गुरूवार, अक्टूबर 24, 2019

लीबिया के विद्रोहियों ने त्रिपोली में पानी की सप्लाई को किया बाधित

Must Read

बैडमिंटन : सायना की संघर्षपूर्ण जीत, कश्यप, श्रीकांत और समीर पहले दौर में बाहर (लीड-1)

पेरिस, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। सायना नेहवाल ने यहां जारी फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर में मिली संघर्षपूर्ण...

उत्तराखंड पंचायत चुनाव में रावत व योगी के गृह जनपद में भाजपा पर भारी पड़ी कांग्रेस

देहरादून 23 अक्टूबर, (आईएएनएस)। उत्तराखंड में हुए पंचायत चुनाव में सबसे चौंकाने वाला नतीजा पौड़ी जिले का रहा है।...

गैर-तेल क्षेत्र की कंपनियों के लिए भी खुला पेट्रोल, डीजल की बिक्री का द्वार

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल की खुदरा बिक्री के नियमों को सरल बनाते...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

लीबिया की राजधानी के निवासियों और अधिकारीयों ने बताया कि बंदूकधारियों ने त्रिपोली की पानी सप्लाई करने वाली मुख्य पाइपलाइन को काट दिया है। हफ्तों से संघर्ष कर रहे निवासी बेहद बुरी स्थित में आ खड़े हुए हैं। प्रोजेक्ट प्रशासक ने कहा कि “हथियारबंद लोगो ने रविवार को सुबह ग्रेट मैन मेड रिवर प्रोजेक्ट पर धावा बोला था। यह एक पाइप नेटवर्क है जो सहारा से देश में पश्चिमी क्षेत्र में अंडरग्राउंड जल सप्लाई करता है।”

बयान में कहा कि “हथियारबंद व्यक्तियों ने सुविधा  बोला और कर्मचारियों को जबरन पानी के निर्यात के सभी वाल्व को बंद करने के लिए कहा और इसके बाद सभी जगहों पर पानी सप्लाई होना बंद हो गया था।” इस पाइपलाइन पर हमले से शहर के 25 लाख लोगो को दो दिनों तक पानी की कमी से जूझना होगा।

सरकारी विभाग ने कहा कि “एक बार जब हमलावरों की मांगो का पता चल जायेगा पानी की सप्लाई को बहाल कर दिया जायेगा।” त्रिपोली में मीडिया ने राजधानी और उसके नजदीकी जिलों में पानी की रोक की पुष्टि की है। त्रिपोली में लोग अपनी जरूरतों की पूर्ती के लिए निजी जल डिलीवरी पर निर्भर होना पड़ रहा है।”

त्रिपोली की सरकार ने उसी समूह पर पानी रोकने का इल्जाम लगाया है जिसने साल 2017 में भी यह हरकत की थी और इस समूह का कमांडर खलीफा एहनेश है जो हफ्तार की सेना से जुड़ा हुआ है। एलएनए ने इस आरोप को खारिज किया है।

लीबिया में यूएन मानवीय समन्वयक मारिया रिबेइरो ने सोमबार को बयान में पानी रोकने की आलोचना की है। उन्होंने कहा कि “नागरिक ढांचों के खिलाफ ऐसे हमलो को युद्ध अपराध में माना जाता है।

त्रिपोली में संघर्ष की शुरुआत बीते माह हुई थी और इसमें 510 लोगो की मृत्यु हुई है और 2500 से अधिक लोग बुरी तरह जख्मी हुए हैं। इसके आलावा 75000 लोग अपने घर छोड़कर भागने के लिए मज़बूर हुए थे। हज़ारो प्रवासी केंद्गृहों में फंस गए हैं।

इस संघर्ष ने स्कूलों को  बंद रखने के लिए मज़बूर किया है, परिवारों को अलग दिशाओं में बांटने का काम किया है और इसके कारण बिजली की कटौती हो रही है। देश में अराजकता का माहौल साल 2011 से जारी है जब तानाशाह गद्दाफी की हत्या की गयी थी।

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बैडमिंटन : सायना की संघर्षपूर्ण जीत, कश्यप, श्रीकांत और समीर पहले दौर में बाहर (लीड-1)

पेरिस, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। सायना नेहवाल ने यहां जारी फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर में मिली संघर्षपूर्ण...

उत्तराखंड पंचायत चुनाव में रावत व योगी के गृह जनपद में भाजपा पर भारी पड़ी कांग्रेस

देहरादून 23 अक्टूबर, (आईएएनएस)। उत्तराखंड में हुए पंचायत चुनाव में सबसे चौंकाने वाला नतीजा पौड़ी जिले का रहा है। यहां जिला पंचायत सीटों के...

गैर-तेल क्षेत्र की कंपनियों के लिए भी खुला पेट्रोल, डीजल की बिक्री का द्वार

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल की खुदरा बिक्री के नियमों को सरल बनाते हुए बुधवार को सभी कंपनियों...

रविदास मंदिर पर ओछी राजनीति कर रही कांग्रेस और आप : भाजपा

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर,(आईएएनएस)। दिल्ली के तुगलकाबाद में रविदास मंदिर के मुद्दे पर भाजपा ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर ओछी राजनीति करने...

रविदास मंदिर पर ओछी राजनीति कर रही कांग्रेस और आप : भाजपा

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर,(आईएएनएस)। दिल्ली के तुगलकाबाद में रविदास मंदिर के मुद्दे पर भाजपा ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर ओछी राजनीति करने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -