WLAN की फुल फॉर्म (WLAN full form in hindi)

wlan यानी वायरलेस लैन की फुल फॉर्म होती है – वायरलेस लोकल एरिया नेटवर्क (wireless local area network).

वायरलेस लैन की परिभाषा (WLAN definition in hindi)

परिभाषा – इसे हम वायरलेस लोकल एरिया नेटवर्क बोलते हैं। यह नेटवर्क बिना किसी कनैक्शन के संवाद करने में काम आता है। यह नेटवर्क रेडियो और इंफ्रारेड की मदद से भी संवाद करने के लिए काम में आता है। यह एक तरह का लोकल एरिया नेटवर्क है।

लैन के नेटवर्क को हम काफी उपकरणों से इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे की वाईफाई और ब्लुटूथ से भी हम लैन का कनैक्शन बनाके उसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

बस इस नेटवर्क की सुरक्षा इसकी सबसे बड़ा समस्या रही है। लैन में एक फायदा यह है की हम इसमे सुरक्षा के लिए पासवर्ड लगा सकते हैं और इसके बाद हम जब भी इससे इंटरनेट चलाएँगे यह पासवर्ड माँगेगा और उस के बाद यह नेटवर्क चला देगा।

वायरलेस लैन के फायदे (benefits of wlan in hindi)

  • बहुत तरह के उपकरणों को चलाने में लैन हमारी मदद करता है।
  • लैन का सेटअप करना काफी आसान है और इसका सेटअप केबल के द्वारा भी किया जा सकता है।
  • वायर वाली लैन से ज्यादा वायरलेस लैन को इस्तेमाल करना आसान है क्योंकी इसमे वायर का झंझट नहीं होता।
  • आज कल की ज़िंदगी में लैन काफी समान्य भी है क्योंकि यह ज़्यादातर हर जगह होता है जैसे की घर, ऑफिस और माल आदि।

वायरलेस लैन के नुकसान (disadvantages of wlan in hindi)

  • लैन को हैक करना आसान है इसलिए हमें इसमे अच्छा सा पासवर्ड लगाना चाहिए।
  • वायरलेस हस्तक्षेप इसकी गति और स्थिरता को बिगाड़ सकता है।
  • हमे इसके नेटवर्क को बढ़ाने के लिए रिपीटर की जरूरत पड़ती है।

वायरलेस लैन का हार्डवेयर कनैक्शन (hardware connection of wlan in hindi)

लैन कनैक्शन रेडियो ट्रांसमिटर और रिसीवर की मदद से यंत्रो में काम करते हैं। वायरलेस नेटवर्क में हमें केबल की आवश्यकता नहीं पड़ती पर कई कामों में केबलों की आवश्यकता पड़ती है। जो हमारा वाईफाई नेटवर्क होता है उसे हम 2 मोड में इस्तेमाल कर सकते हैं ऐडहॉक ओर इनफ्रास्ट्रक्चर। ऐडहॉक वाईफाई में कोई भी हार्डवेयर इस्तेमाल नहीं होता इस नेटवर्क को केवल अस्थायी कनैक्शन बनाने के काम में लिया जाता है।

वाईफाई इनफ्रास्ट्रक्चर लैन सेंट्रल डिवाइस को इस्तेमाल करता है जिसे हम वायरलेस एक्सैस पॉइंट (AP) बोलते हैं। बहुत सारे AP को इस्तेमाल करके हम बहुत सारे लैन को जोड़ने के काम में लेते हैं। हम बहुत सारे तारों को जोड़के भी लैन कनैक्शन बना सकते हैं। काफी तरह के जो तकनीकी कार्यक्रम स्कूल, कॉलेज आदि में होते हैं उनमे जब भी कोई प्रोग्राममिंग से मिलता हुआ कोई भी इवैंट होता है, उसमे इसी तरह से तारो को जोड़के एक बड़ा कनैक्शन बनाया जाता है, जिससे की ज्यादा लोग लैन का इस्तेमाल कर सकें।

इसमे काफी एक्सैस पॉइंट भी होते हैं जिनका इस्तेमाल हम लैपटाप आदि में इंटरनेट चलाने के लिए करते हैं। लैन की मदद से हम 2-3 सिस्टमों को जोड़ कर कम्प्युटर गेम भी खेल सकते हैं। उदाहरण के तौर पर काउंटर स्ट्राइक जैसे मिशन गेमों को हम लैन कनैक्शन बनाकर खेला करते थे एक ही टीम में जुड़कर और इसका और भी तरह के गेमों में इस्तेमाल किया जाता था।               

वायरलेस लैन उपकरण (wlan devices in hindi)

वायरलेस नेटवर्क को संभालना दिन प्रतिदिन मुश्किल होता जा रहा है क्योंकि इसकी तादाद काफी बढ़ती जा रही है। लैन को हम काफी यंत्रो में इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे की मोबाइल फोन, लैपटाप, टेबलेट आदि। इस तरह से लैन कनैक्शन आज के समय में हमारे लिए काफी उपयोगी है क्योंकि हमारा ज़्यादातर काम इंटरनेट के माध्यम से ही हो पाता है।

इस लेख से सम्बंधित यदि आपका कोई सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।


3 Comments

  • ashok, June 27, 2018 @ 21:23 Reply

    wlan aur lan mein difference kya hai?

  • Mohd Asad, January 30, 2019 @ 23:01 Reply

    Wireless networking के लिए कौन कौन सामान चाहिए।

  • Nandkuar Srinivas Inamdar, August 12, 2019 @ 20:46 Reply

    wlan aur lan me me kya fark hota hai ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *