शुक्रवार, जनवरी 24, 2020

लोकसभा में 311 मतों के समर्थन के साथ पारित हुआ नागरिकता संशोधन विधेयक

Must Read

झारखंड : पत्थलगड़ी हत्याकांड के बाद सीएम हेमंत सोरेन ने स्थगित किया मंत्रिमंडल विस्तार

पश्चिम सिंहभूम जिले में सात लोगों की हत्या के बाद झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने मंत्रिमंडल विस्तार...

अडानी गैस के शेयरों में 14 फीसदी की भारी गिरावट

अडानी गैस के शेयरों में शुक्रवार को बीएसई में 14 फीसदी की भारी गिरावट आई। ऐसा पेट्रोलियम एंड नेचुरल...

भाजपा के पूर्व वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने कहा, पार्टी को भुगतना पड़ेगा सीएए का खामियाजा

भाजपा के पूर्व वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर भगवा पार्टी पर हमला बोलते...

लोकसभा में आखिरकार सोमवार की आधी रात के बाद नागरिकता संशोधन विधेयक पारित कर दिया। जिसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने वाले गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता प्रदान की जाएगी। जो  वहां धार्मिक उत्पीड़न का सामना कर रहे थे।

सात घंटे की लंबी बहस के बाद, नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 लोकसभा में पारित किया गया। जिसमें 311 सदस्य इसके पक्ष में थे और इसके खिलाफ 80 मतदान हुए थे।

शिवसेना सांसद समेत विपक्षी सदस्यों द्वारा लाए गए कई संशोधनों को ध्वनि मत से या एक विभाजन द्वारा पराजित किया गया था।

प्रस्तावित कानून के अनुसार, हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के सदस्य, जो पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से 31 दिसंबर, 2014 तक आए हैं, और वहां धार्मिक उत्पीड़न का सामना कर रहे हैं, उन्हें अवैध अप्रवासी नहीं माना जाएगा। उन्हें भारतीय नागरिकता दी जाएगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार रात को लोकसभा में नागरिकता (संशोधन) विधेयक पारित होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि प्रस्तावित कानून भारत के सदियों पुराने अस्मिताओं और मानवीय मूल्यों में विश्वास के अनुरूप है।

प्रधानमंत्री ट्विट करते हुए लिखा कि “प्रसन्नता है कि लोकसभा ने एक समृद्ध और व्यापक बहस के बाद नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019 पारित किया है। मैं उन विभिन्न सांसदों और पार्टियों का धन्यवाद करता हूं जिन्होंने इस विधेयक का समर्थन किया। यह विधेयक भारत के सदियों पुराने अस्मिता और मानवीय मूल्यों के विश्वास के अनुरूप है।

वहीं दूसरी तरफ सीपीआई (एम) के नेता सीताराम येचुरी ने विधेयक के विरोध में ट्विट करते हुए लिखा कि, “हम जिन्ना और सावरकर के सपनों के इस बिल को अस्वीकार करते हैं। यह असंवैधानिक है, और हमारे लोगों को विभाजित करता है। हम सभी संभावित मंचों पर इसके खिलाफ लड़ते रहेंगे।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

झारखंड : पत्थलगड़ी हत्याकांड के बाद सीएम हेमंत सोरेन ने स्थगित किया मंत्रिमंडल विस्तार

पश्चिम सिंहभूम जिले में सात लोगों की हत्या के बाद झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने मंत्रिमंडल विस्तार...

अडानी गैस के शेयरों में 14 फीसदी की भारी गिरावट

अडानी गैस के शेयरों में शुक्रवार को बीएसई में 14 फीसदी की भारी गिरावट आई। ऐसा पेट्रोलियम एंड नेचुरल गैस रेग्युलेटरी बोर्ड ऑफ इंडिया...

भाजपा के पूर्व वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने कहा, पार्टी को भुगतना पड़ेगा सीएए का खामियाजा

भाजपा के पूर्व वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर भगवा पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा है कि भाजपा...

ऑकलैंड टी-20 : 3 मेजबान बल्लेबाजों के अर्धशतक, भारत के सामने विशाल लक्ष्य

न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम ने अपने तीन बल्लेबाजों के अर्धशतकों के दम पर यहां के ईडन पार्क मैदान पर शुक्रवार को जारी पहले टी-20 मुकाबले...

फेसबुक ने भारत के लिए नए मार्केटिंग हेड की घोषणा की

अपनी नेतृत्व टीम का विस्तार करते हुए सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी फेसबुक ने भारत में नए मार्केटिंग हेड की घोषणा की। अपने एप्स...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -