के बीच में खुली सीमा है। द्विपक्षीय भारतीय-भूटान समूह सीमा प्रबंधन और सुरक्षा की स्थापना दोनों देशों के बीच सीमा की सुरक्षा करने के लिए स्थापित की गई है।

    भारत की आजादी के बाद से ही भारत व भूटान हर समय मे साथ खडे रहने वाले दोस्त की तरह रहा है। संयुक्त राष्ट्र में भूटान जैसे छोटे हिमालयी देश के प्रवेश का समर्थन भी भारत द्वारा ही किया गया था। जिसके बाद से इस देश को भी संयुक्त राष्ट्र से विशेष सहायता मिलती है। दोनों के बीच अधिकतर समय तक द्विपक्षीय संबंध मजबूत ही रहे है।

    भूटान का भू-राजनीतिक महत्व

    भूटान की भौगोलिक स्थिति के कारण ये दुनिया के बाकि हिस्सों से कटा हुआ था। लेकिन हाल ही मे भूटान ने दुनिया में अपनी जगह बना ली है। हाल के दिनों के दौरान भूटान ने एक खुली-द्वार नीति विकसित की है। दुनिया के कई देशों के साथ राजनीतिक संबंधों को भी इस देश के द्वारा बढ़ावा दिया जा रहा है। भूटान के 52 देशों और यूरोपीय संघ के साथ राजनयिक संबंध है।

    साल 1971 के बाद से ही भूटान संयुक्त राष्ट्र में सदस्य भी है। हालांकि भूटान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों के साथ औपचारिक संबंध नहीं रखता है। लेकिन भूटान सबसे निकटता सिर्फ भारत के साथ ही रखता है। भारत के साथ भूटान मजबूत आर्थिक, रणनीतिक और सैन्य संबंध रखता है। भूटान सार्क का संस्थापक सदस्य है। यह बिम्सटेक, विश्व बैंक और आईएमएफ का सदस्य भी बन चुका है।

    भारत भूटान

    भारत भूटान संधि

    भारत और भूटान ने 8 अगस्त 1949 को दार्जिलिंग में शांति और मित्रता संधि पर हस्ताक्षर किए थे। हिमालयी देश की भारत को सुरक्षा प्रहरी के रूप मे मानता है। भारत भूटान संधि को भूटान की विदेश नीति के तौर पर देखा जाता है। जब 1950 में चीन ने तिब्बत पर कब्जा जमाने की कोशिश की थी तो भूटान ने चीन को संभावित खतरे के रूप मे देखा। इससे भारत और भूटान के बीच द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती मिली। मैत्री संधि के मुताबिक भूटान को विदेशी संबंधों के मामलों में भारत को शामिल करना होता था।

    लेकिन साल 2007 में इसमें संशोधन किया गया। इसके मुताबिक अब सिर्फ भारत के हितों संबंधी मामलों पर ही भूटान भारत की राय लेगा। संशोधित मानदंडों के तहत भूटान को अब हथियार आयात करने पर भारत की मंजूरी की आवश्यकता नहीं है।

    भारत भी संप्रभुता और लोकतंत्र के प्रति भूटान की प्रगति का समर्थन करता है। इस संधि से भारत व भूटान के बीच में शांति व सतत व्यापार को भी बल मिलता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भूटान व भारत के बीच में संबंध अधिक मजबूत हुए है।

    व्यापार एवं वाणिज्य

    इंडो भूटान बॉर्डर

    भूटान की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से जल विद्युत निर्यात पर निर्भर करती है। सार्क देशों में मालदीव के बाद भूटान की प्रति व्यक्ति आय दूसरे नंबर पर है। भूटान का सबसे बड़ा व्यापारिक सहयोगी भारत ही रहा है। 1961 में भूटान की पहली पंचवर्षीय योजना के बाद से ही भारत लगातार वहां पर वित्तीय निवेश कर रहा है।

    भारत 1020 मेगावाट की तला हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट, 336 मेगावाट की चुखा जलविद्युत परियोजना, पेंडन सीमेंट प्लांट, पारो हवाई अड्डे, भूटान प्रसारण स्टेशन सहित अनेक परियोजनाओं में भारत प्रमुख रूप से सहयोग कर रहा है। भारत व भूटान के बीच मुक्त व्यापार समझौता साल 1972 में हुआ था। भूटान भारत से करीब 80 प्रतिशत से अधिक वस्तुओं का आयात करता है।

    भारत-भूटान संबंधों में नई चुनौतियां

    भारत व भूटान मजबूत पडोसी देश है। भारत हरसंभव अपने पडोसी देश की मदद करता है। लेकिन अब भूटान जैसा छोटा देश भी दुनिया मे अपनी खुद की पहचान विकसित कर रहा है। भूटान भारत के अधीन रहने वाला देश नहीं है। भूटान धीरे-धीरे भारत पर निर्भरता कम कर रहा है। भारत-भूटान मैत्री संबंधों का चीन द्वारा विरोध किया जाता है।

    भारत भूटान संबंध

    संधि के अनुच्छेद 2 के मुताबिक भारत भूटान के प्रशासनिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करेगा और बाद में उसके बाहरी संबंधों में सलाह जरूर से दे सकता है। इसका ही चीन द्वार विरोध करके भारत को छोटा पडोसी प्रस्तुत किया जाता है। लेकिन डोकलाम विवाद के समय में भूटान का प्रमुख सहयोगी एकमात्र भारत ही रहा था जिसने पडोसी देश की रक्षा के लिए चीन का विरोध किया।

    सम्बंधित: डोकलाम विवाद कैसे सुलझा?

    भारत-भूटान सम्बन्ध से जुड़ी खबरें:

    क्या डोकलाम के बाद अरुणाचल में भारत-चीनी सेनायें होंगी आमने-सामने?

    भारत और चीन के बीच सीमा विवाद काफी सालों से चलता आ रहा है। 1962 के युद्ध के बाद यह समझा जा रहा था कि अंतराष्ट्रीय सीमा पर स्थाई समझौता…

    भारतीय सेना लद्दाख के एलएसी में गश्ती के लिए विशेष ऊंटों का करेगी इस्तेमाल

    भारतीय सेना के पायलट प्रोजेक्ट के अनुसार लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास दो कूबड़ वाले ऊंट गश्ती करते हुए नजर आएंगे।

    डोकलाम गतिरोध के बाद भारत-भूटान सीमा पर सुरक्षा बढ़ाएगा एससएसबी

    भारत व चीन के बीच हुए डोकलाम विवाद के बाद अब भारत सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) को भारत-भूटान सीमा पर मजबूत करने में लगा हुआ है।

    दोबारा डोकलाम विवाद रोकने के लिए भारत-चीन के एनएसए के बीच होगी मुलाकात

    चीन सैन्य मामलों से संबंधित चीनी ब्लॉग ने दावा किया है कि चीनी सैनिकों की डोकलाम क्षेत्र में स्थायी रूप से उपस्थिति कड़ी कर दी गई है।

    डोकलाम के पास चीन कर रहा तेजी से सड़क निर्माण, भारत हुआ सतर्क

    नवीनतम रिपोर्टों से पता चलता है कि चीन ने डोकलाम विवाद के बाद पिछले दो महीनों में कम से कम तीन सड़को का निर्माण किया है।

    डोकलाम क्षेत्र में 1800 चीनी सैनिकों ने किया कब्जा, दो हैलीपेड भी बनाए

    चीनी सैनिकों ने विवादित क्षेत्र में दो हेलीपैड का निर्माण किया है। साथ ही उन्नत सड़कें, रहने के लिए आश्रयों व स्टोरों का निर्माण किया है।

    अगर चीनी ड्रोन भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ करे तो क्या भारत स्वीकार करेगा? – चीन

    चीन के राज्य मीडिया ने भारतीय ड्रोन के चीनी क्षेत्र में घुसपैठ को लेकर कहा कि इस घुसपैठ का नतीजा ड्रोन खोने से ज्यादा भी बदतर हो सकता है।

    भारत के चीन में नए राजदूत गौतम एच बम्बावाले ने पदभार संभाला

    चीन में भारत के नए राजदूत गौतम एच बम्बावाले ने मंगलवार से पदभार संभाल लिया है। उनके सामने दोनो देशों के बीच तनाव कम करने की चुनौती रहेगी।

    नई दिल्ली में भारत-भूटान के बीच विकास को लेकर हुई वार्ता

    भारत व भूटान के बीच नई दिल्ली में भारत-भूटान विकास सहयोग द्विपक्षीय वार्ता का आयोजन किया गया। ये वार्ता अगले साल थिम्पू में आयोजित होगी।