शनिवार, दिसम्बर 7, 2019

लाहौर हाईकोर्ट का आदेश, विदेश जाने के लिए लिखित वचन दें नवाज शरीफ

Must Read

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है।...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के...

पाकिस्तान के लाहौर हाईकोर्ट (एलएचसी) ने शनिवार को पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उसके भाई शहबाज शरीफ को नवाज के इलाज के लिए विदेश जाने के बारे में लिखित वचन देने का आदेश दिया है। एक्सप्रेस ट्रिब्यून की खबरों के अनुसार, कोर्ट ने पीएमएल-एन अध्यक्ष शहबाज शरीफ द्वारा दाखिल याचिका पर शनिवार को फिर सुनवाई शुरू की थी।

जिसमें उन्होंने अपने बीमार भाई को इलाज के लिए विदेश ले जाने के संबंध में इमरान खान सरकार द्वारा 7 अरब पाकिस्तानी रुपये के बांड भरने का विरोध किया था। पाकिस्तान सरकार ने शर्त रखी थी कि बांड जमा करवाने के बाद ही पूर्व प्रधानमंत्री का नाम नो-फ्लाई लिस्ट से हटाया जाएगा।

अतिरिक्त अटॉर्नी जनरल (एएजी) चौधरी इश्तियाक ए. खान ने कहा, “सरकार को कोई समस्या नहीं है, अगर नवाज शरीफ इलाज के लिए विदेश जाना चाहते हैं, लेकिन उन्हें पहले अदालत को संतुष्ट करना होगा।”

उन्होंने कहा, “नवाज शरीफ के पास कोर्ट के खाते में हर्जाना या बांड भरने का विकल्प है। अगर वह यह सब कर देते हैं कि तो हमें उनके देश छोड़ने पर कोई समस्या नहीं है।”

इलाज के बाद नवाज शरीफ के वापस आने की गारंटी देते हुए पीएमएल-एन के अध्यक्ष शहबाज ने अदालत से कहा, “मैं उनके साथ जा रहा हूं। नवाज इलाज के बाद देश वापस आ जाएंगे।”

इस पर अदालत ने कहा, “हम नवाज और शहबाज से लिखित वचन ले सकते हैं। केंद्र सरकार भी इसे देख सकती है। यह वचन अदालत में दिया जाएगा। अगर वचन नहीं निभाया गया तो यह अदालत की अवमानना होगी।”

गृहमंत्री ने बुधवार को कहा था कि नवाज शरीफ को इलाज कराने के लिए चार सप्ताह के लिए विदेश जाने की एकबार अनुमति दी जा सकती है, लेकिन उन्हें हर्जाना बांड भरना होगा।

इसके बाद पीएमएल-एन ने इस निर्णय का विरोध करते हुए शुक्रवार को इसे हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है। एंडरसन एशेज सीरीज के पहले...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के खिलाफ मोर्चेबंदी की। सपा, कांग्रेस...

एप्पल 2021 में लॉन्च कर सकती है पूर्ण वायरलेस आईफोन

प्रसिद्ध विश्लेषक मिंग-ची कुओ ने खुलासा किया है कि एप्पल कंपनी 2021 में पूरी तरह से वायरलेस आईफोन लॉन्च करने की योजना बना रही...

एनजीएमए के महानिदेशक को मिला 3 साल का सेवा विस्तार

नेशनल गैलरी ऑफ मॉर्डन आर्ट (एनजीएमए) के महानिदेशक अद्वैत गणनायक को तीन साल का सेवा विस्तार दिया गया है। संस्कृतिक मंत्रालय ने शनिवार को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -