सोमवार, फ़रवरी 17, 2020

लीबिया में संघर्ष से 90000 लोग हुए विस्थापित: यूएन

Must Read

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के...

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नें नागरिकता क़ानून के खिलाफ विरोध में लिया भाग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने शुक्रवार को मांग की कि केंद्र देश में शांति और सद्भाव...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

लीबिया में सैन्य संघर्ष के कारण अप्रैल से 90000 से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं। विद्रोही नेता खलीफा हफ्तार की सेना और संयुक्त राष्ट्र समर्थित सरकार के बीच हिंसक संघर्ष के कारण लीबिया की आवाम को विस्थापन के लिए मज़बूर होना पड़ रहा है।

यूएन के महासचिव के उप प्रवक्ता फरहान हक़ ने बताया कि “सिर्फ इस हफ्ते में 8000 से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं और उनमे से आधों की बच्चे होने की सम्भावना है। सहायता कर्मचारी आंतरिक विस्थापित लोगो और हिंसक गतिविधियों से प्रभावित लोगो को मदद मुहैया कर रहे हैं। त्रिपोली व उसके आस-पास क्षेत्रों में 47000 से अधिक लोगो को मदद की जरुरत है।”

विश्व स्वास्थ्य संघठन की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, 390 से अधिक लोगो की मौत हो गयी है और 1900 से अधिक लोग जख्मी हुए हैं। त्रिपोली में 12 अप्रैल को संघर्ष की शुरुआत हुई थी। एलएनए समर्थित सरकार का पूर्वी लीबिया पर नियंत्रण है जबकि यूएन समर्थित गोवेर्मेंट ऑफ़ नेशनल एकॉर्ड का त्रिपोली से लेकर पश्चिमी लीबिया तक नियंत्रण है।

शुरुआत में अमेरिका की सरकार का यूएन समर्थित सरकार को समर्थन था जिसके प्रधानमंत्री फ़ाएज़ अल सेरराज थे। अमेरिका के कूटनीतिज्ञों और अधिकारीयों का रुसी समर्थित खलीफा हफ्तार से भी संपर्क है। अधिकतर वैश्विक समुदाय ने इस तीव्र हिंसा का शांतिपूर्व समाधान निकालने की मांग की थी।

मानवीय कारकर्ताओं के मुताबिक 10000 से अधिक पुरुष, बच्चे और महिलाएं फ्रंट लाइन क्षेत्र में तत्काल फंसे हुए हैं और 400000 से अधिक क्षेत्र सीधे तौर पर संघर्ष से प्रभावित हैं। हालिया संघर्ष की शुरुआत से 460 लोगो की मौत हुई है और उसमे 29 नागरिक थे और 2400 से अधिक अधिकतर नागरिक बुरी तरह घायल थे।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal)...

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नें नागरिकता क़ानून के खिलाफ विरोध में लिया भाग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने शुक्रवार को मांग की कि केंद्र देश में शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए संशोधित...

जम्मू कश्मीर मामले में भारत का तुर्की को जवाब; ‘आंतरिक मामलों में दखल ना दें’

भारत ने शुक्रवार को अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान जम्मू और कश्मीर पर तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन की टिप्पणियों का जवाब दिया...

शाहीन बाग़ के लोगों ने वैलेंटाइन डे पर प्रधानमंत्री मोदी को दिया न्योता

शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शुक्रवार को उनके साथ वेलेंटाइन डे मनाने और आने का निमंत्रण...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -