दा इंडियन वायर » राजनीति » चार राज्यों व एक केन्द्रशासित प्रदेश में विधानसभा चुनावों की तारीखें घोषित
राजनीति समाचार

चार राज्यों व एक केन्द्रशासित प्रदेश में विधानसभा चुनावों की तारीखें घोषित

देशभर के कई राज्यों में चुनावों का दौर चल रहा है। कहीं निकाय चुनाव तो कहीं विधानसभा के चुनावों से गहमागहमी बनी हुई है। इसी बीच चुनाव आयोग ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में चार राज्यों व 1 केंद्र शासित प्रदेश के विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान आज चुनाव आयोग ने किया है। पश्चिम बंगाल, केरल, असम, पांडिचेरी व तमिलनाडु में अगले तीन से चार महीनों के भीतर विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनाव आयोग ने इन सभी राज्यों के लिए चुनावों की तारीखों का ऐलान कर दिया है।

देश के सबसे चर्चित और राजनीति की दृष्टि से काफी संवेदनशील प्रदेश पश्चिम बंगाल में 8 चरणों में विधानसभा चुनाव होने की घोषणा की गई है। वहां पहले चरण का चुनाव 27 मार्च को होगा, वहीं आठवें चरण का चुनाव 29 अप्रैल को करवाया जाएगा। इसके अलावा वहां के नतीजे 2 मई को आ जाएंगे। पश्चिम बंगाल के बाद राजनीतिक दृष्टि से दूसरे सबसे संवेदनशील प्रदेश पांडिचेरी में एक ही चरण में चुनाव करवाने की घोषणा की गई है। यहां 6 अप्रैल को चुनाव करवाए जाएगें। इसके नतीजे भी 2 मई को आएंगे। केरल व तमिलनाडु में एक चरण में चुनाव होंगे, वहीं असम में 3 चरणों में चुनाव होंगे। सभी राज्यों में 2 मई को ही चुनाव के नतीजे घोषित किए जाएंगे।

इसके अलावा चुनाव आयोग ने कुछ महत्वपूर्ण घोषणाएं चुनावों के मद्देनजर की हैं। इन सभी राज्यों में आज ही से आचार संहिता लागू हो जाएगी। वहीं कोरोना और सामाजिक दूरी को ध्यान में रखते हुए मतदान केंद्रों की संख्या बढ़ाई जाएगी। सभी बूथों पर कोरोना गाइडलाइन का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। चुनाव वाले हर राज्य में सीआरपीएफ की टीमें तैनाती की जाएंगी। राज्यों में परीक्षा या त्यौहार के दिन पर चुनाव नहीं किया जाएगा। वोट डालने के समय को एक घंटा और आगे बढ़ाया गया है। वहीं यदि उम्मीदवार नामांकन के लिए जाता है तो उसके साथ केवल दो लोग जाएंगे। आज तक देखा जाता था कि उम्मीदवार के साथ नामांकन के दौरान गाजे-बाजे समेत एक बड़ा जनसमूह होता था, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

कोरोना के चलते सोशल डिस्टेंसिंग व भीड़ कम करने का फैसला लिया गया है। नामांकन ऑनलाइन भी किया जा सकेगा। चुनाव आयोग इसकी सुविधा देगा। वहीं सीसीटीवी की निगरानी में चुनाव हर राज्य के लिए अनिवार्य होगा। यदि प्रत्याशी घर-घर चुनाव प्रचार के लिए जाता है तो उसको अपने साथ सिर्फ पांच लोगों को ले जाने की इजाजत होगी। असम व बंगाल में 27 मार्च, केरल, पांडिचेरी व तमिलनाडु में 6 अप्रैल को चुनावों की शुरुआत होगी। इन राज्यों में चुनावों से पहले बहुत सी सियासी उठापटक चल रही है। खासकर पश्चिम बंगाल इस समय सबसे संवेदनशील राजनीतिक क्षेत्र बना हुआ है। इसके अलावा पांडिचेरी में भी राजनीतिक अस्थिरता का माहौल है।

पांडिचेरी में कुछ समय पहले तक कांग्रेस की सरकार थी, लेकिन वहां के सीएम ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद से वहां राजनीतिक अस्थिरता बनी हुई है। चुनाव आयोग ने फैसला लिया है कि आज ही से आचार संहिता लागू हो जाएगी। संभव है कि अब सभी राज्य में सियासी चुनाव प्रचार थम जाए।




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!