Fri. Jun 14th, 2024

    कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को लक्षद्वीप के लोगों के साथ खड़े होकर अपना आश्वासन देते हुए कहा कि “सत्ता में बैठे अज्ञानी कट्टरपंथी लोग द्वीपों को नष्ट कर रहे हैं। उनका बयान कांग्रेस द्वारा लक्षद्वीप के प्रशासक प्रफुल्ल पटेल को तत्काल हटाने की मांग करने के एक दिन बाद आया  है।  प्रफुल्ल पटेल पर आरोप लगाया गया है कि वह न केवल लक्षद्वीप की शांति और संस्कृति को नष्ट कर रहे हैं, बल्कि मनमाने प्रतिबंध लगाकर लोगों को परेशान भी कर रहे हैं।

    “लक्षद्वीप समुद्र में भारत का गहना है। सत्ता में बैठे अज्ञानी इसे नष्ट कर रहे हैं। मैं लक्षद्वीप के लोगों के साथ खड़ा हूं”- राहुल गांधी ने बुधवार को ट्वीट करके कहा 

    कांग्रेस ने यह भी आरोप लगाया है कि प्रशासक लक्षद्वीप पर शराब की अनुमति दे रहे है, जो अब तक प्रतिबंधित था और स्थानीय लोगों को परेशान करने के उद्देश्य से असामाजिक गतिविधि रोकथाम (पासा) अधिनियम लगाया जा रहा है। इसके अलावा पंचायतों और उसके द्वारा लाए गए नए प्रावधानों के तहत विध्वंस कर रहा है।

    स्थानीय लोगों के हंगामे के बाद लक्षद्वीप प्रशासक को लेकर चल रहा विवाद अब भाजपा शासित केंद्र सरकार के चेहरे पर फूटता दिख रहा है। इस मामले में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर यह मजबूरी जताई है कि इस मामले में वह दखल दे और समाधान निकाल कर इसे खत्म करें। 

    “लक्षद्वीप के प्रशासक श्री प्रफुल्ल खोड़ा पटेल द्वारा घोषित जनविरोधी नीतियों से भविष्य को खतरा है। प्रशासक ने निर्वाचित प्रतिनिधियों या जनता से विधिवत परामर्श किए बिना एकतरफा व्यापक परिवर्तनों का प्रस्ताव रखा है।लक्षद्वीप के लोग इन मनमानी कार्यों का विरोध कर रहे हैं, ”उन्होंने अपने पत्र में कहा।

    केंद्र शासित प्रदेश लक्षद्वीप के नए केंद्रीय प्रशासक प्रफुल्ल खोड़ा पटेल की गतिविधियों और नीति की पहल ने न केवल विपक्षी दलों को बल्कि भाजपा को भी नाराज कर दिया है। भाजपा के कई स्थानीय नेताओं ने विरोध में इस्तीफा दे दिया है।

    राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी लक्षद्वीप के सांसद मोहम्मद फैजल द्वारा उठाए गए मुद्दों पर प्रधानमंत्री का ध्यान आकर्षित करते हुए, पार्टी प्रमुख शरद पवार ने आशंका व्यक्त की कि प्रशासक की नई नीतियां स्थानीय समुदाय के जीवन के तरीके को बाधित कर सकती हैं और मांग की कि इन्हें रद्द कर दिया जाना चाहिए। उन्होंने केंद्र शासित प्रदेश में नए प्रशासक की नियुक्ति की मांग की है। केरल में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी मंत्री एके शशींद्रन ने कहा कि राज्य सरकार केंद्र शासित प्रदेश के लोगों के हितों की रक्षा के लिए सभी आवश्यक कदम उठाना चाहती है। अब तक कई विपक्षी नेता पटेल को पद से हटाने की मांग को लेकर राष्ट्रपति के पास याचिका दायर कर चुके हैं।

    By दीक्षा शर्मा

    गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *