Mon. May 20th, 2024
    विक्की कौशल: मुझे लगता था कि मेरे पास हीरो का चहरा नहीं है

    2019 निश्चित तौर पर विक्की कौशल के लिए शानदार रहा है। अभिनेता की ‘उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक’ जिसे वर्ष की अद्भुत फिल्मों में से एक के रूप में टैग किया गया है, ने बॉक्स ऑफिस पर 250 करोड़ रुपये से ज्यादा का व्यापार किया है। बाद में, उन्हें फिल्म में अपनी भूमिका के लिए अपना पहला राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला। और अब, अभिनेता के पास शूजीत सरकार की ‘उधम सिंह’, करण जौहर की ‘तख्त’ और फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ पर मेघना गुलज़ार की फ़िल्म भी है।

    हिंदुस्तान टाइम्स के साथ एक साक्षात्कार में, अभिनेता ने बताया कि उनका ये वर्ष कैसा था और क्यों अपने कॉलेज के दिनों में उन्हें लगता था कि उनके पास हीरो जैसा चेहरा नहीं है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पुरस्कार जीतना उनके लिए, उनके परिवार और उनकी टीम के लिए एक खूबसूरत आश्चर्य था। उन्होंने बताया कि कैसे अपने करियर की शुरुआत में ही उन्हें यह पुरस्कार मिल गया और वे इसे एक सच्चा आशीर्वाद मानते हैं। मनमर्जियां अभिनेता ने यह भी कहा कि ये वर्ष कृतज्ञता का रहा है और वह विनम्र है।

    https://www.instagram.com/p/B6Pq4WipHuf/?utm_source=ig_web_copy_link

    https://www.instagram.com/p/B3yldQmpqYS/?utm_source=ig_web_copy_link

    बाद में, उन्होंने खुलासा किया कि वह खुश हैं कि बॉलीवुड फिल्म नायक की छवि पिछले कुछ वर्षों में बेहद बदल गई है। उन्होंने कहा, “दस या ग्यारह साल पहले जब मैं कॉलेज में था, मैंने तय किया कि मैं इंजीनियर नहीं बनना चाहता। मुझे लगा कि मेरे पास हीरो का चेहरा नहीं है। उस समय, कोई अभिनेता नहीं थे। हमारे पास केवल हीरो थे। सामान्य धारणा यह थी कि केवल चॉकलेट बॉय छवि वाले ही हीरो बन सकते हैं। और मैं एक दुबला-पतला लड़का हुआ करता था।”

    बाद में, राज़ी अभिनेता ने कहा कि अब एक कलाकार होने के लिए यह एक अच्छा समय है। उन्होंने कहा कि शुक्र है कि समय बदल गया है और अब एक नायक की कोई परिभाषा नहीं है और लोग अब कैसे प्रतिभा पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

     

     

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *