दा इंडियन वायर » विदेश » विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला ने कहा: एयूकेयूएस गठबंधन और क्वाड के बीच नहीं है कोई संबंध
विदेश समाचार

विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला ने कहा: एयूकेयूएस गठबंधन और क्वाड के बीच नहीं है कोई संबंध

सरकार ने मंगलवार को कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन से मिलेंगे और ऑस्ट्रेलियाई प्रधान मंत्री स्कॉट मॉरिसन और जापानी प्रधान मंत्री योशीहिदे सुगा के साथ क्वाड शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे। लेकिन उनकी बैठकों और नए घोषित यूके-ऑस्ट्रेलिया-यूएस (एयूकेयूएस) गठबंधन के बीच “कोई संबंध नहीं” है।

यह दर्शाता है कि नई दिल्ली इस नई साझेदारी से खुद को दूर कर रही है। विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला ने कहा कि क्वाड बैठक महामारी, नई और उभरती प्रौद्योगिकियों, जलवायु परिवर्तन, बुनियादी ढांचे, समुद्री सुरक्षा, शिक्षा, मानवीय सहायता और आपदा राहत जैसे मुद्दों से निपटेगी जबकि एयूकेयूएस एक “सुरक्षा गठबंधन” है।

विदेश सचिव श्रृंगला ने प्रधान मंत्री की यात्रा पर एक ब्रीफिंग में प्रेसपर्सन को बताया “हम इस गठबंधन के सदस्य नहीं हैं। हमारे दृष्टिकोण से यह न तो क्वाड के लिए प्रासंगिक है और न ही इसके कामकाज पर इसका कोई प्रभाव पड़ेगा।”

प्रधान मंत्री मोदी के 24 सितंबर को अमेरिका की अपनी यात्रा शुरू करने की उम्मीद है और भारतीय मूल की पहली अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस के साथ पहली बातचीत करेंगे। वह अमेरिकी व्यापार जगत के नेताओं और मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के एक समूह से भी मिलेंगे और साथ ही ऑस्ट्रेलियाई और जापानी राष्ट्राध्यक्षों के साथ द्विपक्षीय बैठकें करेंगे। 25 सितंबर को प्रधान मंत्री मोदी जो बिडेन से मिलेंगे और दोनों नेता बाद में क्वाड शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे। नरेंद्र मोदी के उस शाम बाद में न्यूयॉर्क के लिए उड़ान भरने और अगली सुबह संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करने की उम्मीद है।

विदेश सचिव श्री श्रृंगला ने कहा कि, “द्विपक्षीय बैठक में अफगानिस्तान में हाल के घटनाक्रमों के बाद वर्तमान क्षेत्रीय सुरक्षा स्थिति, एक पड़ोसी के रूप में हमारे दांव और अफगानिस्तान के लोगों से लंबे समय से जुड़े विकास भागीदार शामिल होंगे। इस संदर्भ में हम निस्संदेह कट्टरवाद, उग्रवाद, सीमा पार आतंकवाद को समाप्त करने और वैश्विक आतंकवादी नेटवर्क को खत्म करने की आवश्यकता पर चर्चा करेंगे। वे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सहित बहुपक्षीय प्रणाली में सुधार पर भी चर्चा करेंगे।”

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]