Thu. May 23rd, 2024
    संसद का मानसून सत्र

    सोमवार 17 जुलाई से संसद का मानसून सत्र शुरू हो गया। सत्र के पहले दिन दिवंगत फिल्म अभिनेता और भाजपा से लोकसभा सदस्य विनोद खन्ना और पूर्व पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे को श्रद्धांजलि दी गई। श्रद्धांजलि देने के बाद सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई।

    राज्यसभा में बसपा सुप्रीमो मायावती ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा के शासनकाल में दलितों पर अत्याचार हो रहे हैं। सहारनपुर में हुई घटना एक सोची-समझी साजिश का हिस्सा थी। सरकार दलितों को डरा रही है। अपने भाषण के दौरान मायावती राज्यसभा के उपसभापति पीजे कुरियन पर भड़क गईं और इस्तीफे की धमकी देकर बाहर चली गईं।

    तीखा हमला करेगा विपक्ष

    विपक्ष राष्ट्रपति चुनावों में भाजपा उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के पक्ष में क्रॉस वोटिंग होने के बाद और तिलमिला गया है। अपने हालिया रुख में सभी पार्टियों ने स्पष्ट कर दिया है कि मानसून सत्र में विपक्ष को घेरने की पूरी तैयारी में हैं। मुख्य मुद्दों में चीन सीमा विवाद, मॉब लिंचिंग, पाकिस्तान पर केंद्र का रुख और जीएसटी के छाये रहने की सम्भावना है। मंगलवार को मानसून सत्र का दूसरा दिन है।

    गौ-रक्षा के नाम पर देश में लगातार बढ़ रही भीड़ द्वारा की गईं हत्याएं सरकार के गले का फांस बन सकती है। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार द्वारा अवैध बूचड़खानों की बंदी और बीफ बैन करने के बाद से ही सरकार पर समुदाय विशेष को दबाने की कोशिश करने के आरोप लग रहे हैं। अभी हाल ही में झारखण्ड में भीड़ द्वारा बीफ ले जाने के शक में की गईं हत्या में दो स्थानीय भाजपा नेताओं का नाम आने के बाद सरकार की परेशानी और बढ़ गईं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बार-बार हिदायत दिए जाने के बावजूद हो रही ऐसी घटनाएं सरकार की मुश्किलें और बढ़ाएंगी।

    By हिमांशु पांडेय

    हिमांशु पाण्डेय दा इंडियन वायर के हिंदी संस्करण पर राजनीति संपादक की भूमिका में कार्यरत है। भारत की राजनीति के केंद्र बिंदु माने जाने वाले उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले हिमांशु भारत की राजनीतिक उठापटक से पूर्णतया वाकिफ है।मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक करने के बाद, राजनीति और लेखन में उनके रुझान ने उन्हें पत्रकारिता की तरफ आकर्षित किया। हिमांशु दा इंडियन वायर के माध्यम से ताजातरीन राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर अपने विचारों को आम जन तक पहुंचाते हैं।