Sun. Jul 21st, 2024
    विराट कोहली

    साल 2008 की बात करे तो रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम ने विराट कोहली के रुप में एक महान खिलाड़ी को अपनी टीम में लिया। खैर, विराट कोहली उस समय अंडर-19 के विजयी कप्तान थे और उनके शॉर्ट्स में भी वृद्धि हो रही थी। पहले कुछ वर्षों में खेल का समय पाने के लिए संघर्ष करने के बाद, कोहली, जो अब आरसीबी का पर्याय बन गए है, और वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे बड़े नामों में से एक है।

    उन्हे अबतक बैंगलोर की फ्रेंचाईजी से शानदार समर्थन मिलता आया है और कप्तान का कहना है कि वह भविष्य में कभी अपनी टीम नही बदलना चाहते है और हमेशा आरसीबी की जर्सी पहने रहना चाहते है।

    कोहली ने बेंगलुरु में आरसीबी के नए ऐप के लॉन्च के दौरान पत्रकारों से बात करते हुए कहा, ” मेरे लिए, यह (आरसीबी के लिए खेलना) सबसे खास अनुभव रहा है। मैं खुद को किसी अन्य फ्रैंचाइज़ी के लिए खेलते हुए नही देखना चाहता।”

    https://www.youtube.com/watch?v=UNQEQxAkHwY

    आरसीबी के कप्तान ने कहा, “आरसीबी की विफलता झूठ है जहाँ निर्णय ठीक से नहीं किए गए हैं। अगर मैं यहां बैठकर कहता हूं कि हमारी किस्मत खराब थी, तो यह सही नहीं होगा। आप अपनी किस्मत खुद बनाते हैं, और अगर आप खराब निर्णय लेते हैं और दूसरी टीम अच्छा बनाती है, तो आप हार जाएंगे।”

    आरसीबी की टीम अबतक कई सीजनो में सबसे घातक टीम रही है, लेकिन आरसीबी की टीम अबतक कोई आईपीएल खिताब नही जीत पाई है और कप्तान का मानना है कि हमने मुश्किल परिस्थितियो में सही निर्णय नही लिए है और सूखा पड़ने का सबसे बड़ा कारण यही है।

    कोहली ने कहा, “जब हमने बड़े मैच भी खेले, तो हमारा निर्णय लेना सही नहीं था। जब आपकी निर्णय लेने की स्थिति संतुलित और संतुलित होती है, तो वे टीमें आईपीएल जीत जाती हैं। कोहली ने कहा कि जो टीम अधिक आराम करती हैं, वे दबाव को बहुत अधिक नहीं लेती हैं, और दबाव के क्षणों में अच्छे निर्णय लेती हैं – और ऐसे में उन्हें जीत का श्रेय मिलना चाहिए।”

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *