Tue. Apr 16th, 2024
    वाराणसी से पीएम मोदी के खिलाफ कांग्रेस ने एक बार फिर अजय राय को मैदान में उतारा

    लोकसभा चुनाव करीब आते ही कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों की चौथी सूची जारी कर दी है, जिसमें उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कड़ी टक्कर देने के लिए यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय राय को वाराणसी से मैदान में उतारा है।

    यह तीसरी बार है जब राय यूपी की वाराणसी सीट से चुनाव लड़ रहे हैं, जहां वह पहले 2014 और 2019 के चुनावों में पीएम मोदी से हार गए थे। विडंबना यह है कि राय ने अपनी राजनीतिक यात्रा भाजपा के साथ शुरू की, और उन्हें अब भाजपा के खिलाफ ही लड़ना है। हालांकि उन्हें लोकसभा चुनावों में पीएम के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए जाना जाता है।

    RSS से कांग्रेस तक का सफर:

    Livemint की रिपोर्ट के अनुसार, अपने करियर के शुरुआती चरण में, वह हिंदू राष्ट्रवादी संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के ‘कार्यकर्ता’ थे, जिसके बाद वह भाजपा की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के संयोजक बन गए।

    पांच बार विधायक रहे राय तीन बार भाजपा के टिकट पर 1996, 2002 और 2007 में वाराणसी की कोलासला सीट से यूपी विधानसभा के लिए चुने गए।

    2009 में लोकसभा टिकट से इनकार किए जाने के बाद वह भगवा रंग के समूह से अलग हो गए। उनके जाने का कारण वाराणसी से वरिष्ठ भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी को टिकट दिया जाना था, जिसकी उन्हें उम्मीद थी। राय ने समाजवादी पार्टी (सपा) के टिकट पर वाराणसी से चुनाव लड़ा, लेकिन हार गए।

    2012 में, राय ने कांग्रेस में प्रवेश किया और वाराणसी में नवगठित पिंडरा सीट जीती। फिर, 2014 में, उन्हें पहली बार पीएम के खिलाफ खड़ा किया गया, जब मोदी ने पहली बार वाराणसी को अपने निर्वाचन क्षेत्र के रूप में चुना।

    उस चुनाव में आम आदमी पार्टी (आप) के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने भी मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने का फैसला किया था। उस समय राय केजरीवाल के बाद तीसरे स्थान पर रहे। लोकसभा और विधानसभा चुनाव हारने के बाद भी राय ने कांग्रेस में महत्वपूर्ण संगठनात्मक जिम्मेदारियाँ निभाईं।

    नेता की छवि:

    कांग्रेस के नेता की छवि एक ताकतवर व्यक्ति की है और पिछले कुछ वर्षों में वह कई आपराधिक मामलों में शामिल रहे हैं, जिनमें यौन उत्पीड़न, हमला और आगजनी शामिल हैं। उनके एक पूर्व अपराधी, जो अब एक राजनेता हैं, ब्रिजेश सिंह से भी जुड़े होने की अफवाह थी।

    चौथी सूची जारी:

    आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारी में कांग्रेस ने शनिवार को 45 उम्मीदवारों की अपनी चौथी सूची जारी की। इनमें राजगढ़ से पूर्व केंद्रीय मंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह, उत्तर प्रदेश के अमरोहा से पूर्व बसपा नेता दानिश अली और तमिलनाडु के तिरुवल्लूर से पूर्व आईएएस अधिकारी शशिकांत सेंथिल शामिल हैं, जो मौजूदा सांसद के जयकुमार की सीट लेंगे।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *