लीबिया: त्रिपोली के नागरिक इलाको में गोलाबारी की यूएन ने की निंदा

Must Read

राहुल गांधी को कोरोनावायरस की पूरी जानकारी नहीं: बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा

मोदी सरकार द्वारा COVID-19 स्थिति को संभालने की आलोचना के लिए राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर हमला करते हुए,...

कार्तिक आर्यन ने आगामी फिल्म ‘दोस्ताना 2’ के बारे में दी रोचक जानकारी

अभिनेता कार्तिक आर्यन (Kartik Aaryan) आज बॉलीवुड में सबसे अधिक मांग वाले अभिनेताओं में आसानी से शामिल हैं। टाइम्स...

भारत में कोरोनावायरस के मामले 1.5 लाख के करीब, पढ़ें पूरी जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज कहा है कि 6,535 नए संक्रमणों के बाद भारत में कोरोनोवायरस बीमारी (COVID-19) के...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

संयुक्त राष्ट्र ने त्रिपोली के नागरिको के बसागत वाले क्षेत्रों में गोलाबारी की चिंतित प्रक्रिया व्यक्त की है। यूएन के प्रवक्ता ने कहा कि “किसी भी मात्रा में यह पूरी तरह अस्वीकृत है।” यूएन के महासचिव एंटोनियो गुएटरेस के प्रवक्ता स्टेफेन दुजाररिक ने कहा कि “त्रिपोली के नागरिक इलाको में अंधाधुंध गोलाबारी की रिपोर्ट्स पर यूएन बेहद गंभीर रूप से चिंतित है।”

यूएन की आलोचना

उन्होंने नागरिकों की जिंदगी को सलामत रखने के मुद्दे को रेखांकित किया, मानवीय सहयोगियों की बेशर्त और तत्काल पंहुच की मांग की है। हमारे सहकर्मियों ने बताया कि त्रिपोली में निरंतर मानवीय हालात बिगड़ते जा रहे हैं क्योंकि अधिक जनसँख्या वाले क्षेत्रों में भी भारी संघर्ष जारी है।”

उन्होंने बताया कि “ढांचागत संरचना बिलकुल ध्वस्त हो चुकी है, इसके कारण विवादित क्षेत्रों में नागरिक बिजली कटौती और पानी की कमी का सामना कर रहे हैं। जरुरत के पदार्थो जैसे भोजन, दवाई और ईंधन तक पंहुच दुर्लभ होती जा रही है।” यूएन माइग्रेशन एजेंसी के मुताबिक, लीबिया में संघर्ष के कारण करीब 39000 लोग विस्थापित हुए हैं।

यूएन प्रवक्ता ने बताया कि “इस सप्ताह की शुरुआत में 655 शरणार्थियों और प्रवासियों को क़स्र बिन घासीर नज़रबंद कैद केंद्र से हटाया गया था।” नॉन प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन ‘डॉक्टर्स विदआउट बॉर्डर्स’ ने पिछली बार कहा था कि “वारदात के दौरान नज़रबंदी कैदियों को मारा और जख्मी किया गया था। 700 से अधिक निहत्थे पुरुष, महिलाएं और बच्चे इन केन्द्रो में फंसे हुए हैं। कई रिपोर्ट्स के मुताबिक, कई लोगो की इस हादसे में मौत हुई थी और 12 लोग जख्मी हुए थे।”

यूएन के आंकड़ों के मुताबिक, त्रिपोली के क्षेत्र में सात नज़रबंद शिविरों में 3000 से अधिक शरणार्थी और प्रवासी फंसे हुए हैं। मिलिट्री के कमांडर खलीफा हफ्तार की पूर्वी सेना और यूएन द्वारा मान्यता प्राप्त सरकार के सैनिकों के बीच भीषण संघर्ष जारी है।

6 अप्रैल को भारत ने 15 सीआरपीएफ के शान्ति स्थापित करने वाले सैनिको को त्रिपोली से हटा दिया था। इस निर्णय के बाद अन्य देशों, अमेरिका और नेपाल ने भी यही कार्य किया था। भारत ने आग्रह किया कि त्रिपोली से भारतीय नागरिक निकल जाए क्योंकि हालात काफी बिगड़ते जा रहे हैं।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

राहुल गांधी को कोरोनावायरस की पूरी जानकारी नहीं: बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा

मोदी सरकार द्वारा COVID-19 स्थिति को संभालने की आलोचना के लिए राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर हमला करते हुए,...

कार्तिक आर्यन ने आगामी फिल्म ‘दोस्ताना 2’ के बारे में दी रोचक जानकारी

अभिनेता कार्तिक आर्यन (Kartik Aaryan) आज बॉलीवुड में सबसे अधिक मांग वाले अभिनेताओं में आसानी से शामिल हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया की हालिया रिपोर्ट में,...

भारत में कोरोनावायरस के मामले 1.5 लाख के करीब, पढ़ें पूरी जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज कहा है कि 6,535 नए संक्रमणों के बाद भारत में कोरोनोवायरस बीमारी (COVID-19) के कुल मामले 145,380 तक पहुँच...

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी और लोगों से सवाल पूछने...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव की...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -